Home   »   मशहूर शायर मुनव्वर राणा का 71...

मशहूर शायर मुनव्वर राणा का 71 साल की उम्र में निधन

मशहूर शायर मुनव्वर राणा का 71 साल की उम्र में निधन |_30.1

मशहूर शायर मुनव्वर राना का लखनऊ में निधन हो गया। वह 71 वर्ष के थे। वह काफी समय से बीमार चल रहे थे। बीते दिनों किडनी संबंधित परेशानियों के बाद उन्हें लखनऊ स्थित एसजीपीजीआई में भर्ती कराया गया था। पिछले दो साल से किडनी खराब होने के कारण मुनव्वर राना की डायलिसिस चल रही थी। साथ में फेफड़ों की गंभीर बीमारी सीओपीडी से भी परेशान थे।

 

मुनव्वर राणा का प्रारंभिक जीवन और करियर

26 नवंबर, 1952 को उत्तर प्रदेश के रायबरेली में जन्मे राणा उर्दू साहित्य और कविता में अपने महत्वपूर्ण योगदान के लिए प्रसिद्ध थे। वह अपनी ग़ज़लों के लिए विशेष रूप से प्रशंसित थे, एक काव्यात्मक रूप जिसमें छंदबद्ध दोहे और एक पंक्ति शामिल थी। उनकी काव्य शैली को इसकी पहुंच से चिह्नित किया गया था, क्योंकि वे अक्सर भारतीय दर्शकों के साथ अधिक गूंजने के लिए फ़ारसी और अरबी से बचते हुए हिंदी और अवधी शब्दों को शामिल करते थे। उनकी सबसे प्रसिद्ध कविताओं में से एक ‘माँ’ थी, जो पारंपरिक ग़ज़ल शैली में माँ के गुणों का जश्न मनाती है।

 

मुनव्वर राणा के पुरस्कार और मान्यताएँ

26 नवंबर 1952 को रायबरेली में जन्मे मुनव्वर राना उर्दू साहित्य के बड़े नाम हैं। उन्हें 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है। हालाँकि, उन्होंने बढ़ती सामाजिक असहिष्णुता का हवाला देते हुए लगभग एक साल बाद पुरस्कार लौटा दिया। उनकी अन्य उपलब्धियों में अमीर खुसरो पुरस्कार, मीर तकी मीर पुरस्कार, गालिब पुरस्कार, डॉ. जाकिर हुसैन पुरस्कार और सरस्वती समाज पुरस्कार शामिल हैं। उनकी रचनाओं का कई भाषाओं में अनुवाद किया गया है।

 

मुनव्वर राणा का व्यक्तिगत जीवन और राजनीतिक भागीदारी

राणा ने अपना अधिकांश जीवन कोलकाता में बिताया और भारत और विदेशों दोनों में मुशायरों (काव्य संगोष्ठियों) में उनकी महत्वपूर्ण उपस्थिति थी। वह उत्तर प्रदेश के राजनीतिक घटनाक्रम में भी सक्रिय थे। उनकी बेटी सुमैया राणा, अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी (सपा) की सदस्य हैं। राणा अक्सर अपने बयानों के कारण विवादों में घिरे रहते हैं, जिनमें तालिबान पर उनके विचार और 2020 में पेरिस में पैगंबर मोहम्मद के बारे में विवाद पर सैमुअल पैटी की हत्या शामिल है।

 

मुनव्वर राणा की विरासत और अंतिम दिन

कवि की मृत्यु ने साहित्य जगत, विशेषकर उर्दू शायरी के क्षेत्र पर गहरा प्रभाव छोड़ा है। उनके परिवार में पत्नी, चार बेटियां और एक बेटा है। उनके निधन पर राजनीतिक हस्तियों और साहित्यिक उत्साही लोगों सहित देश भर के कई लोगों ने शोक व्यक्त किया है।

 

 

 

 

FAQs

भारत का सबसे छोटा जिला कौन सा है?

भारत का सबसे छोटा जिला पुड्डुचेरी का माहे जिला है।