Home   »   कच्छ की देसी खारेक को मिला...

कच्छ की देसी खारेक को मिला भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग

कच्छ की देसी खारेक को मिला भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग |_30.1

गुजरात के कच्छ के शुष्क क्षेत्र की देशी खजूर की किस्म कच्छी खारेक को हाल ही में प्रतिष्ठित भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग से सम्मानित किया गया है।

गुजरात के कच्छ के शुष्क क्षेत्र की देशी खजूर की किस्म कच्छी खारेक को हाल ही में प्रतिष्ठित भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग से सम्मानित किया गया है। यह सम्मान गिर केसर आम के बाद कच्छी खारेक को गुजरात के दूसरे फल के रूप में मान्यता देता है, जिसे इस तरह के सम्मान से सम्मानित किया गया है।

जीआई टैग का महत्व

बौद्धिक सम्पति की सुरक्षा

जीआई टैग बौद्धिक संपदा का एक रूप है जो किसी उत्पाद को एक विशिष्ट भौगोलिक स्थान से उत्पन्न होने की पहचान करता है। यह उस क्षेत्र के विशिष्ट गुणों, प्रतिष्ठा या विशेषताओं से पहचाना जाता है। यह टैग न केवल किसी विशेष क्षेत्र से जुड़े उत्पादों की सुरक्षा और प्रचार करता है बल्कि नाम के अनधिकृत उपयोग को भी रोकता है।

बाज़ार के अवसर बढ़ाना

जीआई टैग प्राप्त करना कच्छ के किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है, क्योंकि यह उनकी स्वदेशी खजूर किस्म को एक विशिष्ट पहचान प्रदान करता है। इस मान्यता से विपणन और प्रसंस्करण के लिए नए रास्ते खुलने की उम्मीद है, जिससे संभावित रूप से बेहतर मूल्य निर्धारण और उच्च निर्यात कीमतों को प्रोत्साहन मिलेगा, जिससे स्थानीय किसानों को लाभ होगा।

कच्ची खारेक की अनोखी विशेषताएं

ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व

कच्छ में तिथियों का इतिहास 400-500 वर्ष पुराना है। ऐसा माना जाता है कि इस क्षेत्र में खजूर के पेड़ हज और व्यापार के लिए मध्य पूर्व का दौरा करने वाले निवासियों द्वारा लाए गए बीजों से विकसित हुए हैं। इन उपवनों में कच्छ के पूर्व शासकों के महलों में कार्यरत अरब बागवानों का भी योगदान हो सकता है।

कृषि एवं भौगोलिक विशेषताएँ

गुजरात के खजूर की खेती का 94% क्षेत्र कच्छ में है, जिसका क्षेत्रफल 19,251 हेक्टेयर है। इस क्षेत्र के खजूर के पेड़ों पर जनवरी-फरवरी में फूल आते हैं, जबकि ताजा खजूर (खारेक) की कटाई जून-जुलाई में होती है। यह क्षेत्र चरम मौसम की स्थिति और उच्च खारा सहनशीलता के लिए अनुकूलता के लिए जाना जाता है, जो इसे खजूर की खेती के लिए आदर्श बनाता है।

खजूर के पेड़ों में विविधता

कच्छ में अंकुर-उत्पत्ति वाले ताड़ के पेड़ खजूर के विभिन्न रंगों, आकारों, आकृतियों और स्वाद सहित विविधता की एक विशाल श्रृंखला का प्रतिनिधित्व करते हैं। कच्छ को विश्व स्तर पर एकमात्र स्थान माना जाता है जहां ताजा खजूर की आर्थिक रूप से खेती, विपणन और खपत की जाती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

  1. गुजरात में कच्छ के शुष्क क्षेत्र के किस स्वदेशी फल को हाल ही में भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग प्राप्त हुआ?
  2. कच्छी खारेक के अलावा, गुजरात का दूसरा फल कौन सा है जिसे जीआई टैग से सम्मानित किया गया है?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें!!

कच्छ की देसी खारेक को मिला भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग |_40.1

FAQs

उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री कौन हैं?

उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री चंद्रकांत पाटिल जी हैं।