Home   »   अयोध्या राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा...

अयोध्या राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा क्या है और इसका समय क्या है?

अयोध्या राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा क्या है और इसका समय क्या है? |_30.1

प्राण प्रतिष्ठा हिंदू धर्म में एक मौलिक और गहन आध्यात्मिक अनुष्ठान है, जो विशेष रूप से अयोध्या में राम मंदिर के बहुप्रतीक्षित उद्घाटन के संदर्भ में महत्वपूर्ण है। इस प्राचीन समारोह में एक देवता की मूर्ति का अभिषेक शामिल है, इस मामले में, भगवान राम, इसे दिव्य ऊर्जा और जीवन से भर देते हैं। राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा सिर्फ एक अनुष्ठान नहीं है; यह एक ऐतिहासिक क्षण है जो दुनिया भर के लाखों भक्तों के साथ जुड़ा हुआ है।

 

राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा की तिथि और समय

अयोध्या के राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह 22 जनवरी, 2024 को निर्धारित है। इस पवित्र कार्यक्रम का सटीक समय सावधानीपूर्वक दोपहर 12:15 बजे से 12:45 बजे के बीच निर्धारित किया गया है। यह समय सीमा हिंदू ज्योतिष के अनुसार शुभ क्षणों के आधार पर चुनी जाती है और मूर्ति में दिव्य उपस्थिति का आह्वान करने के लिए सबसे अनुकूल माना जाता है।

 

प्राण प्रतिष्ठा की प्रक्रिया

प्राण प्रतिष्ठा एक विस्तृत अनुष्ठान है जिसमें कई चरण शामिल होते हैं, जिनमें से प्रत्येक चरण आध्यात्मिक महत्व से जुड़ा होता है। यह प्रक्रिया मूर्ति के शुद्धिकरण समारोह से शुरू होती है, जिसे बाद में पवित्र कपड़ों और आभूषणों से सजाया जाता है। इसके बाद मूर्ति को मंदिर के गर्भगृह में स्थापित किया जाता है।

प्राण प्रतिष्ठा के मुख्य भाग में वैदिक मंत्रों का जाप और फूल, फल, धूप और पवित्र जल जैसी विभिन्न वस्तुओं की पेशकश शामिल है। ये प्रसाद देवता की उपस्थिति का आह्वान करने और मूर्ति में जीवन शक्ति या ‘प्राण’ भरने के लिए चढ़ाए जाते हैं। अनुष्ठान दिव्य आत्मा को मूर्ति में उतरने का प्रतीक है, जो इसे देवता का जीवित अवतार बनाता है।

 

हिंदू पूजा में प्राण प्रतिष्ठा का महत्व

हिंदू धर्म में, मूर्ति केवल देवता का प्रतिनिधित्व नहीं है, बल्कि ऐसा माना जाता है कि यह देवता की वास्तविक उपस्थिति का प्रतीक है। प्राण प्रतिष्ठा के माध्यम से, एक मूर्ति भक्तों के लिए परमात्मा से जुड़ने का एक माध्यम बन जाती है। यह एक मात्र प्रतीकात्मक आकृति से एक पवित्र इकाई में बदल जाता है जो प्रार्थना और प्रसाद प्राप्त कर सकता है।

 

प्राण प्रतिष्ठा में भक्तों की भूमिका

प्राण प्रतिष्ठा समारोह में भक्तों की अहम भूमिका होती है। देवता की उपस्थिति का आह्वान करने के लिए उनकी आस्था और भक्ति को आवश्यक माना जाता है। भक्तों का समूह, अपनी सामूहिक ऊर्जा और प्रार्थनाओं के साथ, समारोह के आध्यात्मिक माहौल में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

FAQs

भगवान राम का मामा गांव कौन सा है?

भगवान श्री राम जी का मामा का गांव दक्षिण कोसल (छत्तीसगढ़) में है। यह रायपुर से 40 किलोमीटर दूर चंदखुरी गांव को माता कौशल्या की जन्म स्थली माना जाता है।