Home   »   गेहूं की फसल पर तापमान में...

गेहूं की फसल पर तापमान में वृद्धि के प्रभाव की निगरानी के लिए सरकार ने समिति गठित की

गेहूं की फसल पर तापमान में वृद्धि के प्रभाव की निगरानी के लिए सरकार ने समिति गठित की |_30.1

सरकार ने कहा कि उसने गेहूं की फसल पर तापमान में वृद्धि के प्रभाव की निगरानी के लिए एक समिति का गठन किया है। राष्ट्रीय फसल पूर्वानुमान केंद्र (एनसीएफसी) ने कहा है कि मध्य प्रदेश को छोड़कर प्रमुख गेहूं उत्पादक क्षेत्रों में फरवरी के पहले सप्ताह के दौरान अधिकतम तापमान पिछले सात वर्षों के औसत से अधिक रहा। मौसम विभाग ने गुजरात, जम्मू, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में अगले दो दिनों में तापमान सामान्य से अधिक रहने का अनुमान जताया है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

इस समिति का महत्व:

समिति सूक्ष्म सिंचाई को अपनाने के लिए किसानों को सलाह जारी करेगी। हालांकि, सचिव ने कहा कि जल्दी बोई जाने वाली किस्मों पर तापमान में वृद्धि का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा और यहां तक कि इस बार बड़े क्षेत्रों में गर्मी प्रतिरोधी किस्मों की बुवाई की गई है।

समिति के बारे में:

उन्होंने कहा कि कृषि आयुक्त की अध्यक्षता वाली समिति में करनाल स्थित गेहूं अनुसंधान संस्थान के सदस्य और प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्यों के प्रतिनिधि भी होंगे।

गेहूं उत्पादन के बारे में:

गेहूं की फसल पर तापमान में वृद्धि के प्रभाव की निगरानी के लिए सरकार ने समिति गठित की |_40.1फसल वर्ष 2022-23 (जुलाई-जून) में गेहूं का उत्पादन रिकॉर्ड 11.218 करोड़ टन रहने का अनुमान है। कुछ राज्यों में लू की स्थिति के कारण पिछले वर्ष गेहूं का उत्पादन मामूली रूप से घटकर 10.774 करोड़ टन रह गया था। गेहूं रबी की एक प्रमुख फसल है, जिसकी कटाई कुछ राज्यों में शुरू हो गई है।

Find More News Related to Schemes & Committees

गेहूं की फसल पर तापमान में वृद्धि के प्रभाव की निगरानी के लिए सरकार ने समिति गठित की |_50.1

FAQs

एनसीएफसी की फुल फॉर्म क्या है ?

एनसीएफसी की फुल फॉर्म राष्ट्रीय फसल पूर्वानुमान केंद्र है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *