Home   »   अंडमान और निकोबार कमांड में अंडरवाटर...

अंडमान और निकोबार कमांड में अंडरवाटर हार्बर रक्षा और निगरानी प्रणाली का उद्घाटन

अंडमान और निकोबार कमांड में अंडरवाटर हार्बर रक्षा और निगरानी प्रणाली का उद्घाटन_3.1

एडमिरल कुमार की यात्रा आईएनएस उत्क्रोश में एक अत्याधुनिक प्रिसिजन एप्रोच रडार (पीएआर) के उद्घाटन के अवसर पर हुई।

भारत की समुद्री सुरक्षा और परिचालन क्षमताओं को बढ़ाने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम में, नौसेना प्रमुख (सीएनएस) एडमिरल आर. हरि कुमार ने हाल ही में भारत की एकमात्र परिचालन ट्राइसर्विस कमांड, अंडमान और निकोबार कमांड (एएनसी) की एक महत्वपूर्ण यात्रा संपन्न की। 6 से 9 फरवरी, 2024 तक की उनकी यात्रा ने महत्वपूर्ण समुद्री क्षेत्र में अपनी रणनीतिक स्थिति और निगरानी क्षमताओं को बढ़ाने के लिए भारतीय नौसेना की प्रतिबद्धता को रेखांकित किया।

आईएनएस उत्क्रोश में प्रिसिजन एप्रोच रडार (पीएआर) का उद्घाटन

एडमिरल कुमार की यात्रा का मुख्य आकर्षण आईएनएस उत्क्रोश में अत्याधुनिक प्रिसिजन अप्रोच रडार (पीएआर) का उद्घाटन था। यह उन्नत रडार प्रणाली नौसैनिक विमानन के लिए एक गेम-चेंजर है, जो विमान को अत्यधिक सटीक क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर मार्गदर्शन प्रदान करती है (खासकर भारी बारिश और कोहरे जैसी कम दृश्यता की स्थिति में)। पीएआर की तैनाती चुनौतीपूर्ण मौसम की स्थिति में अपने विमानन संचालन की सुरक्षा और दक्षता सुनिश्चित करने के भारतीय नौसेना के प्रयासों का एक प्रमाण है।

एकीकृत अंडरवाटर हार्बर रक्षा और निगरानी प्रणाली (आईयूएचडीएसएस) लॉन्च

एडमिरल कुमार की यात्रा के दौरान हासिल किया गया एक और महत्वपूर्ण मील का पत्थर पोर्ट ब्लेयर में नौसेना जेटी पर एकीकृत अंडरवाटर हार्बर रक्षा और निगरानी प्रणाली (आईयूएचडीएसएस) का उद्घाटन था। आईयूएचडीएसएस एक अत्याधुनिक तकनीक है जो नौसेना घाट के आसपास सतह और पानी के नीचे दोनों खतरों का पता लगाने, पहचानने और ट्रैक करने में सक्षम है। यह प्रणाली पोर्ट ब्लेयर बंदरगाह की सुरक्षा को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाती है, इसे संभावित समुद्री खतरों से बचाती है और महत्वपूर्ण नौसैनिक संपत्तियों की सुरक्षा सुनिश्चित करती है।

संचार और परिचालन क्षमता को सुदृढ़ बनाना

एडमिरल कुमार की यात्रा में आईएनएस कोहासा, आईएनएस बाज और आईएनएस कार्डिप में नौसेना संचार नेटवर्क (एनसीएन) केंद्रों का उद्घाटन भी हुआ। इन केंद्रों को एएनसी की संचार और परिचालन क्षमताओं को बढ़ाने के लिए रणनीतिक रूप से डिजाइन किया गया है। नए एनसीएन की शुरूआत से वास्तविक समय की स्थितिजन्य जागरूकता में वृद्धि होगी और नौसेना कमान में संचार में अधिक एकजुटता को बढ़ावा मिलेगा।

कल्याण और बुनियादी ढांचे के विकास पर केंद्रण

रणनीतिक संवर्द्धन से परे, एडमिरल कुमार की यात्रा ने नौसेना कर्मियों के कल्याण पर जोर दिया। नेवी वेलफेयर एंड वेलनेस एसोसिएशन के अध्यक्ष कला हरि कुमार के साथ, उन्होंने विजय बाग में नाविकों के आवास की आधारशिला रखी। यह पहल एएनसी में तैनात अपने कर्मियों की जीवन स्थितियों और कल्याण में सुधार के लिए भारतीय नौसेना की प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

नौसेना कर्मियों के साथ जुड़ाव

एडमिरल कुमार की यात्रा का एक प्रमुख पहलू कमान के भीतर विभिन्न इकाइयों और प्रतिष्ठानों में तैनात कर्मियों के साथ उनकी बातचीत थी। ये बातचीत बलों के लिए मनोबल बढ़ाने का कार्य करती है और सीएनएस को जमीन पर कर्मियों की चुनौतियों और आवश्यकताओं के बारे में जानकारी प्रदान करती है।

Launch of UPI and RuPay Card in Sri Lanka and Mauritius_80.1

FAQs

बिहार की छह राज्यसभा सीट के लिए मतदान कब होगा?

27 फरवरी।

TOPICS: