Home   »   प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु में 400 करोड़...

प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु में 400 करोड़ रुपये के फास्ट रिएक्टर प्लांट का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु में 400 करोड़ रुपये के फास्ट रिएक्टर प्लांट का उद्घाटन किया |_30.1

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ऐतिहासिक क्षण को चिह्नित किया जब उन्होंने इंदिरा गांधी सेंटर फॉर एटॉमिक रिसर्च (आईजीसीएआर), कलपक्कम में 400 करोड़ रुपये के प्रदर्शन फास्ट रिएक्टर ईंधन पुनर्प्रसंस्करण संयंत्र (डीएफआरपी) को राष्ट्र को समर्पित किया। यह सुविधा भारत की परमाणु क्षमताओं को आगे बढ़ाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है, जिसे प्रोटोटाइप फास्ट ब्रीडर रिएक्टर (पीएफबीआर) से ईंधन को पुन: संसाधित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

 

भाविनी का प्रयास

कलपक्कम स्थित फास्ट रिएक्टर बिजली उत्पादन कंपनी, भारतीय नाभिकीय विद्युत निगम लिमिटेड (भाविनी) इस पहल में सबसे आगे है। भाविनी वर्तमान में पीएफबीआर की स्थापना कर रही है और भविष्य में दो अतिरिक्त फास्ट रिएक्टरों की योजना बना रही है। डीएफआरपी, बड़ी सुविधाओं के लिए एक पायलट प्रोजेक्ट, आगामी पीएफबीआर से ईंधन के पुनर्संसाधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

 

भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा अभिनव डिजाइन

डीएफआरपी एक अद्वितीय डिजाइन का दावा करता है, जो पूरी तरह से भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा तैयार किया गया है। यह सुविधा तीव्र रिएक्टरों से निकलने वाले कार्बाइड और ऑक्साइड ईंधन दोनों को पुन: संसाधित करने में सक्षम है, जो इसे विश्व स्तर पर अपनी तरह की एकमात्र सुविधा के रूप में स्थापित करती है। इस डिज़ाइन का सफल कार्यान्वयन परमाणु प्रौद्योगिकी में भारत की बढ़ती शक्ति का प्रमाण है।

 

वाणिज्यिक पैमाने पर फास्ट रिएक्टर ईंधन पुनर्प्रसंस्करण में मुख्य भूमिका

परमाणु ऊर्जा विभाग (डीएई) डीएफआरपी को बड़े वाणिज्यिक पैमाने के फास्ट रिएक्टर ईंधन पुनर्संसाधन संयंत्रों की स्थापना की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में उजागर करता है। इस संयंत्र में अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी का एकीकरण परमाणु ईंधन चक्र क्षमताओं में आत्मनिर्भरता प्राप्त करने की भारत की प्रतिबद्धता को मजबूत करता है।

 

पीएफबीआर कमीशनिंग में प्रगति

भाविनी द्वारा प्रबंधित पीएफबीआर की एकीकृत कमीशनिंग अच्छी तरह से चल रही है। महत्वपूर्ण मील के पत्थर में पिछले अगस्त में मुख्य पोत को 1.15 टन तरल सोडियम से भरना शामिल है। स्वदेशी रूप से निर्मित प्राथमिक और माध्यमिक सोडियम पंपों की सफल तैनाती आशावादी दृष्टिकोण को बढ़ाती है। एकीकृत कमीशनिंग का उन्नत चरण तेज़ रिएक्टर बिजली उत्पादन के लिए एक आशाजनक भविष्य का संकेत देता है।

 

फास्ट रिएक्टर ईंधन चक्र सुविधा (एफआरएफसीएफ)

कलपक्कम के निकट, फास्ट रिएक्टर ईंधन चक्र सुविधा (एफआरएफसीएफ) निर्माणाधीन है और इसके दिसंबर 2027 तक पूरा होने की उम्मीद है। परमाणु रीसायकल बोर्ड, भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र और डीएई द्वारा निष्पादित इस महत्वाकांक्षी परियोजना का मूल रूप से बजट रखा गया था। लगभग 9,600 करोड़ रु. एफआरएफसीएफ का प्राथमिक लक्ष्य फास्ट ब्रीडर रिएक्टरों से खर्च किए गए ईंधन को पुन: संसाधित करना है, जो भारत के तीन-चरण परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम में इसकी अभिन्न भूमिका पर जोर देता है।

 

फास्ट ब्रीडर रिएक्टरों का महत्व

फास्ट ब्रीडर रिएक्टर, जो परमाणु विखंडन प्रतिक्रियाओं के लिए उपभोग की तुलना में अधिक सामग्री तैयार करने में सक्षम हैं, भारत की परमाणु ऊर्जा रणनीति के प्रमुख घटक हैं। एफआरएफसीएफ परियोजना न केवल एक तकनीकी छलांग है बल्कि रोजगार का सृजनकर्ता भी है, जिसमें अनुमानित 1,500-2,000 लोगों को परमाणु ऊर्जा क्षेत्र में रोजगार मिलने की उम्मीद है।

 

प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु में 400 करोड़ रुपये के फास्ट रिएक्टर प्लांट का उद्घाटन किया |_40.1

FAQs

परमाणु की खोज कैसे हुई?

सबसे पहले परमाणु की खोज वर्ष 1808 में जॉन डाल्टन ने की थी जो एक गणितज्ञ और रासायनिक वैज्ञानिक थे। जिन्होंने सबसे पहले यह प्रमाण किया था की पदार्थ छोटे–छोटे कणो को मिलकर बना होता है। बर्ष 1803 में डाल्टन ने अपना परमाणु सिद्धांत प्रतिपादित किया था जिसे अब डाल्टन का परमाणु सिद्धांत कहा जाता है.