Home   »   विश्व दलहन दिवस: 10 फरवरी

विश्व दलहन दिवस: 10 फरवरी

विश्व दलहन दिवस: 10 फरवरी_3.1

हर साल विश्व दलहन दिवस यानी दालों का दिन 10 फरवरी को मनाया जाता है। इस दिवस की शुरुआत वैश्विक स्तर पर दालों के महत्व और उसकी माध्यम से प्राप्त होने वाले पोषिक तत्वों को ध्यान में रखते हुए की गई थी। दालों का प्रयोग न केवल पोषण प्राप्त करने के लिए किया जाता है बल्कि इसके माध्यम से भूख मरी और गरीबी को मिटाने में भी सहायता मिल रही है। दालें सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी खानपान का जरूरी हिस्सा हैं। वेजिटेरियनस के लिए तो दालें ही प्रोटीन का सबसे बड़ा स्त्रोत हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

विश्व दलहन दिवस 2023 की थीम

वर्ष 2016 में जब दलहन के लिए अंतर्राष्ट्रीय वर्ष मनाया गया था, तब इसके लिए एक थीम का चुनाव किया गया था और तभी से इस दिन को हर साल एक नई थीम के साथ मनाया जा रहा है। वर्ष 2023 में विश्व दलहन दिवस मनाने के लिए “सतत भविष्य के लिए दालें” इस थीम को चुना गया है।

 

विश्व दलहन दिवस मानने का उद्देश्य

सयुक्त राष्ट्र संघ दालों का उत्पादन बढ़ाकर दुनिया में गरीब कुपोषित देशों को पोषक तत्वों से भरपूर खाना उपलब्ध करवाना चाहता है। क्योंकि दालों में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते है।

 

विश्व दलहन दिवस का इतिहास

संयुक्त राष्ट्र की महासभा द्वारा 20 दिसंबर 2013 में प्रस्ताव से अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस मानने का निर्णय लिया गया। ‘अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस’ पहली बार साल 2016 में मनाया गया था। बाद में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 10 फरवरी 2019 को विश्व दाल दिवस के रूप में मनाने के लिए प्रस्ताव पारित किया था। जिसके बाद से 10 फरवरी को दाल दिवस मनाते है।

 

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

 

  • खाद्य और कृषि संगठन प्रमुख: क्यू डोंगयु;
  • खाद्य और कृषि संगठन का मुख्यालय: रोम, इटली;
  • खाद्य और कृषि संगठन की स्थापना: 16 अक्टूबर 1945।

Find More Important Days Here

Veer Bal Diwas 2022: History, Significance and Celebration in India_80.1

FAQs

दलहन और तिलहन से आप क्या समझते हैं?

दलहन शब्द अक्सर दाल की फसलों के लिए प्रयोग मर लाया जाता है जैसे चना, अरहर, मूंग, मसूर, उड़द आदि। वही तिलहन शब्द उन फसलों के लिए प्रयोग किया जाता है जिनसे तेल का उत्पादन होता है जैसे मूंगफली, सोयाबीन, सूरजमुखी, अलसी, सरसों आदि।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *