gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   GST Day 2024 : जानें इस...

GST Day 2024 : जानें इस दिन का महत्व और इससे जुड़े रोचक तथ्य

गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) दिवस भारतीय अर्थव्यवस्था के कैलेंडर में एक महत्वपूर्ण वार्षिक आयोजन है। यह दिन एक परिवर्तनकारी कर प्रणाली के कार्यान्वयन की याद दिलाता है जिसने देश के राजस्व परिदृश्य को क्रांतिकारी बनाया। चलिए इसके इतिहास, महत्व, और भारतीय अर्थव्यवस्था पर इसके प्रभाव को जानते हैं।

तारीख और पृष्ठभूमि

GST दिवस प्रत्येक वर्ष 1 जुलाई को मनाया जाता है। 2024 में आगामी उत्सव भारत में जीएसटी प्रणाली की सातवीं वर्षगांठ को चिह्नित करेगा। यह व्यापक अप्रत्यक्ष कर केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा पहले लगाए गए करों के जटिल जाल को सरल बनाने के लिए पेश किया गया था।

ऐतिहासिक संदर्भ

भारत में जीएसटी की शुरुआत

GST की अवधारणा पहली बार भारत में 2000 के दशक की शुरुआत में पेश की गई थी। विशेषज्ञों की एक समर्पित टीम केलकर टास्क फोर्स ने देश की आर्थिक वृद्धि में बाधा डालने वाले मौजूदा ढांचे को बदलने के लिए एक व्यापक अप्रत्यक्ष कर प्रणाली का प्रस्ताव रखा।

अगस्त 2016 में, एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर हासिल किया गया जब संसद ने संविधान (101 वां संशोधन) अधिनियम बनाया। इस कानून ने केंद्र सरकार को GST चार्ज करने और एकत्र करने के लिए अधिकृत किया। इसके बाद, सरकार ने कार्यान्वयन प्रक्रिया की देखरेख के लिए केंद्र और राज्य सरकारों के वित्त मंत्रियों की सदस्यता वाली GST परिषद की स्थापना की।

कार्यान्वयन

अनेक सलाहकार सभाओं के बाद दरें, छूट और चिंताओं पर निर्णय लेने के लिए, GST अंततः 1 जुलाई, 2017 को कार्यान्वित किया गया। लॉन्च इवेंट संसद के सेंट्रल हॉल में आधी रात को हुआ, जो भारत के आर्थिक सुधारों में एक ऐतिहासिक क्षण था।

GST दिवस का महत्व

GST दिवस भारतीय कर व्यवस्था के लिए विशेष महत्व रखता है। यह एक ऐसे शासन के सफल कार्यान्वयन का जश्न मनाता है जिसने भारतीय अर्थव्यवस्था पर काफी असर डाला है। इसके महत्वपूर्ण पहलुओं में शामिल हैं:

  1. सुव्यवस्थित कराधान: जीएसटी ने समग्र कर संरचना को सरल बनाते हुए कई अप्रत्यक्ष करों को बदल दिया।
  2. एकीकृत बाजार: इसने निर्बाध अंतरराज्यीय व्यापार के लिए एक एकल बाजार की स्थापना की।
  3. पारदर्शिता: नई प्रणाली ने कर संग्रह में अधिक स्पष्टता और दक्षता लाई।
  4. आर्थिक विकास: कर बाधाओं को कम करके, जीएसटी ने आर्थिक विकास को गति देने में योगदान दिया है।

भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

GST के प्रस्तावना से भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न पहलुओं पर गहरा प्रभाव पड़ा है:

व्यापार संचालन

  • व्यवसायों के लिए सरलीकृत कर संरचना
  • कैस्केडिंग करों का उन्मूलन
  • अनुपालन बोझ में कमी

उपभोक्ता लाभ

  • वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में संभावित कमी
  • देश भर में एकीकृत कर दरें

सरकारी राजस्व

  • बेहतर कर संग्रह दक्षता
  • कर चोरी की बेहतर निगरानी और रोकथाम

भारत में GST के बारे में रोचक तथ्य

  1. सेलिब्रिटी एंबेसडर: बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन भारत में जीएसटी के ब्रांड एंबेसडर के रूप में कार्य करते हैं।
  2. वैश्विक प्रेरणा: भारत की GST प्रणाली को कनाडा की GST प्रणाली के बाद तैयार किया गया था।
  3. टैक्स स्लैब: भारतीय जीएसटी प्रणाली में पांच टैक्स स्लैब हैं: 0%, 5%, 12%, 18% और 28%।
  4. जीएसटी के जनक : पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को अक्सर भारत में जीएसटी के जनक के रूप में जाना जाता है।
  5. लंबी यात्रा: जबकि जीएसटी पहली बार 2000 में प्रस्तावित किया गया था, इसे लागू करने में 17 साल लग गए।
  6. छूट: कुछ आवश्यक वस्तुएं जैसे ताजे फल, सब्जियां और बिना ब्रांड वाला आटा जीएसटी से मुक्त हैं।
  7. राजस्व साझाकरण: जीएसटी राजस्व केंद्र और राज्य सरकारों के बीच विभाजित है।
  8. सरलीकृत पंजीकरण: यह प्रणाली अलग राज्य-स्तरीय कर पंजीकरण की आवश्यकता को समाप्त करती है।

GST Day 2024 : जानें इस दिन का महत्व और इससे जुड़े रोचक तथ्य |_3.1

FAQs

किसे भारत में जीएसटी के जनक के रूप में जाना जाता है।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को अक्सर भारत में जीएसटी के जनक के रूप में जाना जाता है।