Home   »   वैश्विक आर्थिक विकास में भारत का...

वैश्विक आर्थिक विकास में भारत का बढ़ता योगदान

वैश्विक आर्थिक विकास में भारत का बढ़ता योगदान_3.1

आईएमएफ एशिया और प्रशांत विभाग के निदेशक कृष्णा श्रीनिवासन ने कहा है कि वैश्विक आर्थिक विकास में भारत का योगदान अगले पांच वर्षों के भीतर मौजूदा 16% से बढ़कर 18% हो जाएगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि भारत की तीव्र आर्थिक वृद्धि इस वृद्धि में एक महत्वपूर्ण कारक है।

 

एशिया प्रशांत क्षेत्र के लिए सकारात्मक दृष्टिकोण

वैश्विक चुनौतियों के बावजूद, एशिया प्रशांत क्षेत्र के वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक उज्ज्वल स्थान बने रहने की उम्मीद है। श्रीनिवासन ने इस बात पर प्रकाश डाला कि क्षेत्र की अर्थव्यवस्था 2023 में 4.6% और 2024 में 4.2% बढ़ने की उम्मीद है। यह विकास प्रक्षेपवक्र इस क्षेत्र को वैश्विक आर्थिक विस्तार में लगभग दो-तिहाई योगदान देने की स्थिति में रखता है।

 

भारत की आर्थिक ताकत

श्रीनिवासन ने वित्तीय वर्ष 2023/24 के लिए 6.3% की विकास दर का अनुमान लगाते हुए भारत की अर्थव्यवस्था की मजबूती को रेखांकित किया। इस वृद्धि को मजबूत सरकारी पूंजीगत व्यय, निजी क्षेत्र के बढ़ते निवेश, निरंतर उपभोग वृद्धि और कमजोर बाहरी मांग के बावजूद समर्थन प्राप्त है।

 

राजकोषीय प्रबंधन और मुद्रास्फीति रुझान

वित्त वर्ष 2014 के लिए भारत के 5.9% के राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को केंद्र सरकार द्वारा पूरा किए जाने की उम्मीद है। श्रीनिवासन ने उल्लेख किया कि हालांकि अतिरिक्त एलपीजी सब्सिडी और मनरेगा खर्च में वृद्धि जैसे कुछ क्षेत्रों में अधिक व्यय है, बजट इन अप्रत्याशित वृद्धि को समायोजित कर सकता है। उन्होंने भारत की खुदरा मुद्रास्फीति में भी कमी देखी, जो भारतीय रिज़र्व बैंक के सहनशीलता बैंड के भीतर वापस आ गई है।

 

आईएमएफ की नीति सिफारिशें

एशिया प्रशांत क्षेत्र के लिए अपने नीति संदेश में, आईएमएफ ने देशों से मुद्रास्फीति स्थिर होने तक प्रतिबंधात्मक मौद्रिक नीति रुख बनाए रखने का आग्रह किया। इसके अतिरिक्त, आईएमएफ ने राजकोषीय समेकन, वित्तीय क्षेत्र की कमजोरियों को दूर करने के लिए व्यापक विवेकपूर्ण नीतियों के कार्यान्वयन, बढ़ती असमानता से निपटने और हरित संक्रमण को सुविधाजनक बनाने के महत्व पर जोर दिया।

 

Find More News on Economy Here

वैश्विक आर्थिक विकास में भारत का बढ़ता योगदान_4.1

FAQs

भारत का सबसे बड़ा और व्यस्ततम मेट्रो नेटवर्क कौन सा है?

दिल्ली मेट्रो रेल भारत का सबसे बड़ा और व्यस्ततम मेट्रो नेटवर्क है।