Friday, 29 October 2021

पेगासस का उपयोग करके अनधिकृत निगरानी की जांच के लिए SC ने एक समिति का गठन किया

पेगासस का उपयोग करके अनधिकृत निगरानी की जांच के लिए SC ने एक समिति का गठन किया

 


भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने इजरायली फर्म एनएसओ ग्रुप (NSO Group) द्वारा विकसित स्पाइवेयर पेगासस  (Pegasus) का उपयोग करके अनधिकृत निगरानी के आरोपों को देखने के लिए तीन सदस्यीय समिति नियुक्त की है। इसकी अध्यक्षता सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति आर वी रवींद्रन (R V Raveendran) करेंगे। वह तकनीकी समिति के कामकाज की निगरानी करेंगे, जो "आरोपों की सच्चाई या झूठ" की जांच करेगी और "तेजी से" एक रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी। जस्टिस रवींद्रन बीसीसीआई में सुधार के लिए 2015 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त आरएम लोढ़ा (R M Lodha) समिति का हिस्सा थे।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

IBPS RRB क्लर्क मेन्स और SBI क्लर्क मेन्स 2021 परीक्षाओं के लिए करेंट अफेयर्स GA पॉवर कैप्सूल: Download PDF

समिति अन्य सदस्य:

  • नवीन कुमार चौधरी, प्रोफेसर (साइबर सुरक्षा और डिजिटल फोरेंसिक)
  • प्रभारन पी, प्रोफेसर (इंजीनियरिंग स्कूल)
  • अश्विन अनिल गुमस्ते, इंस्टीट्यूट चेयर एसोसिएट प्रोफेसर (कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग)

Find More News Related to Schemes & Committees

MSME Ministry launches "SAMBHAV" National Level Awareness Programme_90.1

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search