Home   »   भारत का राजकोषीय घाटा 7 महीनों...

भारत का राजकोषीय घाटा 7 महीनों में वित्त वर्ष 2014 के लक्ष्य के 45% तक पहुँच गया

भारत का राजकोषीय घाटा 7 महीनों में वित्त वर्ष 2014 के लक्ष्य के 45% तक पहुँच गया |_30.1

चालू वित्तीय वर्ष (FY24) में अप्रैल और अक्टूबर के बीच की अवधि के लिए भारत का राजकोषीय घाटा सरकार के महत्वाकांक्षी लक्ष्य 17.87 ट्रिलियन रुपये के 45% तक पहुंच गया है।

वित्तीय वर्ष 2023-24 के पहले सात महीनों में, भारत का राजकोषीय घाटा एक महत्वपूर्ण मील के पत्थर तक पहुंच गया है, जो 17.87 ट्रिलियन रुपये के वार्षिक लक्ष्य का 45% है। यह विश्लेषण देश के वित्तीय स्वास्थ्य को आकार देने वाले प्रमुख आंकड़ों और रुझानों पर प्रकाश डालता है।

I. राजकोषीय घाटे का अवलोकन

अप्रैल से अक्टूबर की अवधि के दौरान, राजकोषीय घाटा 8.04 ट्रिलियन रुपये था, जो पिछले वित्तीय वर्ष की इसी समय सीमा में 7.57 ट्रिलियन रुपये से उल्लेखनीय वृद्धि दर्शाता है।

II. लक्ष्य तुलना

45% का वर्तमान राजकोषीय घाटा पिछले वर्ष की समान अवधि के साथ काफी हद तक संरेखित है, जहां घाटा 2022-23 के बजट अनुमान का 45.6% था। सरकार की राजकोषीय योजना आर्थिक स्थिरता के प्रबंधन में महत्वपूर्ण बनी हुई है।

III. राजकोषीय घाटे की परिभाषा

राजकोषीय घाटा, सरकार के व्यय और राजस्व के बीच असमानता का प्रतिनिधित्व करता है, आर्थिक प्रबंधन और नीति प्रभावशीलता का आकलन करने में एक महत्वपूर्ण मीट्रिक के रूप में कार्य करता है।

IV. आधे वर्ष की प्रगति

अक्टूबर के अंत तक, राजकोषीय घाटा पूरे वर्ष के लक्ष्य का 39.3% तक पहुँच गया था, जो एक गतिशील राजकोषीय परिदृश्य का संकेत देता है। यह अंतरिम मूल्यांकन शेष महीनों के लिए प्रक्षेपवक्र में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है।

V. सरकारी अनुमान

केंद्रीय बजट में, सरकार ने 2023-24 वित्तीय वर्ष के लिए राजकोषीय घाटे को सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 5.9% तक कम करने की अपनी प्रतिबद्धता को रेखांकित किया। यह लक्ष्य राजकोषीय समझदारी की दिशा में एक रणनीतिक कदम का प्रतीक है।

VI. पिछला राजकोषीय प्रदर्शन

पिछले वित्तीय वर्ष (2022-23) में, राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद का 6.4% था, जो 6.71% के पहले अनुमान से अधिक था। पिछले रुझानों को समझना वर्तमान वित्तीय निर्णयों के मूल्यांकन के लिए एक संदर्भ प्रदान करता है।

VII. राजस्व और व्यय रुझान

नवीनतम अनुमानों से 2.8 ट्रिलियन रुपये का राजस्व अंतर पता चलता है, जो पिछले वर्ष की समान अवधि में 3.85 ट्रिलियन रुपये से कम है। समवर्ती रूप से, राजकोषीय गतिशीलता की गतिशील प्रकृति पर जोर देते हुए, सरकारी खर्च बढ़कर 23.94 ट्रिलियन रुपये हो गया।

VIII. चुनौतियों के बीच आत्मविश्वास

आर्थिक मामलों के सचिव अजय सेठ ने बढ़ते खाद्य सब्सिडी बिल से उत्पन्न चुनौतियों के बावजूद, वित्त वर्ष 2014 के लिए राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पूरा करने की सरकार की क्षमता पर विश्वास व्यक्त किया। यह आश्वासन राजकोषीय प्राथमिकताओं को संतुलित करने के लिए चल रहे प्रयासों को रेखांकित करता है।

परीक्षा से सम्बंधित प्रश्न

प्रश्न: चालू वित्त वर्ष (FY24) में अप्रैल और अक्टूबर के बीच की अवधि के लिए भारत का राजकोषीय घाटा क्या है?

उत्तर: वित्त वर्ष 24 में उल्लिखित अवधि के लिए भारत का राजकोषीय घाटा 8.04 ट्रिलियन रुपये बताया गया है, जो पूरे वित्तीय वर्ष के लिए केंद्र के लक्षित राजकोषीय घाटे 17.87 ट्रिलियन रुपये का 45% है।

प्रश्न: इस राजकोषीय घाटे की तुलना पिछले वित्तीय वर्ष (FY23) की इसी अवधि से कैसे की जाती है?

उत्तर: पिछले वर्ष (FY23) इसी समय सीमा में, राजकोषीय घाटा 2022-23 के बजट अनुमान के 45.6% से थोड़ा अधिक था।

प्रश्न: वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के प्रतिशत के रूप में राजकोषीय घाटे का सरकार का लक्ष्य क्या है?

उत्तर: सरकार का लक्ष्य वित्तीय वर्ष 2023-24 में राजकोषीय घाटे को सकल घरेलू उत्पाद के 5.9% तक कम करना है, जैसा कि केंद्रीय बजट में बताया गया है।

प्रश्न: पिछले वित्तीय वर्ष (2022-23) के लिए सकल घरेलू उत्पाद का प्रारंभिक और वास्तविक राजकोषीय घाटा प्रतिशत क्या था?

उत्तर: 2022-23 में सकल घरेलू उत्पाद के प्रतिशत के रूप में राजकोषीय घाटे का प्रारंभिक अनुमान 6.71% था, जबकि रिपोर्ट किया गया वास्तविक आंकड़ा 6.4% था।

Find More News on Economy Here

भारत का राजकोषीय घाटा 7 महीनों में वित्त वर्ष 2014 के लक्ष्य के 45% तक पहुँच गया |_40.1

FAQs

अप्रैल से अक्टूबर, 2023-24 के दौरान आईसीआई की संचयी वृद्धि दर पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में कितने प्रतिशत (अनंतिम) दर्ज की गई?

अप्रैल से अक्टूबर, 2023-24 के दौरान आईसीआई की संचयी वृद्धि दर पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 8.6 प्रतिशत (अनंतिम) दर्ज की गई।

TOPICS: