Home   »   रेलवे ‘कवच’ को एलटीई में अपग्रेड...

रेलवे ‘कवच’ को एलटीई में अपग्रेड करेगा: अश्विनी वैष्णव

रेलवे 'कवच' को एलटीई में अपग्रेड करेगा: अश्विनी वैष्णव |_30.1

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बढ़ती दुर्घटना संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिए बढ़ी हुई सुरक्षा के लिए कवच एंटी-टकराव प्रणाली को 4जी/5जी तकनीक में अपग्रेड करने की योजना बनाई है।

रेलवे सुरक्षा बढ़ाने और बढ़ती दुर्घटनाओं पर चिंताओं को दूर करने के लिए, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने रेल मंत्रालय की अपनी स्वदेशी टक्कर-रोधी प्रणाली, कवच को 4जी/5जी (एलटीई-आधारित) तकनीक में अपग्रेड करने की योजना की घोषणा की।

कवच, एक स्वचालित ट्रेन सुरक्षा (एटीपी) प्रणाली, यदि ड्राइवर ऐसा करने में विफल रहता है तो ट्रेन के ब्रेकिंग सिस्टम को स्वचालित रूप से सक्रिय करके टकराव को रोकने में सहायक साबित हुआ है।

कवच पर पृष्ठभूमि

  • स्वदेशी रूप से विकसित कवच को 1,465 रूट किलोमीटर (आरकेएम) से अधिक पर तैनात किया गया है, अतिरिक्त 3,000 किलोमीटर पर काम चल रहा है।
  • रेल मंत्रालय का लक्ष्य इस टक्कर-रोधी प्रणाली के कार्यान्वयन में तेजी लाना और लंबी दूरी पर इसे और अधिक कुशल बनाना है।

कवच के बारे में अधिक पढ़ें: What is Railway kavach system?

उन्नयन योजनाएँ और निविदाएँ

  • रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने खुलासा किया कि अगली पीढ़ी के कवच के लिए निविदाएं अगले साल मई और जून के बीच जारी की जाएंगी।
  • मंत्रालय अगले महीने तक मौजूदा कवच प्रौद्योगिकी को एलटीई में अपग्रेड करने के लिए निविदाएं जारी करने की योजना बना रहा है।

क्षमता वृद्धि और विक्रेता अनुमोदन

  • वैष्णव ने संकेत दिया कि रेलवे पटरियों पर कवच स्थापित करने की क्षमता 2025-26 तक मौजूदा 1,500 आरकेएम प्रति वर्ष से बढ़कर 5,000 आरकेएम तक बढ़ने की उम्मीद है।
  • कवच परियोजना के लिए क्रमशः जर्मनी और जापान की सीमेंस एजी और क्योसन इलेक्ट्रिक मैन्युफैक्चरिंग कंपनी के साथ-साथ चार भारतीय कंपनियों सहित छह विक्रेताओं को मंजूरी दी गई है।

लागत दक्षता और लाइव प्रदर्शन

  • कवच का एक प्रमुख लाभ इसकी लागत दक्षता है, इसकी कीमत 40-50 लाख रुपये प्रति किलोमीटर है, जो इसे अपने यूरोपीय समकक्षों की तुलना में 25-33% अधिक किफायती बनाती है।
  • मंत्री वैष्णव ने मार्च में एक लाइव प्रदर्शन किया था, जिसमें दो ट्रेनों के टकराने की स्थिति में स्वचालित चेतावनी संकेत चालू करके कवच की प्रभावशीलता का प्रदर्शन किया गया था।
  • हाल की दुर्घटनाओं के आलोक में प्रौद्योगिकी की सफलता पर प्रकाश डाला गया, जिसमें बड़े पैमाने पर आपदाओं को रोकने की क्षमता पर जोर दिया गया।

5जी एकीकरण और स्पेक्ट्रम आवंटन

  • तकनीकी उन्नति की व्यापक आवश्यकता को पहचानते हुए, भारतीय रेलवे में 5जी-आधारित परिचालन को सक्षम करने पर महत्वपूर्ण जोर दिया गया है।
  • जून 2021 में, राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर को 700 मेगाहर्ट्ज बैंड में 5 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम आवंटित किया गया था, जिसमें अगले पांच वर्षों में दीर्घकालिक विकास के लिए 25,000 करोड़ रुपये का वादा किया गया था।
  • यह आवंटन रेलवे को आधुनिक संचार विधियों को अपनाने और समग्र परिचालन दक्षता बढ़ाने के लिए सक्षम बनाता है।

बौद्धिक संपदा अधिकार और पेटेंट

  • तकनीकी नेतृत्व के प्रति अपनी प्रतिबद्धता के तहत, रेल मंत्रालय ने गति शक्ति विश्वविद्यालय को उत्कृष्टता केंद्र के रूप में स्थापित किया है।
  • मंत्रालय को पहले ही पांच पेटेंट दिए जा चुके हैं, जो रेलवे प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बौद्धिक संपदा अधिकारों के लिए एक सक्रिय दृष्टिकोण का संकेत देता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. कवच क्या है और यह रेलवे सुरक्षा में कैसे योगदान देता है?

उत्तर: कवच रेल मंत्रालय द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित एक स्वचालित ट्रेन सुरक्षा (एटीपी) प्रणाली है। यदि ड्राइवर ऐसा करने में विफल रहता है तो यह ट्रेन के ब्रेकिंग सिस्टम के स्वचालित सक्रियण के माध्यम से टकराव को रोकता है।

2. रेल मंत्रालय तकनीकी प्रगति के साथ कैसे तालमेल बिठा रहा है?

उत्तर: रेल मंत्रालय 5जी-आधारित संचालन के लिए 700 मेगाहर्ट्ज बैंड में 5 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम आवंटित करके तकनीकी प्रगति के साथ तालमेल बिठा रहा है।

3. रेल मंत्रालय पूरे रेलवे नेटवर्क पर कवच को तैनात करने में क्षमता की कमी को कैसे दूर करना चाहता है?

उत्तर: रेल मंत्रालय का लक्ष्य 2025-26 तक रेलवे पटरियों पर कवच स्थापित करने की क्षमता मौजूदा 1,500 रूट किलोमीटर प्रति वर्ष से बढ़ाकर 5,000 रूट किलोमीटर करना है।

परीक्षा से संबंधित स्थैतिक प्रश्न

  • रेलवे बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और सीईओ: अनिल कुमार लाहोटी
  • रेलवे के नए अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ): श्रीमती जया वर्मा सिन्हा

More Sci-Tech News Here

रेलवे 'कवच' को एलटीई में अपग्रेड करेगा: अश्विनी वैष्णव |_40.1

FAQs

‘प्रिंसपल ऑफ पॉपुलेशन’ को किसने लिखा?

ब्रिटिश अर्थशास्त्री माल्थस ने ‘प्रिंसपल ऑफ पॉपुलेशन’ को लिखा।

TOPICS: