Home   »   अयोध्या राम मंदिर 7 दिवसीय अनुष्ठान

अयोध्या राम मंदिर 7 दिवसीय अनुष्ठान

अयोध्या राम मंदिर 7 दिवसीय अनुष्ठान |_30.1

अयोध्या राम मंदिर का उद्घाटन समारोह शुरू होने वाला है, जो आज ‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह के साथ शुरू हो रहा है, जो सात दिनों तक चलने वाला एक पवित्र अनुष्ठान है। औपचारिक प्राण-प्रतिष्ठा संस्कार 16 से 21 जनवरी तक निर्धारित हैं, जो 22 जनवरी को श्री राम लला के बहुप्रतीक्षित अभिषेक तक ले जाएंगे।

 

अयोध्या राम मंदिर- तैयारियां और उम्मीदें

इस महत्वपूर्ण आयोजन की तैयारियां जोरों पर हैं, प्रतिष्ठा दिवस पर 8,000 से अधिक मेहमानों के आने की उम्मीद है। 23 जनवरी से भक्तों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है, क्योंकि माहौल आध्यात्मिक उत्साह से भरपूर है।

 

प्रधान मंत्री की उपस्थिति

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी 22 जनवरी को राम मंदिर अभिषेक समारोह में भाग लेकर इस अवसर की शोभा बढ़ाने के लिए तैयार हैं। इस शुभ समारोह में 18 जनवरी को मंदिर के ‘गर्भ गृह’ में मूर्ति को उसके निर्दिष्ट स्थान पर रखा जाएगा।

 

अयोध्या राम मंदिर 7 दिवसीय अनुष्ठान – पूर्ण अनुसूची

जनवरी 16-21: प्रायश्चित और अनुष्ठान

नामित मेजबान प्रायश्चित समारोह का आयोजन करेगा, जिसमें ‘दशविध’ स्नान, विष्णु पूजा और पवित्र सरयू नदी के किनारे गायों को प्रसाद चढ़ाना शामिल होगा।

17 जनवरी: रामलला की शोभा यात्रा

एक भव्य जुलूस भगवान राम की मूर्ति को उनके बाल रूप (राम लला) में अयोध्या ले जाएगा। राम जन्मभूमि मंदिर के रास्ते में श्रद्धालु मंगल कलश में सरयू जल लेकर जाएंगे।

18 जनवरी: औपचारिक अनुष्ठान शुरू

गणेश अंबिका पूजा, वरुण पूजा, मातृका पूजा, ब्राह्मण वरण, और वास्तु पूजा अनुष्ठानों की औपचारिक शुरुआत का प्रतीक है।

19 जनवरी: पवित्र अग्नि का प्रज्ज्वलन

पवित्र अग्नि जलाने के बाद ‘नवग्रह’ की स्थापना और ‘हवन’ समारोह होगा।

20 जनवरी: गर्भगृह की सफाई

मंदिर के गर्भगृह को सरयू के पवित्र जल से धोया जाएगा, इसके बाद वास्तु शांति और अन्नाधिवास अनुष्ठान किया जाएगा।

21 जनवरी: दिव्य स्नान एवं समापन

125 कलशों के साथ एक दिव्य स्नान होगा, जिसका समापन शयाधिवास में होगा, जहां राम लला की मूर्ति को स्नान कराया जाएगा और उन्हें विश्राम दिया जाएगा।

22 जनवरी: अभिषेक दिवस

सुबह की पूजा और दोपहर 12:20 बजे प्राण प्रतिष्ठा के दौरान ‘मृगशिरा नक्षत्र’ में राम लला देवता का अभिषेक, उसके बाद ‘आरती’ होगी।

अयोध्या राम मंदिर का उद्घाटन आध्यात्मिकता, परंपरा और सांस्कृतिक विरासत के उत्सव का एक महत्वपूर्ण अवसर है। जैसे-जैसे भक्त और गणमान्य लोग इकट्ठा होते हैं, हवा अभिषेक की प्रत्याशा से भर जाती है जो एकता और श्रद्धा की ओर एक सामूहिक कदम का प्रतीक है।

 

 

 

 

 

FAQs

अयोध्या किस नदी के किनारे पर स्थित है?

अयोध्या शहर सरयू नदी के तट पर स्थित है।