Home   »   भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में...

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट: रुपये की स्थिरता के लिए आरबीआई का हस्तक्षेप

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट: रुपये की स्थिरता के लिए आरबीआई का हस्तक्षेप_3.1

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, जो पिछले कुछ हफ्तों में लगातार बढ़ रहा था, ने 19 मई, 2023 को समाप्त सप्ताह में 6.1 बिलियन डॉलर की गिरावट का अनुभव किया। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के ताजा आंकड़ों के अनुसार, यह वापसी लगातार तीन साप्ताहिक वृद्धि के बाद आई है और इससे भंडार के सभी घटक प्रभावित होते हैं, जिसमें विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां (एफसीए) सबसे अधिक प्रभावित होती हैं।

विदेशी मुद्रा भंडार घटकर 593.48 अरब डॉलर

19 मई, 2023 को समाप्त सप्ताह के दौरान भारत का कुल विदेशी मुद्रा भंडार 593.48 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया, जो पिछले सप्ताह से 6.052 बिलियन डॉलर की कमी को दर्शाता है। इससे पिछले सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 3.553 अरब डॉलर बढ़कर 600 अरब डॉलर के करीब 599.53 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। इससे पहले देश का विदेशी मुद्रा भंडार 7.196 अरब डॉलर बढ़ा था। उल्लेखनीय है कि मई के पहले सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में 4.532 अरब डॉलर का उछाल आया था।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों (एफसीए) में उल्लेखनीय गिरावट देखी गई

नवीनतम सप्ताह (19 मई, 2023) के दौरान, भारत के विदेशी मुद्रा भंडार के सबसे बड़े घटक, विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों (एफसीए) में 4.654 बिलियन डॉलर की गिरावट आई, जिससे कुल एफसीए 524.945 बिलियन डॉलर हो गया। इससे पिछले सप्ताह एफसीए में 3.577 अरब डॉलर की वृद्धि हुई थी।

सोने के भंडार और अन्य घटक

एफसीए के अलावा भारत के विदेशी मुद्रा भंडार के अन्य घटकों में भी गिरावट देखी गई। स्वर्ण भंडार 1.227 अरब डॉलर घटकर 45.127 अरब डॉलर रह गया, जबकि विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 13.7 करोड़ डॉलर घटकर 18.276 अरब डॉलर रह गया। इसके अलावा, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में आरक्षित स्थिति $ 35 मिलियन से घटकर $ 5.130 बिलियन हो गई।

पिछले आरक्षित स्तरों की तुलना

यह ध्यान देने योग्य है कि भारत का विदेशी मुद्रा भंडार अक्टूबर 2021 में 645 अरब डॉलर के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया था, जो देश की विदेशी परिसंपत्तियों के मजबूत संचय को दर्शाता है। हालांकि, 31 मार्च, 2023 तक, विदेशी मुद्रा भंडार घटकर 578.4 बिलियन डॉलर हो गया था, जो विदेशी मुद्रा भंडार की उतार-चढ़ाव की प्रकृति को उजागर करता है।

रुपये को स्थिर करने के लिए RBI का हस्तक्षेप

रुपये की विनिमय दर में गिरावट से निपटने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) विदेशी मुद्रा बाजार में हाजिर और अग्रिम दोनों पदों के जरिए सक्रिय रूप से हस्तक्षेप कर रहा है। इस हस्तक्षेप का उद्देश्य रुपये के मूल्य को स्थिर करना और देश में समग्र आर्थिक स्थिरता बनाए रखना है।

Find More News on Economy Here

 

5th edition of Global Ayurveda Festival to focus on health challenges_80.1

 

FAQs

19 मई, 2023 को समाप्त सप्ताह के दौरान भारत का कुल विदेशी मुद्रा भंडार 593.48 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया, जो पिछले सप्ताह से कितने बिलियन डॉलर की कमी को दर्शाता है।

19 मई, 2023 को समाप्त सप्ताह के दौरान भारत का कुल विदेशी मुद्रा भंडार 593.48 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया, जो पिछले सप्ताह से 6.052 बिलियन डॉलर की कमी को दर्शाता है।