Thursday, 7 January 2021

RBI ने 50 करोड़ रुपये से अधिक के NEFT, RTGS लेनदेन के लिए की लीगल एंटिटी आइडेंटिफ़ायर की शुरुआत

RBI ने 50 करोड़ रुपये से अधिक के NEFT, RTGS लेनदेन के लिए की लीगल एंटिटी आइडेंटिफ़ायर की शुरुआत

 

भारतीय रिजर्व बैंक ने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) और नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (NEFT) के जरिए संस्थाओं (गैर-व्यक्तियों) द्वारा किए जाने वाले 50 करोड़ रुपये अथवा उससे अधिक मूल्य के सभी भुगतान लेनदेन के लिए लीगल एंटिटी आइडेंटिफ़ायर (LEI) की शुरुआत की है। रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) और नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (NEFT) RBI द्वारा संचालित सेंट्रलाइज्ड पेमेंट सिस्टम हैं। यह निर्देश 01 अप्रैल, 2021 से लागू होगा।


WARRIOR 4.0 | Banking Awareness Batch for SBI, RRB, RBI and IBPS Exams | Bilingual | Live Class


Legal Entity Identifier (LEI) के बारे में:

  • लीगल एंटिटी आइडेंटिफ़ायर (LEI) एक 20-अंकीय संख्या है जिसका उपयोग दुनिया भर में वित्तीय लेनदेन के लिए विशिष्ट रूप से पार्टियों की पहचान करने के लिए किया जाता है।
  • रिज़र्व बैंक ने बड़े पैमाने पर कर्ज लेने वालों और नॉन-डेरीवेटिव मार्केट्स के साथ-साथ बड़े कॉर्पोरेट उधारकर्ताओं के लिए भी LEI को चरणबद्ध तरीके से शुरू किया है।
  • LEI, को लीगल एंटिटी आइडेंटिफ़ायर इंडिया लिमिटेड (LEIL) से प्राप्त किया जा सकेगा, जो कि Clearing Corporation of India Ltd (CCIL) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है।

उपरोक्त समाचारों से आने-वाली परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य- 

  • RBI के 25 वें गवर्नर: शक्तिकांत दास; मुख्यालय: मुंबई; स्थापित: 1 अप्रैल 1935, कोलकाता.

Find More Banking News Here

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search