Home   »   RBI द्वारा सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया...

RBI द्वारा सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और सोनाली बैंक पीएलसी पर लगाया गया भारी जुर्माना

RBI द्वारा सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और सोनाली बैंक पीएलसी पर लगाया गया भारी जुर्माना |_3.1

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने ग्राहक संरक्षण और KYC मानदंडों से संबंधित उल्लंघनों के लिए सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और सोनाली बैंक पीएलसी पर जुर्माना लगाया है। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया पर ₹1.45 करोड़ का जुर्माना लगाया गया है, जिसमें अनियमित ऋण स्वीकृति और अनधिकृत लेन-देन देरी जैसी अनियमितताएं शामिल हैं। वहीं, सोनाली बैंक पीएलसी पर KYC निर्देशों, 2016 के साथ गैर-अनुपालन के लिए ₹96.4 लाख का जुर्माना लगाया गया है। ये दंड RBI की बैंकिंग क्षेत्र में नियामक और सांविधिक अनुपालन को लागू करने की प्रतिबद्धता को उजागर करते हैं

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के जुर्माने का विवरण

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया पर ₹1.45 करोड़ का जुर्माना लगाया गया है, जो 2022 के लिए पर्यवेक्षी मूल्यांकन के लिए सांविधिक निरीक्षण (ISE 2022) के दौरान पहचानी गई समस्याओं के कारण है। उल्लंघनों में सरकारी सब्सिडी के खिलाफ ऋण स्वीकृत करना और अनधिकृत इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन के लिए ग्राहकों को क्रेडिट करने में देरी शामिल थी।

सोनाली बैंक पीएलसी के दंड का विवरण

सोनाली बैंक पीएलसी, जो बांग्लादेश के वाणिज्यिक बैंकिंग क्षेत्र का हिस्सा है, को आरबीआई द्वारा निर्धारित केवाईसी मानदंडों का पालन न करने के लिए ₹96.4 लाख का जुर्माना मिला है। यह जुर्माना आरबीआई के सभी बैंकिंग परिचालनों में मजबूत अनुपालन मानकों को सुनिश्चित करने के प्रयास को रेखांकित करता है।

आरबीआई का बयान

आरबीआई ने स्पष्ट किया कि ये जुर्माने किसी विशिष्ट लेनदेन की वैधता पर निर्णय नहीं हैं, बल्कि नियामक मानकों को बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं। इन जुर्मानों का लगाया जाना उन बैंकों के खिलाफ आरबीआई द्वारा आगे की कार्रवाई को बाधित नहीं करता है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई): प्रमुख बिंदु

  • स्थापना: RBI की स्थापना 1 अप्रैल, 1935 को भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 के तहत की गई थी।
  • राज्यपाल: राज्यपाल सर्वोच्च रैंकिंग वाले अधिकारी के रूप में कार्य करता है। नवीनतम अपडेट के अनुसार, शक्तिकांत दास आरबीआई के गवर्नर हैं।

कार्य

    • मौद्रिक प्राधिकरण: मूल्य स्थिरता बनाए रखने के लिए मौद्रिक नीति तैयार करता है और लागू करता है।
    • नियामक और पर्यवेक्षक: स्थिरता सुनिश्चित करने और उपभोक्ता हितों की रक्षा के लिए वित्तीय प्रणाली को नियंत्रित और पर्यवेक्षण करता है।
    • मुद्रा जारीकर्ता: भारत में मुद्रा नोट और सिक्के जारी करने का एकमात्र प्राधिकरण।
    • विकासात्मक भूमिका: वित्तीय क्षेत्र के सतत् विकास और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देता है।

RBI द्वारा सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और सोनाली बैंक पीएलसी पर लगाया गया भारी जुर्माना |_4.1

FAQs

RBI की स्थापना कब की गई थी?

RBI की स्थापना 1 अप्रैल, 1935 को भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 के तहत की गई थी।

TOPICS: