Home   »   भारतीय सेना ने साइबर खतरा संगोष्ठी...

भारतीय सेना ने साइबर खतरा संगोष्ठी सह कार्यशाला सैन्य रणक्षेत्रम् 2.0 का आयोजन किया

भारतीय सेना ने साइबर खतरा संगोष्ठी सह कार्यशाला सैन्य रणक्षेत्रम् 2.0 का आयोजन किया |_50.1

मुख्यालय सेना प्रशिक्षण कमान के तहत भारतीय सेना ने अक्टूबर 2022 से जनवरी 2023 तक हैकथॉन – “सैन्य रणक्षेत्रम् 2.0” के दूसरे संस्करण का आयोजन किया। “सैन्य रणक्षेत्रम् 2.0” का उद्देश्य इस क्षेत्र में स्वदेशी प्रतिभा की पहचान करने और साइबर प्रतिरोध, सुरक्षा सॉफ्टवेयर कोडिंग, इलेक्ट्रो मैग्नेटिक स्पेक्ट्रम परिचालन (ईएमएसओ) और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस/मशीन लर्निंग (एआई/एमएल) के क्षेत्र में प्रशिक्षण के स्तर को ऊपर उठाना था।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

इस साइबर खतरा संगोष्ठी सह कार्यशाला को चार उप-कार्यक्रमों के तहत आयोजित किया गया। इसमें निम्नलिखित गतिविधियां शामिल है:

 

  • सुरक्षित सॉफ्टवेयर कोडिंग -इसका उद्देश्य सॉफ्टवेयर प्रोग्रामों को सुरक्षित करने और सॉफ्टवेयर कोड में साइबर सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने में सक्षम प्रतिभा की पहचान करने के लिए शिक्षाविदों के साथ जुड़ना था।
  • ईएसएमओ: वाई-फाई 6 के लिए अनुकूलित भारतीय सेना विशिष्ट स्टैक -इस उप-कार्यक्रम का उद्देश्य सुरक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए सुरक्षित वाई-फाई स्टैक के भारतीय सेना के विशिष्ट संस्करण को लागू करने के संबंध में एक समाधान का पता लगाना था।
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस/मशीन लर्निंग – इस उप-कार्यक्रम ने बहुभाषी रेडियो ट्रांसमिशनों के रूपांतरण और डिक्रिप्शन (विकोडन) को संबोधित करने के लिए एक एआई स्टैक बनाने में सहायता की।
  • साइबर निवारण: कैप्चर द फ्लैग (सीटीएफ) – मौजूदा साइबर सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करने के लिए प्रतिभा की पहचान करने के लिए यह सात चरणों वाली साइबर सुरक्षा शोषण चुनौती थी।

Find More Defence News Hereभारतीय सेना ने साइबर खतरा संगोष्ठी सह कार्यशाला सैन्य रणक्षेत्रम् 2.0 का आयोजन किया |_60.1

FAQs

भारतीय सेना में कितने अंग होते हैं?

भारतीय थलसेना को 13 कोर के अंतर्गत 35 प्रभागों में संगठित किया गया है।

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *