Home   »   भारतीय स्टेट बैंक ने कामेश्वर राव...

भारतीय स्टेट बैंक ने कामेश्वर राव कोदावंती को सीएफओ नियुक्त किया

भारतीय स्टेट बैंक ने कामेश्वर राव कोदावंती को सीएफओ नियुक्त किया |_30.1

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने कामेश्वर राव कोदावंती को अपना मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) नियुक्त करने की घोषणा की है। वह 1991 से एसबीआई से जुड़े हैं। एसबीआई के सीएफओ के पद पर रहे चरणजीत सुरिंदर सिंह अत्रा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है जिसके बाद एसबीआई ने कामेश्वर राव कोदावंती को बैंक का नया सीएफओ नियुक्त किया। भारतीय स्टेट बैंक ने चरणजीत सिंह अत्रा को 01 अक्टूबर 2020 से अपने CFO के रूप में नियुक्त किया था जिसके तीन साल बाद 30 जून को चरणजीत सिंह अत्रा ने अपना इस्तीफा दे दिया। कामेश्वर राव कोदावंती को 1 जुलाई 2023 से भारतीय स्टेट बैंक का सीएफओ नियुक्त किया गया है।

 

कामेश्वर राव कोदावंती के बारे में

 

कामेश्वर राव कोदावंती अगस्त 1991 से भारतीय स्टेट बैंक के साथ काम कर रहे हैं और उन्हें बैंकिंग, विदेशी मुद्रा, वित्त और लेखांकन के क्षेत्र में काफी अनुभव है। आपको बता दें की मुख्य वित्तीय अधिकारी चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं।

 

नियुक्ति के निहितार्थ

 

कोदावंती के सीएफओ के रूप में कार्यभार संभालने से, भारतीय स्टेट बैंक को उनके व्यापक अनुभव और बैंकिंग क्षेत्र के गहन ज्ञान से लाभ होने की उम्मीद है। सीएफओ के रूप में, वह बैंक की वित्तीय रणनीतियों की देखरेख, वित्तीय जोखिमों का प्रबंधन और नियामक आवश्यकताओं का अनुपालन सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। उनकी नियुक्ति बैंक की नेतृत्व टीम को मजबूत करने और देश में एक अग्रणी वित्तीय संस्थान के रूप में अपनी स्थिति को मजबूत करने की प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

 

भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य विशेषताएं

 

भारत में सबसे बड़ा ऋणदाता: भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) को संपत्ति और ग्राहक आधार दोनों के मामले में भारत में सबसे बड़ा बैंक होने का गौरव प्राप्त है। यह देश के बैंकिंग क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और देश की आर्थिक वृद्धि में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

व्यापक शाखा नेटवर्क: एसबीआई एक व्यापक शाखा नेटवर्क का दावा करता है, जिसकी भारत भर में 22,000 से अधिक शाखाएँ फैली हुई हैं। यह विशाल उपस्थिति बैंक को विविध ग्राहक आधार को पूरा करने और शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने की अनुमति देती है।

उत्पादों और सेवाओं की विविध श्रृंखला: एसबीआई अपने ग्राहकों की विविध आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए वित्तीय उत्पादों और सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। इनमें खुदरा बैंकिंग, कॉर्पोरेट बैंकिंग, ट्रेजरी संचालन, धन प्रबंधन, बीमा, ऋण और बहुत कुछ शामिल हैं।

डिजिटल परिवर्तन: एसबीआई भारतीय बैंकिंग उद्योग में डिजिटल परिवर्तन में सबसे आगे रहा है। बैंक ने ग्राहक अनुभव और सुविधा को बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी को अपनाया है। यह विभिन्न डिजिटल चैनल और सेवाएं जैसे इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग और निर्बाध लेनदेन के लिए एक मजबूत ऑनलाइन प्लेटफॉर्म प्रदान करता है।

वैश्विक उपस्थिति: एसबीआई की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर महत्वपूर्ण उपस्थिति है, इसकी शाखाएँ और सहायक कंपनियाँ कई देशों में स्थित हैं। यह भारत और वैश्विक वित्तीय बाजार के बीच एक पुल के रूप में कार्य करता है, ग्राहकों के लिए अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और प्रेषण सेवाओं की सुविधा प्रदान करता है।

वित्तीय समावेशन पर जोर: एसबीआई भारत में वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। बैंक ने समाज के वंचित वर्गों और ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए विभिन्न पहल लागू की हैं। इसने देश भर में वित्तीय पहुंच का विस्तार करने के सरकार के प्रयासों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

 

Find More News Related to Banking

भारतीय स्टेट बैंक ने कामेश्वर राव कोदावंती को सीएफओ नियुक्त किया |_40.1

 

 

FAQs

भारतीय स्टेट बैंक की स्थापना कब हुई थी?

भारतीय स्टेट बैंक की स्थापना 1 जुलाई 1955 को की गई थी.