gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक विवाह को...

सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक विवाह को वैध बनाने की अपील खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक विवाह को वैध बनाने की अपील खारिज की |_3.1

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने देश में समलैंगिक विवाहों को वैध बनाने की अपील को अस्वीकार कर दिया, जिससे दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देशों में से एक में एलजीबीटीक्यू अधिकारों को आघात लगा।

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने हाल ही में एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया, जिसमें देश में समलैंगिक विवाहों को वैध बनाने की अपील को अस्वीकार कर दिया गया, जिससे दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देशों में से एक में एलजीबीटीक्यू अधिकारों को आघात हुआ। मंगलवार को घोषित फैसले में अप्रैल और मई में प्रस्तुत तर्कों का पालन किया गया और इसमें पांच न्यायाधीशों का एक पैनल सम्मिलित था, जिनमें से तीन ने निष्कर्ष निकाला कि मामले को न्यायपालिका के बजाय संसद द्वारा संबोधित किया जाना चाहिए।

 

संसदीय परिप्रेक्ष्य

इस उल्लेखनीय कदम में, मुख्य न्यायाधीश धनंजय यशवंत चंद्रचूड़ ने इस बात पर बल दिया कि समलैंगिक विवाह जैसे मुद्दे संसद के अधिकार क्षेत्र में होने चाहिए, जो नीतिगत मामलों से निपटने के लिए अदालत की प्रतिबद्धता को उजागर करता है। चंद्रचूड़ ने समलैंगिक संघों को कानूनी सुरक्षा प्रदान करने के महत्व को स्वीकार करते हुए कहा कि विषमलैंगिक जोड़ों को दिए जाने वाले लाभों और सेवाओं से इनकार करना उनके मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है। उन्होंने तर्क दिया कि जीवन साथी चुनने का अधिकार भारत के संविधान के अनुच्छेद 21 के अंतर्गत जीवन और स्वतंत्रता के अधिकार का एक मूल तत्व है।

 

मौलिक अधिकारों को स्वीकार करना

किसी व्यक्ति की खुशी और जीवन विकल्पों की खोज के लिए समान लिंग संबंधों को मौलिक मानने के महत्व पर चंद्रचूड़ का बल एलजीबीटीक्यू अधिकारों को भारत के लोकतांत्रिक मूल्यों के भाग के रूप में स्वीकार करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। एलजीबीटीक्यू संबंधों को वैध और कानूनी सुरक्षा के योग्य के रूप में मान्यता देना सभी के लिए समानता सुनिश्चित करने का एक मूलभूत पहलू है।

 

भेदभाव के विरुद्ध संरक्षण

कानूनी सुरक्षा के महत्व को पहचानने के अलावा, चंद्रचूड़ ने एलजीबीटीक्यू व्यक्तियों के खिलाफ भेदभाव को रोकने के उपायों का भी आह्वान किया। इसमें एलजीबीटीक्यू समुदाय के कमजोर सदस्यों के लिए हॉटलाइन और सुरक्षित घरों की स्थापना सम्मिलित है। इसके अलावा, उन्होंने आत्मनिर्णय के अधिकार का सम्मान करने के महत्व पर बल देते हुए लिंग पहचान या यौन अभिविन्यास को बदलने के उद्देश्य से चिकित्सा प्रक्रियाओं को समाप्त करने की वकालत की।

 

परिणाम और एलजीबीटीक्यू समुदाय की प्रतिक्रिया

मंगलवार का फैसला भारत में एलजीबीटीक्यू अधिकारों के लिए चल रहे संघर्ष में एक महत्वपूर्ण क्षण है। नितिन जैन जैसे कार्यकर्ताओं सहित एलजीबीटीक्यू समुदाय ने फैसले पर निराशा व्यक्त की। जैन ने समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की मांग पर प्रकाश डाला और कहा कि अदालत के फैसले ने प्रभावी रूप से यथास्थिति बनाए रखी है। कई लोगों का मानना है कि यह निर्णय न्याय और समानता के सिद्धांतों को बनाए रखने की अदालत की जिम्मेदारी से मुक्ति है।

 

एलजीबीटीक्यू समुदाय द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियाँ

यह फैसला एक अनुस्मरण है कि 2018 से भारत में समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटा दिए जाने के बावजूद, एलजीबीटीक्यू व्यक्तियों को अभी भी अपने जीवन के विभिन्न पहलुओं में भेदभाव का सामना करना पड़ता है। देश के राजनीतिक परिदृश्य में पारंपरिक मूल्यों का प्रभाव जारी है, जिससे एलजीबीटीक्यू अधिकारों के लिए पूर्ण स्वीकृति और सुरक्षा प्राप्त करना चुनौतीपूर्ण हो गया है। एलजीबीटीक्यू अधिकारों के प्रति खुले तौर पर विरोध जताए जाने के कारण, भारत के एलजीबीटीक्यू समुदाय के लिए आगे की राह अनिश्चित बनी हुई है।

 

Find More National News Here

सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक विवाह को वैध बनाने की अपील खारिज की |_4.1

FAQs

सर्वोच्च न्यायालय के प्रथम मुख्य न्यायाधीश कौन थे?

सर्वोच्च न्यायालय के प्रथम मुख्य न्यायाधीश सर हीरालाल जयकिशन दास कानिया थे।