Home   »   तमिलनाडु की एआई-संचालित हाथी सुरक्षा प्रणाली...

तमिलनाडु की एआई-संचालित हाथी सुरक्षा प्रणाली का उद्देश्य हाथियों को ट्रेन की टक्कर से बचाना है

तमिलनाडु की एआई-संचालित हाथी सुरक्षा प्रणाली का उद्देश्य हाथियों को ट्रेन की टक्कर से बचाना है_3.1

तमिलनाडु की अग्रणी कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) आधारित प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली पूर्ण होने के करीब है। यह प्रणाली जंगली हाथियों को ट्रेन की टक्कर से बचाने के लिए डिज़ाइन की गई है।

परिचय

तमिलनाडु जंगली हाथियों को ट्रेन की टक्कर से बचाने के लिए डिज़ाइन की गई अपनी अग्रणी कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) आधारित प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली के पूरा होने के करीब है। यह परिवर्तनात्मक परियोजना एट्टीमदाई-वलयार रेलवे खंड के साथ कार्यान्वित की जा रही है, जो इन पैचीडर्मों के लिए सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत के रूप में कार्य कर रही है।

तमिलनाडु की एआई-आधारित प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली जंगली हाथियों के जीवन को संरक्षित करने और ट्रेन टकराव से जुड़े जोखिमों को कम करने के लिए एक उल्लेखनीय पहल है। जैसा कि कार्यान्वयन के अंतिम चरण चल रहे हैं, यह अनुमान लगाया गया है कि यह प्रणाली प्रौद्योगिकी और संरक्षण के सामंजस्यपूर्ण सह-अस्तित्व को प्रदर्शित करते हुए एट्टीमदाई-वलयार क्षेत्र में कीमती वन्यजीवों की सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

ई-निगरानी टावर्स: हाथियों की सुरक्षा में वृद्धि

वन विभाग ने इस अभूतपूर्व परियोजना के लिए 12 ई-निगरानी टावरों को सफलतापूर्वक स्थापित किया है, जो जुड़वां सिंगल लाइन रेलवे की ‘ए’ और ‘बी’ लाइनों के बीच विभाजित हैं।

थर्मल इमेजिंग कैमरे: ‘ए’ लाइन के साथ सभी टावरों पर थर्मल इमेजिंग कैमरे लगाए गए हैं, जबकि ‘बी’ लाइन पर वर्तमान में कैमरा इंस्टॉलेशन और नेटवर्किंग से संबंधित कार्य चल रहे हैं।

कवरेज क्षेत्र: थर्मल इमेजिंग कैमरों से सुसज्जित टावरों को रणनीतिक रूप से एट्टीमदाई-वलयार खंड के साथ 7.05 किमी तक फैले अत्यधिक संवेदनशील क्षेत्र में रखा गया है। यह क्षेत्र मदुक्कराई रेंज के सोलक्करई आरक्षित वन को पार करता है, जिसमें ‘ए’ लाइन पर 2.9 किमी और ‘बी’ लाइन पर 4.15 किमी है।

एआई-पावर्ड डिटेक्शन सिस्टम: हाथियों की सुरक्षा

एआई-आधारित प्रणाली इस परियोजना का केंद्र है, जो हाथियों की गतिविधि का पता लगाने और उसके बाद चेतावनी तंत्र पर ध्यान केंद्रित करती है।

एआई-आधारित थर्मल कैमरों की प्रोग्रामिंग: वर्तमान में, तकनीशियन झाड़ियों में छिपे हाथियों की गतिविधियों का पता लगाने के लिए ‘ए’ लाइन के साथ टावरों पर एआई-आधारित थर्मल कैमरों की प्रोग्रामिंग कर रहे हैं।

चेतावनी तंत्र: एक बार पूर्ण रूप से चालू होने पर, एआई प्रणाली हाथियों की गतिविधि की पहचान करेगी और इस जानकारी को वन विभाग के कर्मचारियों और रेलवे अधिकारियों दोनों को सूचित करेगी।

ट्रेन की गति में कमी: लोकोमोटिव पायलटों को ये अलर्ट प्राप्त होंगे और वे तुरंत ट्रेन की गति को कम करने में सक्षम होंगे, जिससे हाथियों की सुरक्षा सुनिश्चित होगी और दुर्घटनाओं को रोका जा सकेगा।

हाथी-ट्रेन टकराव को कम करना: एक महत्वपूर्ण आवश्यकता

इस परियोजना की तात्कालिकता इस तथ्य से रेखांकित होती है कि 2008 और 2022 के बीच, कोयंबटूर और पलक्कड़ को जोड़ने वाली रेलवे लाइनों पर छह ट्रेन टक्करों में कुल 11 हाथियों की जान चली गई। इस नवोन्मेषी एआई-आधारित प्रणाली का उद्देश्य ऐसी दुखद घटनाओं को काफी हद तक कम करना और क्षेत्र में वन्यजीवों की रक्षा करना है।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य:

तमिलनाडु का गठन – 26 जनवरी 1950;
तमिलनाडु की राजधानी – चेन्नई;
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री – एम. के. स्टालिन;
तमिलनाडु के राज्यपाल – आर. एन. रवि।

 

FAQs

तमिलनाडु के प्रथम राज्यपाल कौन थे?

सरदार उज्ज्वल सिंह

TOPICS: