Monday, 23 November 2020

भारत नेविगेशन उपग्रह प्रणाली के लिए IMO मान्यता पाने वाला बना चौथा देश

भारत नेविगेशन उपग्रह प्रणाली के लिए IMO मान्यता पाने वाला बना चौथा देश

 


अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (IMO) द्वारा इंडियन रीजनल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) को  हिंद महासागर क्षेत्र में संचालन के लिए वर्ल्ड वाइड रेडियो नेविगेशन सिस्टम (WWRNS) के एक भाग के रूप में मान्यता दी गई है। भारत अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (IMO) द्वारा मान्यता मिलने के साथ स्वतंत्र क्षेत्रीय नेविगेशन उपग्रह प्रणाली वाला दुनिया का चौथा देश बन गया है। अन्य तीन देश जिनके पास IMO द्वारा मान्यता प्राप्त नेविगेशन सिस्टम हैं, वे अमेरिका, रूस और चीन हैं।


WARRIOR 4.0 | Banking Awareness Batch for SBI, RRB, RBI and IBPS Exams | Bilingual | Live Class


IRNSS के बारे में:

  • इंडियन रीजनल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) को हिंद महासागर के जल में जहाजों के नेविगेशन में सहायता के लिए सटीक स्थिति सूचना सेवाएं प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया था।
  • नौवहन के महानिदेशक (DGS) ने IRNSS को WWRNS के घटक के रूप में मान्यता देने के लिए IMO से संपर्क किया था, जो कि अमेरिका के स्वामित्व वाली ग्लोबल पोजिशन सिस्टम (GPS) या रूस के ग्लोबल नैविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (GLONASS) - इस प्रक्रिया में लगभग दो साल लग गए । 
  • आईआरएनएसएस एक आधुनिक और अधिक सटीक नेविगेशन प्रणाली थी और किसी भी समय, भारतीय जल में कम से कम 2,500 व्यापारी जहाज हैं जो अब सिस्टम का उपयोग करने में सक्षम होंगे।
  • IRNSS का उपयोग भारतीय सीमा से लगभग 1,500 किमी के क्षेत्र में समुद्र के पानी में जहाजों के नेविगेशन में सहायता के लिए किया जाएगा।

      Find More National News Here

      Post a Comment

      Whatsapp Button works on Mobile Device only

      Start typing and press Enter to search