Home   »   महाराष्ट्र सरकार द्वारा सांगली जिले में...

महाराष्ट्र सरकार द्वारा सांगली जिले में नए अटपाडी संरक्षण रिजर्व की घोषणा

महाराष्ट्र सरकार द्वारा सांगली जिले में नए अटपाडी संरक्षण रिजर्व की घोषणा |_30.1

महाराष्ट्र सरकार ने हाल ही में सांगली जिले के अटपाडी क्षेत्र में एक नए संरक्षण रिजर्व की स्थापना की घोषणा की है, जिसका नाम ‘अटपाडी संरक्षण रिजर्व’ है।

महाराष्ट्र सरकार ने हाल ही में सांगली जिले के अटपाडी क्षेत्र में एक नए संरक्षण रिजर्व की स्थापना की घोषणा की है, जिसका नाम ‘अटपाडी संरक्षण रिजर्व’ है। यह महत्वपूर्ण विकास क्षेत्र में वन्य जीवन और जैव विविधता के संरक्षण की दिशा में एक कदम है।

अटपाडी संरक्षण रिजर्व की मुख्य विशेषताएं

  • स्थान और कनेक्टिविटी: अटपाडी संरक्षण रिजर्व सांगली जिले की वन भूमि में स्थित है। यह एक महत्वपूर्ण पारिस्थितिक पुल बनाता है, जो पश्चिम में मैनी संरक्षण क्षेत्र को उत्तर पूर्व में मालधोक पक्षी अभयारण्य से जोड़ता है। यह कनेक्टिविटी क्षेत्र में वन्यजीवों की आवाजाही और आनुवंशिक विविधता के लिए महत्वपूर्ण है।
  • जैव विविधता: रिज़र्व विविध प्रकार की वनस्पतियों और जीवों की मेजबानी करता है। इसमें तीन प्रकार के वन क्षेत्र शामिल हैं: अर्ध-सदाबहार, नम पर्णपाती, और शुष्क पर्णपाती। यह क्षेत्र 36 वृक्ष प्रजातियों, 116 जड़ी-बूटियों की प्रजातियों, 15 झाड़ी प्रजातियों, 14 बेल प्रजातियों और 1 परजीवी पौधे का घर है।
  • वन्यजीव संरक्षण: अटपाडी संरक्षण रिजर्व का एक मुख्य उद्देश्य विभिन्न स्तनधारियों जैसे भेड़िये, सियार, हिरण, लोमड़ी, सिवेट, खरगोश और अन्य प्रजातियों के आवास को संरक्षित करना है। रिजर्व की स्थापना इन वन्यजीव गलियारों के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।
  • क्षेत्र और पारिस्थितिकी: रिज़र्व एक महत्वपूर्ण क्षेत्र में फैला हुआ है और एक समृद्ध पारिस्थितिक टेपेस्ट्री की विशेषता है, जो महाराष्ट्र के समग्र पर्यावरणीय स्वास्थ्य और जैव विविधता में योगदान देता है।

घोषणा का महत्व

  • संरक्षण प्रयास: अटपाडी संरक्षण रिजर्व की घोषणा वन्यजीव संरक्षण और जैव विविधता के प्रति महाराष्ट्र की प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है। यह विभिन्न प्रजातियों के प्राकृतिक आवास की रक्षा और रखरखाव के लिए एक सक्रिय दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करता है।
  • पारिस्थितिक संतुलन: विभिन्न प्रकार के वनों और वन्यजीव प्रजातियों को संरक्षित करके, रिज़र्व पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखेगा और क्षेत्र के पर्यावरण के समग्र स्वास्थ्य में योगदान देगा।
  • अनुसंधान और शिक्षा: रिज़र्व पारिस्थितिक अनुसंधान और पर्यावरण शिक्षा के लिए एक मूल्यवान स्थल के रूप में भी काम करेगा, जो संरक्षण विज्ञान और प्रथाओं की हमारी समझ में योगदान देगा।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. अटपाडी संरक्षण रिजर्व का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?
A) पर्यटन को बढ़ावा देना
B) वन्य जीवन और जैव विविधता का संरक्षण करना
C) व्यावसायिक गतिविधियाँ स्थापित करना
D) वनों की कटाई को प्रोत्साहित करना

Q2. अटपाडी संरक्षण रिजर्व वन्यजीव आंदोलन और आनुवंशिक विविधता में किस प्रकार से योगदान देता है?
A) वन्य जीवन के लिए बाधाएँ पैदा करके
B) वन्यजीव व्यापार को बढ़ावा देकर
C) पारिस्थितिक पुल के रूप में कार्य करके
D) कनेक्टिविटी कम करके

Q3. अटपाडी संरक्षण रिजर्व में किस प्रकार के वन क्षेत्र मौजूद हैं?
A) सदाबहार और शंकुधारी
B) अर्ध-सदाबहार, नम पर्णपाती, और शुष्क पर्णपाती
C) उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय
D) मैंग्रोव और तटीय

Q4. अटपाडी कंजर्वेशन रिजर्व में पेड़ों की कितनी प्रजातियाँ पाई जाती हैं?
A) 50
B) 75
C) 100
D) 36

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

महाराष्ट्र सरकार द्वारा सांगली जिले में नए अटपाडी संरक्षण रिजर्व की घोषणा |_40.1

FAQs

एनआईसीएमएआर को हाल ही में अपने ग्रीन कैंपस रेटिंग प्रोग्राम के तहत किसके द्वारा प्रतिष्ठित प्लेटिनम प्रमाणन से सम्मानित किया गया है?

एनआईसीएमएआर को हाल ही में अपने ग्रीन कैंपस रेटिंग प्रोग्राम के तहत इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (आईजीबीसी) द्वारा प्रतिष्ठित प्लेटिनम प्रमाणन से सम्मानित किया गया है।