Home   »   भारत का आयुध फैक्ट्री दिवस 2023:...

भारत का आयुध फैक्ट्री दिवस 2023: 18 मार्च

भारत का आयुध फैक्ट्री दिवस 2023: 18 मार्च |_30.1

भारत का आयुध फैक्ट्री दिवस: 

आयुध फैक्ट्री दिवस 2023: भारत में आयुध फैक्ट्री दिवस हर साल 18 मार्च को मनाया जाता है, जो उपखंडीय शासन के दौरान ब्रिटिश द्वारा कोलकाता में कॉसिपोर में पहली आयुध फैक्ट्री की स्थापना के अवसर को याद करता है। रक्षा मंत्रालय इस दिन को भारतीय झंडा फहराकर, राष्ट्रगान गाकर और भारतीय सशस्त्र बलों द्वारा उपयोग किए जाने वाले विविध आर्टिलरी और सैन्य उपकरणों का प्रदर्शन करके इस दिन को मनाता है। आयुध फैक्ट्रियों का कार्य होता है सैन्य के लिए शस्त्र उत्पादों के अध्ययन, विकास, परीक्षण, उत्पादन और विपणन का जिम्मा उठाना।

भारत का आयुध फैक्ट्री दिवस: महत्व

भारत का आयुध फैक्ट्री दिवस 2023: 18 मार्च |_40.1

यह दिन ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों के भारतीय रक्षा क्षमताओं में योगदान को मान्यता देता है और इन फैक्ट्रियों में काम करने वाले कर्मचारियों के अथक प्रयासों को सम्मानित करता है, जो देश की सुरक्षा और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उत्पादित उपकरणों का उपयोग करते हुए साहसी सैनिकों को श्रद्धांजलि देने का अवसर होता है।

भारतीय आयुध निर्माणी दिवस का जश्न भारत की सुरक्षा क्षमताओं में आयुध निर्माण कारखानों के योगदान और उन कारखानों में काम करने वाले कर्मचारियों के अथक प्रयास को मानता है। यह एक अवसर है देश की सुरक्षा में अहम भूमिका निभाने वाले आयुध निर्माण कारखानों की उपलब्धियों को सम्मानित करने का। इस दिन का जश्न रखता है कि आयुध निर्माण कारखानों का महत्व क्या है और उनका भारत की सुरक्षा ढांचे के लिए योगदान क्या है। इससे लोगों में इन कारखानों के महत्व की जागरूकता बढ़ती है और उनके द्वारा विकसित तकनीक और आयुधों के बारे में सार्वजनिक को जानकारी मिलती है। संपूर्णतः, भारतीय आयुध निर्माणी दिवस एक महत्वपूर्ण दिन है जो आयुध निर्माण कारखानों के खास योगदान को सामने लाता है और उनके द्वारा देश के रक्षा ढांचे को सुरक्षित रखने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को उजागर करता है।

भारत का आयुध फैक्ट्री दिवस: इतिहास

भारत में ऑर्डनेंस फैक्ट्रियों का काम पहले ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड (OFB) के तहत किया जाता था। हालांकि, 2021 में भारत सरकार ने फौजी उत्पादन विभाग, रक्षा मंत्रालय (DDP) के सात सरकारी स्वामित्व वाली कंपनियों को इन 41 उत्पादन इकाइयों के नियंत्रण में ट्रांसफर करने का फैसला लिया। यह ट्रांसफर 1 अक्टूबर, 2021 को हुआ था, जिससे पुराने ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड का विघटन हो गया।

यद्यपि गन एंड शैल फैक्ट्री, पहले कूपिपोर गन कैरिज एजेंसी के नाम से जानी जाती थी, 1801 में स्थापित की गई थी, लेकिन ऑर्डिनेंस फैक्ट्री का इतिहास 1712 में बनता है जब डच ओस्टेंड कंपनी ने नॉर्थ 24 परगनास, वर्तमान दिन के पश्चिम बंगाल में एक गनपाउडर फैक्ट्री स्थापित की थी। 1801 से पहले भी इसी क्षेत्र में अन्य गनपाउडर और राइफल फैक्ट्री भी उभरी थीं।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • भारतीय आयुध कारखानों की स्थापना: 1712;
  • भारतीय आयुध कारखानों का मुख्यालय: आयुध भवन, कोलकाता;
  • भारतीय आयुध कारखानों के महानिदेशक: संजीव किशोर।

FAQs

भारतीय आयुध कारखानों की स्थापना कब हुई ?

भारतीय आयुध कारखानों की स्थापना 1712 में हुई।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *