Home   »   रियर एडमिरल उपल कुंडू बने दक्षिणी...

रियर एडमिरल उपल कुंडू बने दक्षिणी नौसेना कमान के चीफ ऑफ स्टाफ

रियर एडमिरल उपल कुंडू बने दक्षिणी नौसेना कमान के चीफ ऑफ स्टाफ |_30.1

एक अनुभवी अधिकारी और भारतीय नौसेना अकादमी के प्रतिष्ठित पूर्व छात्र, रियर एडमिरल उपल कुंडू ने दक्षिणी नौसेना कमान (एसएनसी) में चीफ ऑफ स्टाफ की भूमिका संभाली है।

भारतीय नौसेना अकादमी के प्रतिष्ठित पूर्व छात्र, रियर एडमिरल उपल कुंडू ने हाल ही में दक्षिणी नौसेना कमान (एसएनसी) में चीफ ऑफ स्टाफ के रूप में पदभार संभाला है। इन्हें विशेष रूप से पनडुब्बी रोधी युद्ध (एएसडब्ल्यू) में अनुभव और विशेषज्ञता प्राप्त है।

प्रारंभिक कैरियर और कमीशनिंग

1991 में भारतीय नौसेना में कमीशन प्राप्त, रियर एडमिरल उपल कुंडू ने एक प्रतिष्ठित नौसैनिक करियर की शुरुआत की। प्रतिष्ठित भारतीय नौसेना अकादमी में उनके शुरुआती प्रशिक्षण ने उनकी भविष्य की उपलब्धियों की नींव रखी। अपने समर्पण और प्रतिबद्धता के लिए जाने जाने वाले कुंडू नौसेना संचालन के लिए एक प्राकृतिक योग्यता का प्रदर्शन करते हुए तेजी से रैंकों में आगे बढ़े।

पनडुब्बी रोधी युद्ध में विशेषज्ञता (एएसडब्ल्यू)

रियर एडमिरल कुंडू ने पनडुब्बी खतरों का मुकाबला करने में दक्षता का प्रदर्शन करते हुए एक एएसडब्ल्यू विशेषज्ञ के रूप में अपनी पहचान बनाई। यह विशिष्ट कौशल उनके करियर की आधारशिला बन गया क्योंकि उन्होंने भारतीय नौसेना के भीतर विभिन्न चुनौतीपूर्ण भूमिकाएँ निभाईं।

रियर एडमिरल उपल कुंडू बने दक्षिणी नौसेना कमान के चीफ ऑफ स्टाफ |_40.1

उल्लेखनीय नौसेना जहाजों की कमान

एडमिरल के शानदार करियर में कई प्रमुख नौसैनिक जहाजों की कमान संभालना शामिल है। उनमें से, उन्होंने गाइडेड मिसाइल फ्रिगेट आईएनएस त्रिकंद और मिसाइल कार्वेट आईएनएस कुठार का उत्कृष्टता से संचालन किया। उनका नेतृत्व तत्कालीन आईएनएस अक्षय तक बढ़ा, जिसने इन जहाजों की परिचालन तैयारी में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

तटवर्ती कमान – आईएनएस तानाजी और आईएनएस कदंबा

समुद्र में अपनी उपलब्धियों के अलावा, रियर एडमिरल उपल कुंडू ने तटवर्ती कमांडों में अपने प्रबंधकीय कौशल का प्रदर्शन किया। आईएनएस तानाजी और आईएनएस कदंबा में उनके नेतृत्व ने भूमि-आधारित स्थितियों से नौसेना संचालन की कुशलतापूर्वक निगरानी करने की उनकी क्षमता को प्रदर्शित किया।

शैक्षिक उपलब्धियां

अपने पेशेवर ज्ञान को और बढ़ाते हुए, रियर एडमिरल कुंडू ने डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज (वेलिंगटन) से स्नातक की उपाधि प्राप्त की। इस शैक्षिक उपलब्धि ने उन्हें रणनीतिक अंतर्दृष्टि से सुसज्जित किया, जिससे वे भारतीय नौसेना के भीतर उच्च जिम्मेदारियों के लिए तैयार हुए।

कमोडोर, नाविक ब्यूरो

जैसे-जैसे वे रैंकों में आगे बढ़ते रहे, रियर एडमिरल कुंडू ने नाविक ब्यूरो के कमोडोर के रूप में कार्य किया। इस महत्वपूर्ण भूमिका में नाविक कल्याण और प्रशासन से संबंधित विभिन्न पहलुओं की देखरेख करना, नौसेना कर्मियों के समग्र कल्याण में योगदान देना शामिल था।

मुख्य कर्मचारी अधिकारी (प्रशिक्षण) – एसएनसी मुख्यालय

फ्लैग रैंक पर पदोन्नति के बाद, रियर एडमिरल कुंडू ने दक्षिणी नौसेना कमान (एसएनसी) के मुख्यालय में मुख्य कर्मचारी अधिकारी (प्रशिक्षण) की जिम्मेदारी संभाली। इस क्षमता में, उन्होंने नौसेना कर्मियों के लिए प्रशिक्षण प्रोटोकॉल को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

चीफ ऑफ स्टाफ – एसएनसी में परिवर्तन

हाल के एक घटनाक्रम में, रियर एडमिरल उपल कुंडू ने दक्षिणी नौसेना कमान (एसएनसी) में चीफ ऑफ स्टाफ का प्रतिष्ठित पद ग्रहण किया है। उनका व्यापक अनुभव, नेतृत्व कौशल और रणनीतिक दृष्टि उन्हें दक्षिणी नौसेना कमान की परिचालन प्रभावशीलता और तत्परता सुनिश्चित करने में एक मूल्यवान व्यक्ति बनाती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. रियर एडमिरल उपल कुंडू की विशेषज्ञता क्या है?

A) सतही युद्ध
B) पनडुब्बी रोधी युद्ध (एएसडब्ल्यू)
C) वायु रक्षा

2. मिसाइल कार्वेट के रूप में रियर एडमिरल कुंडू ने किस जहाज की कमान संभाली?

A) आईएनएस कुठार
B) आईएनएस त्रिकंद
C) आईएनएस विक्रमादित्य

3. रियर एडमिरल कुंडू ने अपने करियर में किन दो तटवर्ती इकाइयों की देखरेख की?

A) आईएनएस त्रिकंद और आईएनएस कुठार
B) आईएनएस तानाजी और आईएनएस कदंबा
C) आईएनएस विक्रमादित्य और आईएनएस विराट

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

रियर एडमिरल उपल कुंडू बने दक्षिणी नौसेना कमान के चीफ ऑफ स्टाफ |_50.1

FAQs

हाल ही में, लाल चींटी की चटनी को GI टैग का दर्जा मिला है, यह किस राज्य से संबंधित है?

हाल ही में ‘ओडिशा’ राज्य की लाल चींटी की चटनी को GI टैग का दर्जा मिला है।