Home   »   आरबीआई की मौद्रिक नीति, रेपो रेट...

आरबीआई की मौद्रिक नीति, रेपो रेट 6.5% पर स्थिर

आरबीआई की मौद्रिक नीति, रेपो रेट 6.5% पर स्थिर |_30.1

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने रेपो रेट को 6.5 फीसदी पर बरकरार रखते हुए एक महत्वपूर्ण घोषणा की है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने रेपो दर को 6.5 प्रतिशत पर बरकरार रखते हुए एक महत्वपूर्ण घोषणा की है। यह निर्णय लगातार छठी बार लिया गया है। 1 फरवरी, 2024 को प्रस्तुत अंतरिम बजट के बाद दर अपरिवर्तित रही है। आरबीआई का रुख अपनी उदार मौद्रिक नीति को वापस लेने पर केंद्रित है, जिसका लक्ष्य आर्थिक विकास के साथ मुद्रास्फीति नियंत्रण को संतुलित करना है। एमपीसी की अगली बैठक 3 से 5 अप्रैल, 2024 के दौरान निर्धारित है।

रेपो रेट निर्णय

8 फरवरी, 2024 को संपन्न हुई हालिया बैठक में एमपीसी के छह में से पांच सदस्यों ने रेपो दर को स्थिर रखने के पक्ष में मतदान किया। इस कदम की वित्तीय विशेषज्ञों द्वारा व्यापक रूप से आशा की गई थी, जिन्हें उम्मीद थी कि दर 6.5 प्रतिशत पर रहेगी। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने मुद्रास्फीति को लक्ष्य के साथ उत्तरोत्तर संरेखित करने को सुनिश्चित करने के लिए मौद्रिक नीति में अवस्फीतिकारी रुख के महत्व पर जोर दिया।

आरबीआई दरें इस प्रकार हैं-

  • पॉलिसी रेपो दर: 6.50%
  • स्थायी जमा सुविधा (एसडीएफ): 6.25%
  • सीमांत स्थायी सुविधा दर: 6.75%
  • बैंक दर: 6.75%
  • फिक्स्ड रिवर्स रेपो दर: 3.35%
  • सीआरआर: 4.50%
  • एसएलआर: 18.00%

मुद्रास्फीति और विकास अनुमान

आरबीआई ने वित्तीय वर्ष 2023-2024 के लिए अपने मुद्रास्फीति पूर्वानुमान को 5.4 प्रतिशत पर बनाए रखा है, अगले वर्ष के लिए विस्तृत दृष्टिकोण के साथ उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) मुद्रास्फीति 4.5 प्रतिशत की भविष्यवाणी की है। इस विस्तृत अनुमान में तिमाही अनुमान शामिल हैं, जो पहली तिमाही में 5 प्रतिशत से शुरू होता है और वित्त वर्ष 2024-2025 की चौथी तिमाही तक धीरे-धीरे 4.7 प्रतिशत तक समायोजित होता है।

आरबीआई ने जोखिमों को समान रूप से संतुलित करते हुए वित्त वर्ष 2025 के लिए 7 प्रतिशत की वास्तविक जीडीपी वृद्धि का अनुमान लगाया है।

वित्त वर्ष 2025 के लिए वास्तविक जीडीपी वृद्धि 7% रहने का अनुमान है।

  • वित्त वर्ष 24 की पहली तिमाही के लिए 7.2% अनुमानित है।
  • वित्त वर्ष 24 की दूसरी तिमाही के लिए 6.8% अनुमानित है।
  • वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही के लिए 7% अनुमानित है।
  • वित्त वर्ष 24 की चौथी तिमाही के लिए 6.9% अनुमानित है।

प्रमुख घोषणाएँ और नीतिगत उपाय

एमपीसी का निर्णय अर्थव्यवस्था को मजबूत करने और वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से कई महत्वपूर्ण घोषणाओं के साथ आया है:

  • भारत का विदेशी मुद्रा भंडार: वर्तमान में $622.5 बिलियन है, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार सभी विदेशी दायित्वों को पूरा करने के लिए आरामदायक माना जाता है।
  • ऋण पारदर्शिता: ऋणदाताओं को अब खुदरा और एमएसएमई उधारकर्ताओं को ऋण के लिए “मुख्य तथ्य विवरण” प्रदान करना आवश्यक है, जिससे पारदर्शिता और उपभोक्ता संरक्षण में वृद्धि होगी।
  • मुद्रास्फीति और जीडीपी लक्ष्य: आरबीआई सतर्क है और संतुलित वास्तविक जीडीपी वृद्धि का अनुमान लगाते हुए 4 प्रतिशत के टिकाऊ मुद्रास्फीति लक्ष्य को प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।

आरबीआई एमपीसी के सदस्य कौन हैं?

आरबीआई एमपीसी में छह सदस्य शामिल हैं, जिनमें बाहरी सदस्य और आरबीआई अधिकारी दोनों शामिल हैं। इसमें आरबीआई गवर्नर, 2 डिप्टी गवर्नर और 3 बाहरी सदस्य शामिल हैं।

  • शक्तिकांत दास, आरबीआई के गवर्नर
  • माइकल देबब्रत पात्रा, आरबीआई के डिप्टी गवर्नर
  • केंद्रीय बोर्ड द्वारा नामित आरबीआई के अधिकारी राजीव रंजन, सदस्य
  • प्रोफेसर आशिमा गोयल, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च, सदस्य
  • प्रो. जयंत आर. वर्मा, प्रोफेसर, भारतीय प्रबंधन संस्थान अहमदाबाद, सदस्य
  • डॉ. शशांक भिडे, वरिष्ठ सलाहकार, नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च, सदस्य।

आरबीआई की मौद्रिक नीति, रेपो रेट 6.5% पर स्थिर |_40.1

 

FAQs

‘दिव्य कला मेला 2024’ का आयोजन 06 फरवरी से 11 फरवरी 2024 के बीच किस राज्य में हो रहा है?

‘दिव्य कला मेला 2024’ का आयोजन त्रिपुरा के आगरतला में हो रहा है।

TOPICS: