Home   »   तमिलनाडु के कुंबम अंगूर को मिला...

तमिलनाडु के कुंबम अंगूर को मिला जीआई टैग

तमिलनाडु के कुंबम अंगूर को मिला जीआई टैग |_30.1

कुंबुम पनीर थ्रचाई या कुंबुम अंगूर, जो तमिलनाडु के प्रसिद्ध हैं, हाल ही में भौगोलिक संकेत (GI) टैग से सम्मानित किए गए हैं। तमिलनाडु के कुंबुम घाटी को ‘दक्षिण भारत के अंगूर शहर’ के रूप में लोकप्रियता हासिल है और पनीर थ्रचाई या मस्कट हैंबर्ग विविधता की खेती के लिए जाने जाते हैं, जो तमिलनाडु में अंगूर के उत्पादन के लगभग 85% का हिस्सा बनते हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

इतिहास और स्वास्थ्य लाभ:

  • पनीर अंगूर को 1832 में एक फ्रेंच पादरी ने तमिलनाडु में पहली बार पेश किया था।
  • ये अंगूर विटामिन, तार्टारिक एसिड और एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं, जो कुछ अनौपचारिक बीमारियों के खतरे को कम करते हैं।
  • इन्हें उनकी उत्कृष्ट स्वाद के लिए भी जाना जाता है।

भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग के लाभ

भौगोलिक संकेत (GI) टैग एक ऐसा बौद्धिक सम्पदा का अधिकार होता है जो किसी विशिष्ट भौगोलिक क्षेत्र में उत्पादित उत्पाद के मूल स्थान और गुणवत्ता को दर्शाता है। GI टैग का प्राथमिक उद्देश्य उत्पाद की पारंपरिक ज्ञान, सांस्कृतिक विरासत और प्रतिष्ठा को संरक्षित करना होता है, और इसके आर्थिक मूल्य को बढ़ावा देना भी होता है। कुछ GI टैग होने के लाभ हैं:

  • नकल और गलत उपयोग के खिलाफ संरक्षण: GI टैग यह सुनिश्चित करता है कि किसी विशिष्ट क्षेत्र में उत्पादित उत्पाद को नकल और गलत उपयोग से संरक्षित किया जाता है। इससे दूसरों को उत्पाद के नाम या क्षेत्र का उपयोग अपने उत्पादों को प्रमोट करने के लिए नहीं करने दिया जाता है और उत्पाद की प्रतिष्ठा और प्रामाणिकता को संरक्षित किया जाता है।
  • गुणवत्ता आश्वासन: GI टैग उपभोक्ताओं को उत्पाद की गुणवत्ता और प्रामाणिकता की आश्वासन प्रदान करता है। यह सुनिश्चित करता है कि उत्पाद पारंपरिक तरीकों से उत्पन्न होता है और निश्चित गुणवत्ता मानकों का पालन करता है।
  • बढ़ी हुई विपणीयता: GI टैग उत्पाद की बढ़ी हुई विपणीयता करता है जिससे उसे एक अद्वितीय पहचान मिलती है और उपभोक्ताओं के लिए अधिक आकर्षक बनाता है। इसके अलावा, यह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय नए विपणन अवसर भी उत्पन्न करता है।
  • आर्थिक लाभ: GI टैग पर्यटन को बढ़ावा देकर, रोजगार के अवसर पैदा करके और स्थानीय समुदायों की आय बढ़ाकर किसी क्षेत्र के आर्थिक विकास में योगदान कर सकता है।
  • पारंपरिक ज्ञान के संरक्षण: GI टैग उत्पाद से जुड़े पारंपरिक ज्ञान और संस्कृति के संरक्षण में मदद करता है। इसके अलावा, यह पारंपरिक तरीकों और प्रथाओं का उपयोग बढ़ाता है, जो अक्सर अधिक स्थायी और पर्यावरण मित्र होते हैं।

सारांश में, जीआई टैग उत्पाद को संरक्षण, गुणवत्ता आश्वासन, विपणन योग्यता, आर्थिक लाभ और उत्पाद से संबंधित पारंपरिक ज्ञान के संरक्षण में मदद करता है।

तमिलनाडु के कुंबम अंगूर को मिला जीआई टैग |_40.1

FAQs

तमिलनाडु की राजधानी क्या है ?

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई है।