Home   »   भारतीय सेना ने आतंकियों के खात्मे...

भारतीय सेना ने आतंकियों के खात्मे के लिए ऑपरेशन सर्वशक्ति शुरू किया

भारतीय सेना ने आतंकियों के खात्मे के लिए ऑपरेशन सर्वशक्ति शुरू किया |_30.1

जम्मू-कश्मीर में बढ़ती आतंकवादी गतिविधियों के जवाब में, भारतीय सेना ऑपरेशन सर्वशक्ति शुरू कर रही है, जो एक रणनीतिक पहल है जिसका उद्देश्य पाकिस्तानी प्रॉक्सी आतंकवादी समूहों के प्रभाव को रोकना है। केंद्र शासित प्रदेश में पीर पंजाल पर्वत श्रृंखलाओं पर केंद्रित इस ऑपरेशन का उद्देश्य संवेदनशील राजौरी पुंछ सेक्टर में सक्रिय आतंकवादियों को खत्म करना है।

 

पीर पंजाल रेंज में बढ़ता आतंकवाद

हाल के दिनों में, पाकिस्तान द्वारा समर्थित आतंकवादी समूहों ने पीर पंजाल पर्वतमाला के दक्षिण में, विशेषकर राजौरी पुंछ सेक्टर में आतंकवाद को पुनर्जीवित करने का प्रयास किया है। भारतीय सैनिकों पर हमले तेज़ हो गए हैं, ताज़ा घटना 21 दिसंबर की है, जहाँ डेरा की गली इलाके में चार सैनिकों की जान चली गई। बढ़ती हताहतों की संख्या इन अस्थिर करने वाली गतिविधियों को विफल करने के लिए निर्णायक प्रतिक्रिया की तात्कालिकता को उजागर करती है।

 

ऑपरेशन सर्वशक्ति: एक व्यापक आतंकवाद विरोधी रणनीति

ऑपरेशन सर्वशक्ति का उद्देश्य पीर पंजाल पर्वतमाला के दोनों किनारों पर संयुक्त आतंकवाद विरोधी अभियान चलाना है। श्रीनगर स्थित चिनार कोर और नगरोटा मुख्यालय वाली व्हाइट नाइट कोर आतंकवादी खतरों को बेअसर करने के लिए एक साथ ऑपरेशन को अंजाम देंगे। जम्मू-कश्मीर पुलिस, सीआरपीएफ, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप और खुफिया एजेंसियों से जुड़े समन्वित प्रयास इस ऑपरेशन के महत्वपूर्ण घटक हैं।

 

इतिहास से सीख: ऑपरेशन सर्पविनाश

2003 में शुरू किए गए ऑपरेशन सर्पविनाश से प्रेरणा लेते हुए, ऑपरेशन सर्वशक्ति का उद्देश्य पीर पंजाल रेंज के दक्षिण में उन्हीं इलाकों से आतंकवादियों को खत्म करना है। ऑपरेशन सर्पविनाश की ऐतिहासिक सफलता वर्तमान ऑपरेशन के लिए एक खाका प्रदान करती है, जो आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण के महत्व पर जोर देती है।

 

सेना प्रमुख का दृष्टिकोण: आतंकवाद के पुनरुत्थान को संबोधित करना

सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने 2003 के बाद से इस क्षेत्र में आतंकवादी गतिविधियों के फिर से बढ़ने की बात स्वीकार की है। इसके जवाब में, उभरते खतरे की रणनीति बनाने और उससे निपटने के लिए कोर कमांडरों के साथ विस्तृत चर्चा की गई। मुद्दे के समाधान के लिए जनरल पांडे की प्रतिबद्धता स्थिति की गंभीरता और निर्णायक कार्रवाई की आवश्यकता को रेखांकित करती है।

 

उच्च-स्तरीय समन्वय: एक बहु-एजेंसी दृष्टिकोण

ऑपरेशन सर्वशक्ति कोई अकेला प्रयास नहीं है; यह सेना मुख्यालय, उधमपुर में उत्तरी सेना कमान और प्रमुख हितधारकों से जुड़े उच्च स्तरीय समन्वय का परिणाम है। गृह मंत्री अमित शाह की सुरक्षा बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, सेना के अधिकारी और खुफिया एजेंसियां शामिल हुईं, जिसने इस सहयोगात्मक पहल की नींव रखी।

 

सैन्य प्रेरण और खुफिया सुदृढ़ीकरण

बढ़े हुए सुरक्षा उपायों की आवश्यकता को पहचानते हुए, भारतीय सेना ने राजौरी-पुंछ सेक्टर में और अधिक सैनिकों को शामिल करने की प्रक्रिया शुरू की है। समवर्ती रूप से, क्षेत्र में खुफिया तंत्र को मजबूत करने, आतंकवादी गतिविधियों को रोकने और उनका मुकाबला करने की क्षमता बढ़ाने के प्रयास चल रहे हैं।

 

स्थानीय समर्थन और नैतिक आचरण

उकसावे के बावजूद, भारतीय सेना ने संयम दिखाया है और नागरिक उपस्थिति वाले क्षेत्रों में जवाबी गोलीबारी करने से परहेज किया है। 21 दिसंबर की मुठभेड़ के बाद अपने ही अधिकारियों और जवानों के खिलाफ की गई त्वरित कार्रवाई आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में स्थानीय समर्थन को बढ़ावा देने, नैतिक आचरण के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

 

ऑपरेशन सर्वशक्ति – आतंकवाद के खिलाफ एक एकीकृत मोर्चा

ऑपरेशन सर्वशक्ति जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के पुनरुत्थान का मुकाबला करने में एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतिनिधित्व करता है। एक व्यापक रणनीति, सहयोगात्मक प्रयासों और नैतिक आचरण के प्रति प्रतिबद्धता के साथ, भारत का लक्ष्य इस क्षेत्र को बाहरी खतरों से सुरक्षित करना है। इस ऑपरेशन की सफलता न केवल राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा करेगी बल्कि क्षेत्रीय स्थिरता और शांति में भी योगदान देगी।

FAQs

भारतीय सेना में कितने अंग होते हैं?

भारतीय शस्‍त्र सेना में तीन प्रभाग हैं: भारतीय थल सेना, भारतीय नौ सेना और भारतीय वायु सेना।