Home   »   जलियांवाला बाग की 104वीं बरसी

जलियांवाला बाग की 104वीं बरसी

जलियांवाला बाग की 104वीं बरसी_3.1

13 अप्रैल, 1919 को जलियांवाला बाग में अमृतसर, पंजाब में जल्लियांवाला बाग हत्याकांड हुआ था, जो भारतीय लोगों के खिलाफ उत्पीड़न की एक घटना और ब्रिटिश औपचारिक शासन के दौरान उनके विरुद्ध किए गए अत्याचारों का प्रतीक है। यह हत्याकांड भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, क्योंकि यह राष्ट्र की आत्मसमर्पण को बढ़ावा देने और ब्रिटिश उपेक्षा से मुक्त होने की इच्छा को बढ़ाता है। जलियांवाला बाग हत्याकांड भारत के स्वाधीनता संग्राम में एक मोड़ बना, क्योंकि इससे गांधी को भारतीय राष्ट्रवाद और ब्रिटेन से आजादी के लिए पूरी तरह समर्पित होने की प्रेरणा मिली।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

जलियांवाला बाग में लोग क्यों इकट्ठा होते हैं?

1919 के 13 अप्रैल को ब्रिटिश सैन्य अधिकारी, जनरल डायर, अपनी सेना के साथ जलियांवाला बाग (अमृतसर) में घुस गए, जहां लोग शांतिपूर्ण रूप से दो राष्ट्रवादी नेताओं, सत्य पाल और डॉ. सैफउद्दीन किचलू के गिरफ़्तारी के विरोध में एकत्र हुए थे। लोगों को बिना किसी चेतावनी के उन्होंने अपनी सेना को असंख्य निहत्थे लोगों पर फायरिंग करने के आदेश दिए। हमला दस मिनट तक चला, जब तक उनकी गोली समाप्त नहीं हो गई, इसके बाद ब्रिटिश सैनिकों ने वहां से चले गए। कुल 1,650 गोलियां चलाई गईं, और अधिकतम 500 लोग मारे गए थे। घायलों की सटीक संख्या अभी भी अज्ञात है।

बैसाखी के सुबह, कर्नल रेजिनल्ड डायर ने अमृतसर के सभी क्षेत्रों में कर्फ्यू लागू करने और सभी प्रदर्शनों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी, जो एक समूह में 4 या अधिक लोगों के सार्वजनिक मिलने को भी रोक देता था। लगभग 12:40 बजे, डायर को जलियांवाला बाग में होने वाली बैठक के बारे में गोपनीय जानकारी मिली, जो दंगों और प्रदर्शनों की वजह बन सकती थी।

जनरल डायर के आदेश:

जलियांवाला बाग की 104वीं बरसी_4.1
जनरल डायर ने अपनी सेना को चेतावनी के बिना प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाने के आदेश जारी किए थे। बाद में उन्होंने अपने कार्यों की बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने भारतीयों को सबक सिखाना चाहा था और अधिक सेना उपलब्ध होते तो वह और ज्यादा बल उपयोग करते। फायरिंग के समय वहां करीब 25,000 लोग मौजूद थे। कुछ लोग भागने की कोशिश करते थे जबकि कुछ लोग जलियांवाला बाग के परिसर में बने सुनसान कुएं में कूदना चुनते। सेना को आदेश दिए गए थे कि वे सबसे अधिक भीड़ वाली जगह से फायरिंग शुरू करें ताकि सबसे अधिक लोगों को हानि पहुंचे।

जलियांवाला बाग हत्याकांड का बदला कौन लेगा?

दुर्भाग्य के बाद, सरदार उधम सिंह ने माइकल ओ’ड्वायर, पंजाब के गवर्नर जनरल के रूप में सेवानिवृत्त ब्रिटिश अधिकारी की हत्या करके अपने लोगों का प्रतिशोध लिया। उधम सिंह 26 दिसंबर 1899 को जन्मे थे, वह घदर पार्टी और हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन (एचएसआरए) के सदस्य थे। माइकल ओ’ड्वायर की हत्या ने उन्हें व्यापक चरित्र दिया। सिंह ने अमृतसर में जलियांवाला बाग में हुई 1919 की हत्या का प्रतिशोध लेने के लिए हत्या की थी। शेर सिंह के रूप में जन्मे उन्होंने तहल सिंह और नरेन कौर के घराने में पैदा हुए थे, जो ब्रिटिश भारत के लाहौर से लगभग 130 मील दूर था। उनका बड़ा भाई साधु उनसे दो साल बड़ा था, जिससे वह सबसे छोटे थे। उन्होंने एक समय में दोनों माता-पिता को खो दिया था, एक अलग-अलग हादसे में।

स्मारक:

1951 में, जलियांवाला बाग में पीड़ितों को स्मरण करने के लिए एक स्मारक बनाया गया था। इस पार्क का क्षेत्रफल लगभग 6.5 एकड़ है, जिसमें एक संग्रहालय है जो घटना से संबंधित वस्तुओं को प्रदर्शित करता है। हर साल 13 अप्रैल को लोग पीड़ितों को श्रद्धांजलि देने के लिए पार्क में एकत्रित होते हैं। जलियांवाला बाग हत्याकांड भारत के इतिहास में एक अंधेरे पन्ने के रूप में बना हुआ है और इसका प्रभाव आज भी महसूस किया जा सकता है।इस घटना ने भारत की स्वतंत्रता संग्राम के लिए एक उत्तेजक का काम किया था और कई भारतीयों को अपनी आजादी के लिए लड़ने के लिए प्रेरित किया था।

FAQs

पंजाब की राजधानी क्या है ?

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *