Home   »   ब्रह्मपुत्र पर चीन के बांध का...

ब्रह्मपुत्र पर चीन के बांध का मुकाबला करने हेतु भारत की ऊपरी सियांग पनबिजली परियोजना

ब्रह्मपुत्र पर चीन के बांध का मुकाबला करने हेतु भारत की ऊपरी सियांग पनबिजली परियोजना |_50.1

राष्ट्रीय जलविद्युत निगम (एनएचपीसी) की रिपोर्ट के अनुसार, तिब्बत के मेडोग में चीन की प्रस्तावित 60,000 मेगावाट जलविद्युत परियोजना अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सियांग जिले में प्रस्तावित जलविद्युत परियोजना के डिजाइन को प्रभावित कर रही है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

मुख्य बिंदु

  • अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सियांग जिले में प्रस्तावित पनबिजली परियोजना 11,000 मेगावाट की परियोजना है।
  • भारत ने ब्रह्मपुत्र नदी पर चीन की प्रस्तावित 60,000 मेगावाट की मेडोग जलविद्युत परियोजना का मुकाबला करने के लिए प्रस्तावित अरुणाचल जलविद्युत परियोजना में एक बफर जलाशय बनाने की योजना बनाई है।
  • प्रस्तावित परियोजना के डिजाइन में मानसूनी प्रवाह के दौरान 9 बिलियन क्यूबिक मीटर (या लगभग 9 बिलियन टन पानी) का बफर स्टोरेज शामिल है।
  • यह एक वर्ष के प्रवाह के लायक पानी के भंडार के रूप में कार्य कर सकता है जो सामान्य रूप से ब्रह्मपुत्र या चीन द्वारा अचानक रिलीज किये गए पानी के खिलाफ बफर के रूप में कार्य करेगा।
  • परियोजना के निर्माण का मुख्य उद्देश्य ब्रह्मपुत्र में बाढ़ का प्रबंधन करना है, हालांकि, परियोजना से अन्य रणनीतिक पहलू भी जुड़े हैं।

 

ब्रह्मपुत्र नदी

 

  • ब्रह्मपुत्र नदी जिसे चीन में यारलुंग त्संगपो के नाम से जाना जाता है, यह तिब्बत में कैलाश पर्वत के पास मानसरोवर झील से निकलती है।
  • यह तिब्बत में 1,700 किलोमीटर, अरुणाचल प्रदेश और असम में 920 किलोमीटर और बांग्लादेश में लगभग 260 किलोमीटर बहती है।
  • ब्रह्मपुत्र नदी भारत के मीठे पानी के संसाधनों में लगभग 30% और भारत की जलविद्युत क्षमता में लगभग 40% का योगदान करती है
  • इसके प्रवाह को मोड़ने से असम और अरुणाचल प्रदेश जैसे राज्यों में कृषि प्रभावित हो सकती है।

Find More State In News Here

ब्रह्मपुत्र पर चीन के बांध का मुकाबला करने हेतु भारत की ऊपरी सियांग पनबिजली परियोजना |_60.1

FAQs

ब्रह्मपुत्र नदी को बांग्लादेश में क्या कहा जाता है?

जमुना नदी

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *