Home   »   इस साल एशिया-प्रशांत के उभरते बाजारों...

इस साल एशिया-प्रशांत के उभरते बाजारों में आर्थिक वृद्धि मजबूत बनी रहेगी: फिच

इस साल एशिया-प्रशांत के उभरते बाजारों में आर्थिक वृद्धि मजबूत बनी रहेगी: फिच |_30.1

फिच रेटिंग्स ने एशिया प्रशांत क्षेत्र में मजबूत आर्थिक विकास की पुष्टि करते हुए अपनी रिपोर्ट ‘एपीएसी क्रॉस-सेक्टर आउटलुक 2024’ जारी की। पूर्वानुमान में भारत और विभिन्न उभरते बाजारों में 5% जीडीपी वृद्धि पर प्रकाश डाला गया है, जो भारत और इंडोनेशिया के बैंकिंग क्षेत्रों में सकारात्मक रुझान का संकेत देता है।

 

आर्थिक लचीलापन और विकास अनुमान

फिच को एशिया प्रशांत क्षेत्र में निरंतर आर्थिक वृद्धि की उम्मीद है, भारत, इंडोनेशिया, फिलीपींस और वियतनाम जैसे प्रमुख देशों में सकल घरेलू उत्पाद में 5% या उससे अधिक का विस्तार होना तय है। विशेष रूप से, चीन से वैश्विक मानकों के सापेक्ष मजबूत प्रदर्शन बनाए रखने की उम्मीद है। भारतीय अर्थव्यवस्था, जो 2022-23 वित्तीय वर्ष में 7.2% की वृद्धि हुई, चालू वित्तीय वर्ष और 2024-25 में क्रमशः 6.9% और 6.5% की जीडीपी वृद्धि दर हासिल करने का अनुमान है।

 

सेक्टर आउटलुक और चुनौतियाँ

रिपोर्ट में धीमी चीनी वृद्धि, कमजोर वैश्विक मांग और बढ़ी हुई ब्याज दरों से प्रतिकूल परिस्थितियों को स्वीकार किया गया है। इन चुनौतियों के बावजूद, एशिया प्रशांत क्षेत्र के अधिकांश क्षेत्रों के लिए फिच का दृष्टिकोण 2024 में तटस्थ बना हुआ है। चीन-अमेरिका तनाव, हालांकि हाल ही में कम हुआ है, जारी रहने की उम्मीद है, जिससे कंपनियों को भू-राजनीतिक जोखिमों को कम करने के लिए आपूर्ति श्रृंखलाओं में विविधता लाने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

 

इस साल एशिया-प्रशांत के उभरते बाजारों में आर्थिक वृद्धि मजबूत बनी रहेगी: फिच |_40.1

FAQs

फिच रेटिंग्स क्यों महत्वपूर्ण हैं?

फिच रेटिंग्स निवेश पर भविष्योन्मुखी क्रेडिट राय ("रेटिंग") प्रदान करती है, जो इसके डिफ़ॉल्ट होने की संभावना को दर्शाती है। फिच द्वारा प्रदान की गई क्रेडिट रेटिंग का उपयोग निवेशकों, मध्यस्थों (जैसे निवेश बैंक), ऋण जारीकर्ताओं और व्यवसायों और निगमों द्वारा किया जाता है।

TOPICS: