Home   »   सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति संजीव खन्ना...

सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति संजीव खन्ना बने NALSA के कार्यकारी अध्यक्ष

सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति संजीव खन्ना बने NALSA के कार्यकारी अध्यक्ष |_30.1

भारत के राष्ट्रपति ने सुप्रीम कोर्ट के सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजीव खन्ना को NALSA के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया है, जो न्यायमूर्ति एस के कौल का स्थान लेंगे, जो 25 दिसंबर को सेवानिवृत्त हुए थे।

एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, भारत के राष्ट्रपति ने न्यायमूर्ति संजीव खन्ना को राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (NALSA) का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया है। सुप्रीम कोर्ट के सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति खन्ना ने न्यायमूर्ति एस के कौल का स्थान लिया है, जो 25 दिसंबर को सेवानिवृत्त हुए थे। यह नियुक्ति NALSA के कार्यकारी अध्यक्ष के महत्वपूर्ण पद पर सर्वोच्च न्यायालय के दूसरे वरिष्ठतम न्यायाधीश को नियुक्त करने की परंपरा का पालन करती है।

राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (NALSA)

राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (NALSA) 1987 के कानूनी सेवा प्राधिकरण अधिनियम के तहत स्थापित एक वैधानिक निकाय है। यह संगठन समाज के कमजोर वर्गों को मुफ्त कानूनी सेवाएं प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और इसका उद्देश्य विवादों के सौहार्दपूर्ण समाधान के लिए लोक अदालतों का आयोजन करना है।

NALSA की विशेषताएं

नेतृत्व संरचना

NALSA का नेतृत्व भारत के मुख्य न्यायाधीश करते हैं, जो संरक्षक-प्रमुख के रूप में कार्यरत होते हैं, साथ ही सर्वोच्च न्यायालय के एक वरिष्ठ न्यायाधीश कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में कार्य करते हैं। यह दोहरी नेतृत्व संरचना इसके कामकाज के लिए एक व्यापक और संतुलित दृष्टिकोण सुनिश्चित करती है।

निःशुल्क कानूनी सेवाएँ

NALSA का एक प्राथमिक उद्देश्य महिलाओं, बच्चों, एससी/एसटी, विकलांग व्यक्तियों, प्राकृतिक आपदाओं या हिंसा के शिकार लोगों और हिरासत में लिए गए लोगों सहित पात्र व्यक्तियों को मुफ्त कानूनी सेवाएं प्रदान करना है। यह पहल सुनिश्चित करती है कि कानूनी प्रतिनिधित्व एक विशेषाधिकार नहीं बल्कि समाज के सभी सदस्यों के लिए एक अधिकार है।

लोक अदालतें

NALSA विभिन्न स्तरों पर लोक अदालतों का आयोजन करता है, एक वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र की पेशकश करता है जहां मामलों को सुलह और समझौते के माध्यम से निपटाया जाता है। यह दृष्टिकोण न केवल प्रक्रिया को तेज करता है बल्कि आपसी समझ और समाधान के माहौल को भी बढ़ावा देता है।

कानूनी जागरूकता कार्यक्रम

कानूनी सेवाएं प्रदान करने के अलावा, NALSA कानूनी जागरूकता बढ़ाने के लिए विभिन्न योजनाएं और कार्यक्रम चलाता है। इसमें कानूनी साक्षरता पहल, कानूनी सहायता क्लीनिक, पैनल वकील और पैरा-कानूनी स्वयंसेवक शामिल हैं। ये प्रयास व्यक्तियों को अपने अधिकारों का दावा करने के लिए आवश्यक ज्ञान के साथ सशक्त बनाने में योगदान करते हैं।

NALSA का महत्व

न्याय तक पहुंच

यह सभी के लिए न्याय तक पहुंच सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, विशेष रूप से समाज के आर्थिक रूप से वंचित और हाशिए पर रहने वाले वर्गों के लिए, जो कानूनी सेवाओं का खर्च उठाने या औपचारिक अदालतों से संपर्क करने के लिए संघर्ष कर सकते हैं।

व्यक्तियों को सशक्त बनाना

कानूनी जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से, NALSA व्यक्तियों को अपने अधिकारों का दावा करने और उनकी शिकायतों के समाधान खोजने के लिए आवश्यक ज्ञान प्रदान करता है। यह सशक्तिकरण एक अधिक सूचित और न्यायपूर्ण समाज में योगदान देता है।

सामाजिक न्याय को बढ़ावा देना

लोक अदालतों और अन्य पहलों के माध्यम से सौहार्दपूर्ण समाधानों को बढ़ावा देकर, NALSA समाज में न्याय और सद्भाव की संस्कृति को बढ़ावा देता है। यह सभी नागरिकों के लिए सामाजिक न्याय प्राप्त करने के लक्ष्य में सक्रिय रूप से योगदान देता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (NALSA) की स्थापना किस अधिनियम के तहत की गई थी?
A) भारतीय संविधान अधिनियम
B) कानूनी सेवा प्राधिकरण अधिनियम 1987
C) न्यायपालिका सुधार अधिनियम

2. NALSA का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?
A) आपराधिक कानून लागू करना
B) निःशुल्क कानूनी सेवाएं प्रदान करना
C) लोकसभा चुनाव कराना

3. NALSA द्वारा आयोजित लोक अदालतें क्या हैं?
A) विधायी सत्र
B) वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र
C) कानूनी जागरूकता अभियान

कृपया अपने उत्तर टिप्पणी अनुभाग में दें!!!

 

सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति संजीव खन्ना बने NALSA के कार्यकारी अध्यक्ष |_40.1

 

FAQs

देश की सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया ने कॉरपोरेट मामलों का ग्रुप प्रमुख किसे नियुक्त किया है?

देश की सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया ने पी बालाजी को कॉरपोरेट मामलों का ग्रुप प्रमुख नियुक्त किया है।