Home   »   दक्षिणी रेलवे ने की पहली ट्रांसवुमन...

दक्षिणी रेलवे ने की पहली ट्रांसवुमन टीटीई की नियुक्ति

दक्षिणी रेलवे ने की पहली ट्रांसवुमन टीटीई की नियुक्ति |_30.1

सिंधु गणपति को दक्षिणी रेलवे की पहली ट्रांसवुमन ट्रैवलिंग टिकट परीक्षक (टीटीई) के रूप में नियुक्त किया गया है।

दक्षिणी रेलवे की पहली ट्रांसवुमन ट्रैवलिंग टिकट परीक्षक (टीटीई) के रूप में सिंधु गणपति की नियुक्ति भारतीय कार्यबल में समावेशिता और स्वीकृति की दिशा में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। 37 वर्ष की आयु में, सुश्री गणपति ने न केवल बाधाओं को तोड़ा है, बल्कि प्रतिष्ठित सरकारी पदों पर ट्रांसजेंडर समुदाय के प्रतिनिधित्व के लिए एक मिसाल भी कायम की है।

प्रारंभिक कैरियर और परिवर्तन की शुरुआत

सुश्री गणपति का रेलवे में करियर 2003 में शुरू हुआ जब वह एक सहायक के रूप में शामिल हुईं। वर्षों तक, जीवन तब तक सरल लगता रहा जब तक कि उसने हार्मोनल परिवर्तनों को नोटिस करना शुरू नहीं किया, जिसने उसके शरीर को बदल दिया, जिससे उसकी लिंग पहचान का एहसास और स्वीकृति हुई। रेलवे परिसर के भीतर एक सहायक वातावरण मिलने के बावजूद, सामाजिक दबाव और बाहरी दुनिया से समझ की कमी ने महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना किया, जिससे उन्हें 2010 में ट्रांसजेंडर समुदाय के बीच एकांत की अवधि के लिए अपनी नौकरी छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।

रेलवे की ओर वापसी की यात्रा

18 माह के आत्मनिरीक्षण और शांति की तलाश के बाद, सुश्री गणपति को समाज के भीतर एक सम्मानजनक स्थिति में लौटने की तीव्र इच्छा महसूस हुई और उन्होंने रेलवे में फिर से शामिल होने का फैसला किया। उसके लिंग परिवर्तन के कारण रेलवे अधिकारियों की शुरुआती झिझक के बावजूद, दक्षिणी रेलवे मजदूर संघ (एसआरएमयू) के नेताओं के हस्तक्षेप और समर्थन ने उसकी बहाली में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। रेलवे प्रशासन ने मेडिकल परीक्षण कराया और आधिकारिक तौर पर उसे एक महिला कर्मचारी के रूप में मान्यता दी, जिससे उसे अपनी सेवा जारी रखने की अनुमति मिल गई।

दक्षिणी रेलवे ने की पहली ट्रांसवुमन टीटीई की नियुक्ति |_40.1

 

FAQs

हाल ही में किस देश की कंपनी ने भारत में सेमीकंडक्टर प्लांट लगाने के लिए प्रस्ताव दिया है?

इजरायल की कंपनी ‘टॉवर सेमीकंडक्टर’