Home   »   हिमाचल प्रदेश तैयार करेगा Green Hydrogen...

हिमाचल प्रदेश तैयार करेगा Green Hydrogen पॉलिसी, जानें सबकुछ

हिमाचल प्रदेश तैयार करेगा Green Hydrogen पॉलिसी, जानें सबकुछ |_30.1

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू (Sukhvinder Singh Sukhu) ने हाल ही में ‘ग्रीन हाइड्रोजन’ नीति तैयार करने की घोषणा की है। इसका उद्देश्य राज्य को हरित हाइड्रोजन उत्पादन के लिए एक प्रमुख केंद्र के रूप में स्थापित करना है। हिमाचल प्रदेश के सुरम्य राज्य में प्रचुर मात्रा में नवीकरणीय ऊर्जा संसाधन हैं, जिनमें पर्याप्त धूप, पानी और हवा शामिल हैं, जो इसे हरित हाइड्रोजन पैदा करने के लिए एक आदर्श स्थान बनाते हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

‘हरित हाइड्रोजन’ नीति का प्राथमिक उद्देश्य

 

‘हरित हाइड्रोजन’ नीति का प्राथमिक उद्देश्य बड़े पैमाने पर नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं में निवेश आकर्षित करना है। इलेक्ट्रोलिसिस के लिए हरित बिजली की निरंतर और सतत आपूर्ति सुनिश्चित करके, यह नीति हरित हाइड्रोजन के उत्पादन के लिए अनुकूल वातावरण बनाने का प्रयास करती है।

 

ऑयल इंडिया लिमिटेड के साथ एक औपचारिक समझौता

 

इन पहलों के तहत, राज्य सरकार पहले ही ऑयल इंडिया लिमिटेड (OIL) के साथ एक औपचारिक समझौता कर चुकी है। यह साझेदारी हरित हाइड्रोजन और हरित अमोनिया के पायलट उत्पादन के लिए अवसर पैदा करती है। ऑयल इंडिया लिमिटेड ने विशेष रूप से हरित हाइड्रोजन के उत्पादन के लिए हिमाचल प्रदेश में एक संयंत्र स्थापित करने में रुचि दिखाई है, जिसका उपयोग वैकल्पिक ईंधन और पेट्रोल के प्रतिस्थापन के रूप में किया जा सकता है। यह लचीले ईंधन की दिशा में सरकार की पहल के अनुरूप है। कंपनी ने हिमाचल प्रदेश में एक संयंत्र स्थापित करने में रुचि दिखाई है जो इथेनॉल उत्पादन के लिए हरित हाइड्रोजन का उत्पादन करेगी।

 

Find More State In News Here

हिमाचल प्रदेश तैयार करेगा Green Hydrogen पॉलिसी, जानें सबकुछ |_40.1

 

FAQs

हिमाचल प्रदेश को क्या कहा जाता है?

हिमाचल प्रदेश का शाब्दिक अर्थ "बर्फ़ीले पहाड़ों का प्रांत" है। हिमाचल प्रदेश को "देव भूमि" भी कहा जाता है।