Home   »   केंद्र सरकार का फैसला, ओएमएसएस के...

केंद्र सरकार का फैसला, ओएमएसएस के तहत चावल और गेहूं की बिक्री बंद

केंद्र सरकार का फैसला, ओएमएसएस के तहत चावल और गेहूं की बिक्री बंद |_30.1

केंद्र सरकार ने महंगाई रोकने के लिए राज्य सरकारों को ओएमएसएस (ओपन मार्केट सेल स्कीम) के तहत चावल और गेहूं की बिक्री बंद कर दी है। इस फैसले से कर्नाटक सरकार को पहले ही अवगत करा दिया गया है, जिसने जुलाई के लिए ई-नीलामी के बिना ओएमएसएस के तहत अपनी ही योजना के लिए 3,400 रुपये प्रति क्विंटल की दर से 13,819 टन चावल की मांग की थी। भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) की ओर से जारी एक हालिया आदेश के अनुसार, “राज्य सरकारों के लिए ओएमएसएस (घरेलू) के तहत गेहूं और चावल की बिक्री बंद कर दी गई है।”

 

राज्य सरकारों को ओएमएसएस बिक्री बंद करना

भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) ने एक आदेश जारी कर कहा है कि ओएमएसएस (घरेलू) के तहत राज्य सरकारों को गेहूं और चावल की बिक्री बंद की जाती है। इस फैसले के बारे में कर्नाटक सरकार को पहले ही बता दिया गया है, जिसने जुलाई के लिए ओएमएसएस के तहत अपनी योजना के लिए 13,819 टन चावल का अनुरोध किया था। बिना ई-नीलामी के 3400 रुपए प्रति क्विंटल की दर से बिक्री की मांग की गई थी।

 

कुछ राज्यों के लिए छूट

जबकि राज्य सरकारों को चावल और गेहूं की बिक्री रुकी हुई है, ओएमएसएस के तहत चावल की बिक्री पूर्वोत्तर राज्यों, पहाड़ी क्षेत्रों और कानून और व्यवस्था की स्थिति या प्राकृतिक आपदाओं का सामना करने वाले राज्यों के लिए जारी रहेगी। इन राज्यों के लिए 3,400 रुपये प्रति क्विंटल की मौजूदा दर को बरकरार रखा जाएगा।

 

एफसीआई की भूमिका:

एफसीआई बाजार कीमतों को स्थिर करने के लिए आवश्यकतानुसार केंद्रीय पूल स्टॉक से ओएमएसएस के तहत निजी पार्टियों को चावल बेच सकता है। इस उपाय का उद्देश्य केंद्रीय पूल में पर्याप्त स्टॉक स्तर सुनिश्चित करते हुए मुद्रास्फीति की प्रवृत्ति को कम करना है।

 

उद्देश्य: नियंत्रण मुद्रास्फीति और स्टॉक प्रबंधन

ओएमएसएस (घरेलू) से राज्य सरकारों की योजनाओं को बाहर करने के निर्णय का उद्देश्य मुद्रास्फीति की प्रवृत्ति पर नियंत्रण बनाए रखना और केंद्रीय पूल में पर्याप्त स्टॉक स्तर सुनिश्चित करना है। सरकार का लक्ष्य खुले बाजार की कीमतों को नियंत्रित करने और आम जनता की जरूरतों को पूरा करने के बीच संतुलन बनाना है।

 

स्टॉक सीमा और ऑफलोडिंग

हाल ही में एक घोषणा में, केंद्र सरकार ने जमाखोरी से निपटने के लिए 31 मार्च, 2024 तक गेहूं पर स्टॉक सीमा लगा दी। इसके अतिरिक्त, सरकार खुले बाजार की कीमतों को ठंडा करने के लिए ओएमएसएस के तहत चावल और गेहूं को उतारने की योजना बना रही है। जबकि ओएमएसएस के तहत बिक्री के लिए गेहूं की मात्रा 15 लाख टन तय की गई है, चावल की मात्रा निर्दिष्ट नहीं की गई है।

 

आगामी नीलामी और बोली मात्रा में परिवर्तन:

वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए ओएमएसएस के तहत गेहूं की पहली नीलामी 28 जून को निर्धारित है। नया ओएमएसएस (डी) एक बोलीदाता द्वारा एक ही बोली में खरीदी जा सकने वाली मात्रा में बदलाव पेश करता है। पहले, एक खरीदार के लिए अधिकतम अनुमत मात्रा 3,000 टन प्रति बोली थी। हालांकि, इस बार, छोटे खरीदारों को समायोजित करने और व्यापक भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए, ओएमएसएस (डी) के तहत बेचे गए शेयरों के तत्काल वितरण को आम जनता के लिए सक्षम करने के लिए सीमा को घटाकर 10-100 टन प्रति बोली कर दिया गया है।

 

मानसून की चुनौतियाँ और बढ़ती कीमतें:

मानसून की बारिश में धीमी प्रगति और चावल और गेहूं की बढ़ती कीमतों के बीच राज्य सरकारों को ओएमएसएस की बिक्री बंद करने का निर्णय लिया गया है। आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि मंडी स्तर पर पिछले साल की तुलना में चावल की कीमतों में 10 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई है, जबकि पिछले महीने में 8 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। मानसून का मौसम महत्वपूर्ण है क्योंकि देश के कुल चावल उत्पादन का लगभग 80 प्रतिशत खरीफ मौसम के दौरान होता है, जिसकी बुवाई अगले महीने शुरू होने वाली है।

 

FAQs

गेहूं के क्या फायदे हैं?

स्टार्च और ऊर्जा का एक प्रमुख स्रोत होने के अलावा, गेहूं कई घटकों की पर्याप्त मात्रा भी प्रदान करता है जो स्वास्थ्य के लिए आवश्यक या फायदेमंद हैं.