Home   »   एस जयशंकर ने वियतनाम में महात्मा...

एस जयशंकर ने वियतनाम में महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण किया

एस जयशंकर ने वियतनाम में महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण किया_3.1

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने वियतनाम की आधिकारिक यात्रा के दौरान हो ची मिन्ह सिटी में महात्मा गांधी की एक प्रतिमा का अनावरण किया।

हाल ही में, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने वियतनाम की महत्वपूर्ण आधिकारिक यात्रा आरंभ की। यह यात्रा न केवल द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने का प्रतीक है, बल्कि महात्मा गांधी और रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा अपनाए गए स्थायी सिद्धांतों और मूल्यों का उत्सव भी है। इस यात्रा ने भारत और वियतनाम के बीच गहरे संबंधों और वैश्विक मुद्दों के समाधान के लिए साझा प्रतिबद्धता को रेखांकित किया।

महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण

जयशंकर की वियतनाम यात्रा के दौरान प्रमुख घटनाओं में से एक हो ची मिन्ह सिटी में महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण समारोह था। अपने संबोधन में, जयशंकर ने सत्य, अहिंसा और स्वतंत्रता के सिद्धांतों के लिए गांधी की वैश्विक मान्यता पर प्रकाश डालते हुए इस आयोजन के प्रतीकात्मक महत्व पर जोर दिया।

महात्मा गांधी की स्थायी विरासत

जयशंकर ने इस बात पर बल दिया कि महात्मा गांधी ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान भारत को एकजुट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और वे दुनिया भर के देशों और उन देशों के लोगों को प्रेरित करते रहे। मंत्री ने भारत के स्वच्छ भारत मिशन और लैंगिक असमानताओं को दूर करने के प्रयासों जैसे उदाहरणों का हवाला देते हुए गांधी के विचारों के स्थायी प्रभाव के संबंध में भी बात की।

राजनयिक बैठकें

अपनी यात्रा के दौरान, जयशंकर ने कई राजनयिक बैठकों में भाग लिया जिससे भारत-वियतनाम साझेदारी और मजबूत हुई। उन्होंने वियतनाम की हो ची मिन्ह सिटी पार्टी के सचिव गुयेन वान नेन से मुलाकात की और द्विपक्षीय संबंधों में शहर के महत्वपूर्ण योगदान को स्वीकार किया। इसके द्वारा राजनीतिक राजधानियों से परे क्षेत्रीय शहरों तक फैली भारत-वियतनाम साझेदारी के महत्व को रेखांकित किया गया।

वियतनाम के प्रधान मंत्री से मुलाकात

विदेश मंत्री ने वियतनामी प्रधान मंत्री फाम मिन्ह चिन्ह के साथ भी एक महत्वपूर्ण बैठक की। इस मुलाकात के दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से शुभकामनाएं दीं और द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने के लिए चिन्ह के मार्गदर्शन की सराहना की। इस बैठक में वियतनाम के साथ अपने संबंधों को उच्चतम स्तर पर विकसित करने की भारत की प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया गया।

प्रमुख मुद्दों पर संमिलन

वियतनाम की कम्युनिस्ट पार्टी के बाह्य संबंध आयोग के अध्यक्ष ले होई ट्रुंग के साथ जयशंकर की चर्चा ने प्रमुख क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भारत और वियतनाम के अभिसरण दृष्टिकोण पर प्रकाश डाला। यह साझा परिप्रेक्ष्य क्षेत्रीय स्थिरता और जलवायु परिवर्तन सहित आपसी चिंता के मुद्दों पर भविष्य के सहयोग के लिए अच्छा संकेत है।

आधिकारिक निमंत्रण और द्विपक्षीय संबंध

वियतनाम की यह आधिकारिक यात्रा उनके समकक्ष, वियतनाम के विदेश मामलों के मंत्री, बुई थान सोन के निमंत्रण पर विस्तारित की गई थी। निमंत्रण का यह विस्तार दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों की गर्मजोशी और महत्व को रेखांकित करता है।

रवीन्द्रनाथ टैगोर का उत्सव

महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण करने के अलावा, जयशंकर ने बाक निन्ह प्रांत में रवींद्रनाथ टैगोर की प्रतिमा का भी अनावरण किया। प्रख्यात कवि और दार्शनिक टैगोर भारतीयों के दिलों में एक विशेष स्थान रखते हैं और उन्होंने विश्व साहित्य पर अमिट प्रभाव डाला है। इस कार्यक्रम ने भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और वियतनाम के साथ इसके सांस्कृतिक संबंधों का जश्न मनाने का कार्य किया।

                    Check HereJaishankar unveils Rabindranath Tagore’s bust in Vietnam

सांस्कृतिक विनियमन

यह यात्रा केवल औपचारिक कूटनीति तक सीमित नहीं थी। जयशंकर को क्वान हो आर्ट थिएटर ग्रुप के प्रदर्शन का आनंद लेने का अवसर मिला। यह सांस्कृतिक आदान-प्रदान लोगों के बीच संबंधों को गहरा करता है और एक-दूसरे की विरासत की अधिक सराहना को बढ़ावा देता है।

 

FAQs

वियतनाम की राजधानी क्या है?

वियतनाम की राजधानी हनोई है।