Home   »   नौसेना के लिए 26 राफेल जेट...

नौसेना के लिए 26 राफेल जेट खरीदेगा भारत

नौसेना के लिए 26 राफेल जेट खरीदेगा भारत_3.1

भारत सरकार ने नौसेना के लिए राफेल जेट के नौसेना संस्करण के 26 विमान खरीदने के बारे में फ्रांस को सूचना दे दी है। दोनों देशों के बीच अंतर-सरकारी फ्रेमवर्क के तहत यह सौदा किया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि जुलाई में रक्षा मंत्रालय ने राफेल के नौसेना संस्करण को खरीदने का फैसला किया था। इन युद्धक विमानों को मुख्य रूप से भारत के स्वदेशी विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रांत पर तैनात किया जाना है।

इसमें भारत सरकार ने अपनी सभी आवश्यकताओं और क्षमताओं का उल्लेख किया है जो वह विमान वाहक पोत आइएनएस विक्रांत और आइएनएस विक्रमादित्य के लिए खरीदे जाने वाले राफेल विमान में देखना चाहती है। भारतीय नौसेना और भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए तेजी से काम कर रही है कि अधिग्रहण अनुबंध पर जल्द से जल्द हस्ताक्षर हो जाए। विमान वाहक पोत पर राफेल को तैनात कर सरकार हिंद महासागर क्षेत्र में भारत की बढ़त सुनिश्चित करना चाहती है।

 

अधिग्रहण पर तेजी से काम

भारतीय नौसेना और भारत सरकार अधिग्रहण प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए लगन से काम कर रही है। उनका उद्देश्य अधिग्रहण अनुबंध पर शीघ्र हस्ताक्षर सुनिश्चित करना है, जिससे भारतीय नौसेना इन अत्याधुनिक विमानों को तेजी से तैनात कर सके। राफेल समुद्री लड़ाकू विमान के आने से प्रतिस्पर्धी और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हिंद महासागर क्षेत्र में नई दिल्ली को पर्याप्त लाभ मिलने की उम्मीद है।

 

रक्षा अधिग्रहण परिषद द्वारा मंजूरी

लगभग 5.5 बिलियन यूरो मूल्य के विमान खरीद सौदे को रक्षा अधिग्रहण परिषद से हरी झंडी मिल गई। यह महत्वपूर्ण घटनाक्रम भारतीय प्रधान मंत्री की फ्रांस यात्रा से ठीक पहले हुआ, जहां वह जुलाई में बैस्टिल दिवस परेड के लिए राजकीय अतिथि थे। यह प्रतीकात्मक इशारा दोनों देशों के बीच मजबूत राजनयिक संबंधों और भारत की रक्षा क्षमताओं को बढ़ाने की उनकी प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है।

 

Find More Defence News Here

नौसेना के लिए 26 राफेल जेट खरीदेगा भारत_4.1

FAQs

रक्षा अधिग्रहण परिषद क्या है?

कारगिल युद्ध के बाद भारत सरकार द्वारा किए गए रक्षा सुधारों के एक भाग के रूप में 2001 में रक्षा अधिग्रहण परिषद की स्थापना की गई थी। कारगिल युद्ध के मद्देनजर भारत की रक्षा तैयारियों को मजबूत करने के उपाय सुझाने के लिए मंत्रियों का एक समूह स्थापित किया गया था।