Home   »   एडिडास चीन के बाहर तमिलनाडु में...

एडिडास चीन के बाहर तमिलनाडु में अपना पहला एशिया जीसीसी स्थापित करेगा

एडिडास चीन के बाहर तमिलनाडु में अपना पहला एशिया जीसीसी स्थापित करेगा |_30.1

प्रसिद्ध एथलेटिक फुटवियर और परिधान दिग्गज एडिडास, चीन के बाहर एशिया में अपना पहला और एकमात्र वैश्विक क्षमता केंद्र (जीसीसी) स्थापित करके अपने वैश्विक परिचालन को बढ़ाने के लिए रणनीतिक कदम उठा रहा है। यह महत्वपूर्ण विकास बहुराष्ट्रीय निगमों द्वारा भारत को अपने जीसीसी स्थापित करने के लिए एक प्रमुख गंतव्य के रूप में चुनने की बढ़ती प्रवृत्ति को रेखांकित करता है, जो देश के प्रचुर सॉफ्टवेयर कौशल का लाभ उठा रहा है।

 

चेन्नई में स्थापना

जर्मन निगम, जिसका मुख्यालय हर्ज़ोजेनौराच, बवेरिया में है, चेन्नई में अपना ग्लोबल बिजनेस सर्विसेज (जीबीएस) हब स्थापित करने के लिए तैयार है। यह कदम एडिडास के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है, क्योंकि चेन्नई सुविधा एशिया में चीन के बाहर पहली जीसीसी बन गई है। इस हब के लिए स्थान के रूप में चेन्नई का चयन वैश्विक कॉर्पोरेट परिदृश्य में शहर की बढ़ती प्रमुखता को दर्शाता है।

 

नेतृत्व एवं संचालन

जीबीएस वैश्विक खरीद के उपाध्यक्ष और जीबीएस इंडिया के प्रमुख के रूप में नामित अखिल कपूर, चेन्नई में एडिडास के जीसीसी के संचालन का नेतृत्व करेंगे। कपूर का व्यापक अनुभव और नेतृत्व चेन्नई के जीवंत कारोबारी माहौल से एथलेटिक दिग्गज के वैश्विक संचालन को चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

 

एडिडास के लिए सामरिक महत्व

चेन्नई में ग्लोबल बिजनेस सर्विसेज हब की स्थापना एडिडास के लिए एक रणनीतिक कदम है, जिससे कंपनी को अपने वैश्विक परिचालन के लिए महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति मिलती है। यह पहल न केवल नवाचार और दक्षता के प्रति एडिडास की प्रतिबद्धता को मजबूत करती है, बल्कि कंपनी को भारत में उपलब्ध विविध प्रतिभा पूल का उपयोग करने के लिए भी तैयार करती है।

 

तमिलनाडु के जीसीसी पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा

चेन्नई में अपना जीसीसी स्थापित करने के एडिडास के निर्णय को तमिलनाडु के बढ़ते जीसीसी पारिस्थितिकी तंत्र के लिए पर्याप्त बढ़ावा के रूप में देखा जा रहा है। राज्य में बड़ी संख्या में वैश्विक कंपनियां भारत में अपना पहला केंद्र स्थापित करने का विकल्प चुन रही हैं, जिनमें यूपीएस, हिताची एनर्जी, चैंपियनएक्स, जेजीसी, एशले, फ्लीटकोर, सैजेंट और उडेमी जैसे प्रमुख नाम इस लीग में शामिल हो रहे हैं।

 

भारत के सॉफ्टवेयर कौशल में योगदान

भारत के बढ़ते जीसीसी परिदृश्य में एडिडास का प्रवेश न केवल देश की क्षमताओं में उसके विश्वास को दर्शाता है, बल्कि सॉफ्टवेयर कौशल के समृद्ध पूल का उपयोग करने की मांग करने वाले वैश्विक निगमों के लिए देश के आकर्षण को भी उजागर करता है। प्रौद्योगिकी क्षेत्र में भारत की शक्ति लगातार महत्वपूर्ण निवेश आकर्षित कर रही है, जिससे वैश्विक आईटी केंद्र के रूप में इसकी स्थिति और मजबूत हो रही है।

 

एडिडास चीन के बाहर तमिलनाडु में अपना पहला एशिया जीसीसी स्थापित करेगा |_40.1

FAQs

एडिडास की स्थापना कब हुई थी?

एडिडास की स्थापना 1948 में एडोल्फ "एडी" डास्लर के द्वारा की गयी थी। इसकी स्थापना गेब्रदर डास्लर शूफैब्रिक और उनके बड़े भाई रुडोल्फ के बीच विभाजन के बाद हुई थी।