Tuesday, 8 February 2022

मानव तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए आरपीएफ ने राष्ट्रव्यापी "एएएचटी ऑपरेशन" शुरू किया

मानव तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए आरपीएफ ने राष्ट्रव्यापी "एएएचटी ऑपरेशन" शुरू किया

 


भारतीय रेलवे सुरक्षा बल ने मानव तस्करी को रोकने के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू किया है। "ऑपरेशन एएएचटी (Operation AAHT)" के हिस्से के रूप में, सभी लंबी दूरी की ट्रेनों/मार्गों पर विशेष टीमों को तैनात किया जाएगा, जो पीड़ितों, विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों को तस्करों के चंगुल से बचाने पर ध्यान केंद्रित करेंगे। रेलवे, जो प्रतिदिन देश भर में लगभग 21,000 ट्रेनों का संचालन करता है, उन तस्करों के लिए परिवहन का सबसे विश्वसनीय साधन है जो अक्सर अपने पीड़ितों को लंबी दूरी की ट्रेनों में ले जाते हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

 हिन्दू रिव्यू जनवरी 2022, Download Monthly Hindu Review PDF in Hindi


2017-21 के बीच 2,000 से अधिक महिलाओं और बच्चों को तस्करों के चंगुल से छुड़ाने वाले आरपीएफ ने मामलों की बढ़ती संख्या के साथ मानव तस्करी पर कार्रवाई तेज कर दी है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो हर साल औसतन मानव तस्करी के लगभग 2,200 मामले दर्ज करता है।


मानव तस्करी क्या है?

मानव तस्करी, विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों का यौन शोषण, जबरन विवाह, घरेलू दासता, अंग प्रत्यारोपण, नशीली दवाओं की तस्करी आदि के लिए एक संगठित अपराध है और मानवाधिकारों का सबसे घिनौना उल्लंघन है। हजारों भारतीयों और पड़ोसी देशों के व्यक्तियों को हर दिन किसी न किसी गंतव्य पर ले जाया जाता था जहां उन्हें गुलामों की तरह रहने के लिए मजबूर किया जाता था। “उन्हें अवैध रूप से गोद लेने, अंग प्रत्यारोपण, सर्कस में काम करने, भीख मांगने और मनोरंजन उद्योग के लिए भी तस्करी की जा रही है।


सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • भारतीय रेलवे की स्थापना: 16 अप्रैल 1853, भारत;
  • भारतीय रेलवे मुख्यालय: नई दिल्ली;
  • रेल मंत्री: अश्विनी वैष्णव।


Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search