Home   »   मई में खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट,...

मई में खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट, भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए राहत की उम्मीद

मई में खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट, भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए राहत की उम्मीद_3.1

खाद्य पदार्थों की कीमतों में गिरावट के कारण मई में भारत की खुदरा मुद्रास्फीति घटकर 25 महीने के निचले स्तर 4.25% पर आ गई है, जो अर्थशास्त्रियों की भविष्यवाणियों के अनुरूप है। यह उपभोक्ता मूल्य सूचकांक-आधारित (CPI) मुद्रास्फीति को भारतीय रिजर्व बैंक के 4% के मध्यम अवधि के लक्ष्य के करीब लाता है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए क्या मायने रखती है?

  • खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट केंद्रीय बैंक के लिए राहत के रूप में आई है, जिसने अपनी पिछली नीति समीक्षा में प्रमुख दरों को अपरिवर्तित रखा था और शेष वर्ष के लिए दरों में वृद्धि को रोकने की संभावना है।
  • हालांकि अर्थशास्त्रियों ने आगाह किया है कि मुद्रास्फीति में नरमी का रुख मानसून पर अल नीनो के प्रभाव के अधीन है।
  • दूसरी ओर, सरकारी आंकड़ों से पता चला है कि औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) अप्रैल में बढ़कर 4.2% हो गया, जो मार्च में 1.1% था।

Find More News on Economy HereUrban Unemployment in India Declines to 6.8% in January to March 2023 quarter_80.1

FAQs

CPI क्या है ?

CPI (Consumer Price Index) एक मानक आंकड़ा है जिसका उपयोग उपभोक्ताओं के खरीदारी शक्ति के माप के लिए किया जाता है।