Home   »   वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे 2023: विषय और...

वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे 2023: विषय और महत्व

वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे 2023: विषय और महत्व |_30.1

विश्व भर में समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चों और उनके परिवारों की चिंताओं के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर वर्ष 17 नवंबर को वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे मनाया जाता है। हर वर्ष विश्व भर में सभी शिशुओं में एक में से लगभग 10 अर्थात लगभग 15 मिलियन बच्चे समयपूर्व जन्म लेते हैं। नवंबर को समयपूर्वता जागरूकता माह के रूप में मनाया जाता है।

यह दिवस 2008 में यूरोपीय मूल संगठनों द्वारा बनाया गया था। इसे 2011 से वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे के रूप में मनाया जा रहा है। विश्व समयपूर्वता दिवस के लिए आधिकारिक रंग बैंगनी है विश्व भर में पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में समय से पहले जन्म मौत का प्रमुख कारण है। समय से पहले जीवित रहने वाले बच्चों के लिए, समय से पहले जन्म से संबंधित विकलांगता का अतिरिक्त बोझ परिवारों और स्वास्थ्य प्रणालियों को प्रभावित कर सकता है।

 

2023 के लिए वैश्विक थीम: “छोटे कार्य, बड़ा प्रभाव”

वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे 2023 के लिए ग्लोबल थीम ‘छोटे कार्य, बड़ा प्रभाव: हर जगह हर बच्चे के लिए तत्काल त्वचा से त्वचा की देखभाल’ (Small Action Big Impact : Immediate Skin To Skin Care For Every Baby Everywhere) तय किया गया है। वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे का थीम त्वचा से त्वचा का संपर्क हर बच्चे के लिए काफी प्रभावी साबित हुआ है। खासकर प्रीमैच्योर जन्मे लेने वाले बच्चों के लिए।

 

वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे का महत्व

वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे, समयपूर्व जन्म की संभावनाओं को रोकने और पता लगाने के महत्व को बढ़ावा देता है। साथ ही जटिलताओं को कम करने के लिए शिशुओं के लिए सक्रिय देखभाल सुनिश्चित करता है और समयपूर्व जन्म से जुड़े जोखिमों को उजागर करके समयपूर्व शिशुओं की देखभाल को प्रोत्साहित करता है। वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे, इस समस्या के बारे में विस्तृत रिसर्स को बढ़ावा, समर्थन और प्रोत्साहित करने का अवसर है। इससे प्रीमैच्योर जन्म की रोकथाम, बेहतर प्रबंधन, देखभाल में मदद मिलेगी। साथ ही समय से प्रीमैच्योर बर्थ के परिणामों और जटिलताओं से निपटने के लिए उपचार आसानी से उपलब्ध होंगे।

 

वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे का इतिहास

वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे की नींव का इतिहास 1997 माना जाता है।  जब यूरोप की सिल्के मैडर नामक एक महिला जुड़वां बच्चों की उम्मीद कर रही थीं। गर्भावस्था के 25वें सप्ताह में उनकी समय से पहले डिलीवरी हो गई, एक की एक सप्ताह के बाद मृत्यु हो गई और दूसरी अब एक स्वस्थ किशोरी बन रही है। इस चुनौतीपूर्ण अनुभव ने सिल्के मैडर को सिखाया कि समय से पहले बच्चों की देखभाल में स्थान-संबंधित अंतराल होते हैं। 2008 में, उन्होंने नवजात शिशुओं की देखभाल के लिए यूरोपीय फाउंडेशन (The European Foundation For The Care Of Newborn Infants-EFCNI) की सह-स्थापना की।

 

Find More Important Days Here

वर्ल्ड प्रीमैच्योर डे 2023: विषय और महत्व |_40.1

FAQs

विश्व कैंसर दिवस कब मनाया जाता है?

हर साल 4 फरवरी को कैंसर डे मनाया जाता है.