Home   »   ‘दिव्यांग बच्चों के लिए आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल’...

‘दिव्यांग बच्चों के लिए आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल’ का शुभारंभ

'दिव्यांग बच्चों के लिए आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल' का शुभारंभ |_30.1

केंद्रीय डब्ल्यूसीडी मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने हाल ही में 28 नवंबर, 2023 को विज्ञान भवन में एक राष्ट्रीय आउटरीच कार्यक्रम में आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल दिव्यांग बच्चों का शुभारंभ किया।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास तथा अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्रीमती। स्मृति जुबिन ईरानी ने हाल ही में 28 नवंबर, 2023 को विज्ञान भवन में एक राष्ट्रीय आउटरीच कार्यक्रम में आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल दिव्यांग बच्चों का शुभारंभ किया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य दिव्यांग बच्चों की समग्र भलाई को मजबूत करना था और इसमें विभिन्न मंत्रियों और संगठनों के प्रमुख अधिकारियों, विशेषज्ञों और हितधारकों ने भाग लिया।

लॉन्च इवेंट में प्रमुख प्रतिभागी

विज्ञान भवन में आयोजित लॉन्च कार्यक्रम में डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई (एमडब्ल्यूसीडी और आयुष राज्य मंत्री), श्री इंदीवर पांडे (सचिव, एमओडब्ल्यूसीडी), श्री राजेश अग्रवाल (सचिव, डीईपीडब्ल्यूडी) और डॉ. के. के. त्रिपाठी ( आर्थिक सलाहकार, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय) उपस्थित थे। कार्यक्रम वरिष्ठ अधिकारियों, राज्य अधिकारियों और निमहांस जैसे विशेषज्ञ संगठनों को एक साथ लाया।

मौजूदा पहलों का अवलोकन

केंद्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने चल रहे प्रयासों पर प्रकाश डाला, जिसमें 4.37 से अधिक बच्चों को भोजन और ईसीसीई के लिए सहायता मिल रही है, 0 से 3 वर्ष की आयु के 4.5 करोड़ बच्चे टेक-होम संबंधों और घरेलू दौरों से लाभान्वित हो रहे हैं और 8 करोड़ से अधिक बच्चों के विकास और स्वास्थ्य रेफरल की निगरानी की जा रही है। मंत्री ने इन उपलब्धियों को हासिल करने में आंगनवाड़ी नेटवर्क के महत्व पर जोर दिया।

स्वस्थ सुपोषित भारत विज़न

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के स्वस्थ सुपोषित भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप, दिव्यांग बच्चों के लिए आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल पोषण अभियान के तहत समावेशी देखभाल के लिए एक सामाजिक मॉडल का प्रतीक है। प्रोटोकॉल में तीन प्रमुख चरण होते हैं:

  1. प्रारंभिक विकलांगता लक्षणों के लिए स्क्रीनिंग
  2. सामुदायिक आयोजनों में शामिल करना और परिवारों को सशक्त बनाना
  3. आशा/एएनएम और राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) टीमों के माध्यम से रेफरल समर्थन

कार्यान्वयन और समर्थन

प्रोटोकॉल दिव्यांग बच्चों के लिए शिक्षा और पोषण की विशेष जरूरतों को पूरा करने में प्रत्येक जिला प्रशासन का मार्गदर्शन करता है। यह सशक्तिकरण के लिए स्वावलंबन कार्ड पेश करता है और पोषण ट्रैकर के माध्यम से विकासात्मक मील के पत्थर पर नज़र रखने पर जोर देता है। मंत्री ने समर्थन बढ़ाने के लिए हेल्पलाइनों के एकीकरण का प्रस्ताव रखा।

आंगनवाड़ी केंद्रों पर फोकस

मंत्री ने समावेशिता सुनिश्चित करने के लिए आंगनवाड़ी केंद्रों को उन्नत करने की आवश्यकता पर बल दिया। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण के लिए 300 करोड़ रुपये के महत्वपूर्ण आवंटन की घोषणा की गई। दिव्यांग बच्चों की पहचान और समावेशन के लिए विशेष प्रशिक्षण में डीईपीडब्ल्यूडी के मार्गदर्शन और समर्थन पर प्रकाश डाला गया।

समुदायों और जागरूकता की भूमिका

मंत्री ने जागरूकता पैदा करने और समुदायों को संवेदनशील बनाने के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के नेतृत्व में एक मौन क्रांति पर जोर दिया। दिव्यांग बच्चे को शिक्षित करने की प्रक्रिया, जो कभी कई लोगों के लिए महंगी और अप्राप्य थी, अब आंगनवाड़ी नेटवर्क के माध्यम से सस्ती बना दी गई है। मंत्री ने विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के माता-पिता तक पहुंच बनाने का आग्रह किया।

डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई का संबोधन

डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को इस प्रयास की कुंजी मानते हुए प्रत्येक बच्चे को देश के विकास में बराबर का हिस्सा बनाने का लक्ष्य व्यक्त किया। आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल दिव्यांग बच्चों के विकास के लिए एक पोषण वातावरण बनाने, समावेशन को बढ़ावा देने और मतभेदों का जश्न मनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतीक है।

निहितार्थ और प्रारंभिक हस्तक्षेप

सचिव एमओडब्लूसीडी, श्री इंदीवर पांडे ने आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल के निहितार्थों पर चर्चा की, जिसमें विकलांगता का शीघ्र पता लगाने के महत्व को सरकार की मान्यता पर जोर दिया गया। उन्होंने गृह दौरों के दौरान आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की सहायता करने में आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका पर प्रकाश डाला।

विशेषज्ञ पैनल चर्चा

“आंगनबाड़ी केंद्र में प्रारंभिक पहचान, स्क्रीनिंग और समावेशन के लिए रणनीतियाँ” शीर्षक से एक पैनल चर्चा में विशेषज्ञों ने सर्वोत्तम प्रथाओं पर चर्चा की। चर्चा ने विकलांगता के अंतर्निहित जोखिमों और व्यवस्थित चुनौतियों दोनों को संबोधित किया, जिससे प्रभावी कार्यान्वयन के लिए मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान की गई।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा साझा किये गये अनुभव

कार्यक्रम का समापन विभिन्न क्षेत्रों की आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा विशेष रूप से विकलांग बच्चों के साथ काम करने के अपने अनुभवों को साझा करने के साथ हुआ। इन प्रेरक कहानियों का उद्देश्य सभी को यह सुनिश्चित करने की सामूहिक जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए प्रेरित करना है कि कोई भी दिव्यांग बच्चा पीछे न छूटे।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. दिव्यांग बच्चों के लिए आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल किसने लॉन्च किया?

A. केंद्रीय महिला एवं बाल विकास तथा अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने।

Q2. आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल के लिए राष्ट्रीय आउटरीच कार्यक्रम कब आयोजित किया गया था?

A. 28 नवंबर, 2023 को।

Q3. दिव्यांग बच्चों के लिए आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल का प्राथमिक फोकस क्या है?

A. दिव्यांग बच्चों के समग्र कल्याण को मजबूत करना।

Find More National News Here

 

'दिव्यांग बच्चों के लिए आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल' का शुभारंभ |_40.1

 

FAQs

बेंगलुरु के सर्कुलर रेलवे की प्रस्तावित लंबाई क्या है?

बेंगलुरु के सर्कुलर रेलवे की प्रस्तावित लंबाई 287 किमी है, जो संभावित रूप से चेन्नई के 235.5 किमी सर्कुलर रेलवे को पार कर जाएगी, जो इसे भारत के सबसे बड़े उपनगरीय रेलवे नेटवर्क में से एक बनाती है।

TOPICS: