Friday, 17 July 2020

मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने Tangams जनजाति पर लिखी पुस्तक का किया विमोचन

मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने Tangams जनजाति पर लिखी पुस्तक का किया विमोचन

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू द्वारा ‘The Tangams: An Ethnolinguistic Study Of The Critically Endangered Group of Arunachal Pradesh’ नामक पुस्तक का विमोचन किया गया। यह पुस्तक अरुणाचल प्रदेश की विलुप्त होती समुदाय की भाषा टंगम्स पर आधारित है, जो अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सियांग जिले के कोगिंग गांव में रहते है।

यह पुस्तक नई दिल्ली के लुप्तप्राय भाषाओं के केंद्र राजीव गांधी विश्वविद्यालय और हिमालयन पब्लिशर्स द्वारा प्रकाशित की गई है। लुप्तप्राय भाषाओं का केंद्र विश्वविद्यालय अनुदान आयोग प्रायोजित केंद्र है।


Tangams के बारे में:

Tangams, अरुणाचल की आदि जनजाति जातीय भाषाई समूहों में से एक हैं। CFEL फ़ील्ड सर्वेक्षण 2016 के अनुसार, तन्गाम्स समुदाय की कुल आबादी केवल 253 है, जो केवल एक गांव में रहती है। इस पुस्तक में अध्ययन के परिणामों को अध्यायों में प्रस्तुत किया गया है जिसमें भाषा के तानी समूह के भीतर भाषा संरचनाओं के ज्ञान में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि देने के लिए तन्गाम्स भाषा पर अध्ययन शामिल है।


Post a comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search