Home   »   भारत-श्रीलंका फेरी सेवा चार दशकों के...

भारत-श्रीलंका फेरी सेवा चार दशकों के पश्चात पुनः खुली

भारत-श्रीलंका फेरी सेवा चार दशकों के पश्चात पुनः खुली_3.1

भारत-श्रीलंका फेरी सेवा के हिस्से के रूप में, तमिलनाडु में नागपट्टिनम को उत्तरी श्रीलंका के जाफना में कांकेसंथुराई से जोड़ने वाली ‘चेरियापानी’ फेरी सेवा का आधिकारिक तौर पर उद्घाटन किया गया।

तमिलनाडु के नागपट्टिनम से उत्तरी श्रीलंका के जाफना में कांकेसंथुराई तक यात्री फेरी सेवा के उद्घाटन के साथ भारत और श्रीलंका के बीच एक सदियों पुराने समुद्री मार्ग का कायाकल्प किया गया है। इस पहल का उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करना, पर्यटन को बढ़ावा देना और दोनों तटों पर स्थानीय व्यापारियों को लाभ पहुंचाते हुए लोगों से लोगों के बीच संबंधों को बढ़ाना है।

 

नई सेवा

‘चेरियापानी’ नाम की यात्री फेरी सेवा आधिकारिक तौर पर शनिवार को आरंभ की गई। इस हाई-स्पीड क्राफ्ट के लिए एक तरफ़ा टिकट की कीमत लगभग 7,670 रुपये है, जिसमें प्रति यात्री 40 किलोग्राम तक का जेनरस बैगेज एलाउन्स है। यात्रा सुबह 7 बजे नागपट्टिनम से आरंभ होती है, सुबह 11 बजे कांकेसंथुराई पहुंचती है, और वापसी यात्रा दोपहर 1.30 बजे आरंभ होती है, शाम 5.30 बजे नागपट्टिनम पहुंचती है।

 

पिछला मार्ग

हालाँकि हाल ही में फेरी सेवा का उद्घाटन एक नया विकास है, परंतु, भारत और श्रीलंका के बीच समुद्री संपर्क का एक लंबा इतिहास है। इंडो-सीलोन एक्सप्रेस या बोट मेल 1900 के प्रारंभ से 1982 तक थूथुकुडी बंदरगाह के माध्यम से चेन्नई और कोलंबो के बीच संचालित होती थी। हालांकि, श्रीलंका में गृहयुद्ध के कारण इन सेवाओं को निलंबित कर दिया गया।

 

गृहयुद्ध से पूर्व समय में: धनुषकोडी से तलाईमन्नार तक

गृहयुद्ध से पूर्व समय में:, सबसे लोकप्रिय मार्गों में से एक धनुषकोडी से तलाईमन्नार तक था। चेन्नई के यात्री बोट मेल एक्सप्रेस, चेन्नई के एग्मोर रेलवे स्टेशन से एक ट्रेन में सवार होंगे, और फिर धनुषकोडी में कोयले से चलने वाली भाप फेरी में जाएंगे, जो उन्हें लगभग दो घंटे में तलाईमन्नार ले जाएगी।

 

पुनः प्रारंभ करने का प्रयास

भारत और श्रीलंका के बीच फेरी सेवाओं को पुनः आरंभ करने का विचार वर्षों से (विशेषतः 2009 में गृह युद्ध की समाप्ति के बाद) विचाराधीन है। समुद्र के द्वारा यात्री परिवहन से संबंधित एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर 2011 में हस्ताक्षर किए गए थे, और इस प्रकार से यह सेवा आरंभ की गई थी। हालाँकि, खराब प्रतिक्रिया के कारण यह छह माह से अधिक नहीं चल सकी।

रामेश्वरम से तलाईमन्नार और कराईकल से कांकेसंथुराई तक सेवाएं स्थापित करने के भी प्रयास किए गए, परंतु विभिन्न चुनौतियों ने इन प्रस्तावों को साकार होने से रोक दिया।

 

नई सेवा का संभावित प्रभाव

यात्री फेरी सेवा की पुनः स्थापना से इस क्षेत्र पर गहरा प्रभाव पड़ने की संभावना है। अतिरिक्त परिवहन विकल्प प्रदान करके, यह भारत और श्रीलंका दोनों के तटीय क्षेत्रों में धार्मिक पर्यटन को बढ़ा सकता है। भारतीय तीर्थ केंद्रों और मंदिर कस्बों में श्रीलंकाई पर्यटकों की भीड़ देखने की उम्मीद है, जो इन क्षेत्रों में स्थानीय अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करेगा।

 

नई फेरी सेवा के प्रति तमिलनाडु की प्रतिबद्धता

इस नई सेवा के महत्व को पहचानते हुए, तमिलनाडु राज्य सरकार सक्रिय रूप से बुनियादी ढांचे के विकास पर कार्य कर रही है। लोक निर्माण मंत्री ई. वी. वेलु ने कहा है कि राज्य यात्रियों के लिए सहज अनुभव सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार के विभिन्न विभागों के साथ समन्वय कर रहा है।

 

नागपट्टिनम बंदरगाह पर बुनियादी ढांचे में वृद्धि

तमिलनाडु मैरीटाइम बोर्ड के अंतर्गत नागापट्टिनम बंदरगाह को हाल ही में केंद्रीय विदेश मंत्रालय से 8 करोड़ रुपये के फंड से अपग्रेड किया गया था। सेवा के शुभारंभ पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बात पर बल दिया कि कनेक्टिविटी केवल दो शहरों को करीब लाने के बारे में नहीं है बल्कि देशों, लोगों और दिलों को करीब लाने के बारे में भी है।

 

Find More International News Here

भारत-श्रीलंका फेरी सेवा चार दशकों के पश्चात पुनः खुली_4.1

FAQs

श्रीलंका की पहली महिला प्रधान मंत्री कौन थी?

सिरिमावो भंडार नायके दुनिया के किसी भी देश की पहली महिला प्रधान मंत्री थीं, वह 1960 में श्रीलंका की प्रधान मंत्री बनीं थी।