Home   »   वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह बने...

वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह बने पश्चिमी नौसेना कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ

वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह बने पश्चिमी नौसेना कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ_3.1

वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह ने वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी के स्थान पर भारतीय नौसेना के पश्चिमी नौसेना कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ के रूप में कमान संभाली।

मुंबई के कोलाबा में नौसेना हवाई स्टेशन, आईएनएस शिकरा में आयोजित एक औपचारिक समारोह में, वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह ने भारतीय नौसेना के पश्चिमी नौसेना कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (एफओसी-इन-सी) के रूप में कार्यभार संभाला। समारोह में वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी, जो एफओसी-इन-सी के रूप में कार्यरत थे, के नेतृत्व परिवर्तन को चिह्नित किया गया।

विशिष्ट कैरियर: नौसेना मुख्यालय से पश्चिमी नौसेना कमान तक

पश्चिमी नौसेना कमान के एफओसी-इन-सी के रूप में प्रतिष्ठित पद संभालने से पहले, वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह ने नई दिल्ली में नौसेना मुख्यालय में नौसेना स्टाफ के उप प्रमुख का पद संभाला था। कमान में बदलाव के तहत वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी को नौसेना मुख्यालय में नौसेना स्टाफ के उप प्रमुख की भूमिका भी निभानी होगी।

स्वॉर्ड आर्मी ऑफ द नेवी: वाइस एडमिरल सिंह ने कार्यभार संभाला

नौसेना के पश्चिमी बेड़े की कमान संभालने पर, जिसे अक्सर सेवा की “स्वॉर्ड आर्मी” कहा जाता है, वाइस एडमिरल सिंह ने देश के लिए अपने जीवन का बलिदान देने वाले शहीद नायकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। मुंबई में नौसेना गोदी में स्थित गौरव स्तंभ सी मेमोरियल में विजय समारोह आयोजित किया गया, जहां वाइस एडमिरल सिंह ने सर्वोच्च बलिदान देने वालों के सम्मान में पुष्पांजलि अर्पित की।

नौसेना कैरियर: वाइस एडमिरल सिंह की पृष्ठभूमि और उपलब्धियाँ

वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह पुणे में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के एक प्रतिष्ठित स्नातक हैं। 1986 में नौसेना की कार्यकारी शाखा में कमीशन प्राप्त, उनका 37 वर्षों का उल्लेखनीय करियर है। अपनी पूरी सेवा के दौरान, वाइस एडमिरल सिंह ने नौसेना के विभिन्न वर्गों के जहाजों पर प्रमुख कमान, प्रशिक्षण और स्टाफ नियुक्तियों पर काम किया है।

शैक्षिक उद्देश्य और विशेषज्ञता: सैन्य रणनीति में एक विद्वान

1992 में नेविगेशन और निर्देशन में विशेषज्ञता हासिल करने के बाद, वाइस एडमिरल सिंह ने 2000 में यूनाइटेड किंगडम में एडवांस्ड कमांड और स्टाफ कोर्स सहित आगे की शिक्षा हासिल की। व्यावसायिक विकास के प्रति उनका समर्पण 2009 में नेवल वॉर कॉलेज, मुंबई में नेवल हायर कमांड कोर्स और 2012 में नेशनल डिफेंस कॉलेज, दिल्ली में राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति पाठ्यक्रम पूरा करने से स्पष्ट होता है।

शैक्षणिक सम्मान: रक्षा अध्ययन में एक बहुआयामी विद्वान

वाइस एडमिरल सिंह की शैक्षणिक उपलब्धियों में मद्रास विश्वविद्यालय से रक्षा और सामरिक अध्ययन में एमएससी और एमफिल, किंग्स कॉलेज, लंदन से रक्षा अध्ययन में एमए और एमए (इतिहास), मुंबई यूनिवर्सिटी से एमफिल (राजनीति विज्ञान), और पीएचडी (कला) शामिल हैं।

मान्यताएँ और पुरस्कार: विशिष्ट सेवा का सम्मान

उनकी अनुकरणीय सेवा के सम्मान में, वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह को 2009 में नौ सेना पदक और 2020 में अति विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया, जो भारतीय नौसेना में उनके समर्पण, नेतृत्व और महत्वपूर्ण योगदान को दर्शाता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह की हालिया नियुक्ति क्या है?
A) वायुसेनाध्यक्ष
B) नौसेना संचालन प्रमुख
C) पश्चिमी नौसेना कमान के प्रमुख

2. वाइस एडमिरल सिंह के स्वागत के लिए औपचारिक परेड कहाँ आयोजित की गई थी?
A) आईएनएस विक्रमादित्य
B) आईएनएस शिकरा
C) नेवल वॉर कॉलेज, मुंबई

3. नौसेना में पश्चिमी बेड़े को अक्सर क्या कहा जाता है?
A) महासागर संरक्षक
B) तलवार सेना
C) स्काई डिफेंडर्स

कृपया अपने उत्तर टिप्पणी अनुभाग में दें।

वाइस एडमिरल संजय जसजीत सिंह बने पश्चिमी नौसेना कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ_4.1

FAQs

विदेश मंत्रालय के नए प्रवक्ता कौन हैं?

विदेश मंत्रालय के नए प्रवक्ता रणधीर जायसवाल हैं।