Home   »   अडानी पोर्ट्स के एमडी बने करण...

अडानी पोर्ट्स के एमडी बने करण अडानी, अश्विनी गुप्ता सीईओ के रूप में नियुक्त

अडानी पोर्ट्स के एमडी बने करण अडानी, अश्विनी गुप्ता सीईओ के रूप में नियुक्त |_30.1

एपीएसईजेड ने सीईओ करण अडानी को गौतम अडानी के स्थान पर प्रबंध निदेशक के रूप में पदोन्नत करने की घोषणा की। इसके साथ ही कंपनी ने निसान मोटर्स के पूर्व सीओओ अश्वनी गुप्ता को नया सीईओ नियुक्त किया है।

बंदरगाह और लॉजिस्टिक्स क्षेत्र की प्रमुख कंपनी अदाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन लिमिटेड (एपीएसईजेड) ने हाल ही में अपने नेतृत्व ढांचे के संबंध में महत्वपूर्ण घोषणाएं की हैं। कंपनी ने घोषणा की कि सीईओ करण अदानी, गौतम अदानी के स्थान पर प्रबंध निदेशक की भूमिका निभाएंगे। समानांतर में, कंपनी ने निसान मोटर्स के पूर्व वैश्विक मुख्य परिचालन अधिकारी अश्वनी गुप्ता का अपने नए सीईओ के रूप में स्वागत किया।

अश्वनी गुप्ता की रणनीतिक नियुक्ति

अश्वनी गुप्ता की नियुक्ति एपीएसईजेड के वैश्विक बंदरगाह क्षेत्र के नेतृत्व को मजबूत करती है। लगभग तीन दशकों के विविध उद्योग अनुभव के साथ, गुप्ता स्थिरता, नवाचार और ग्राहक-केंद्रित समाधानों में एक मान्यता प्राप्त नेता हैं। विद्युतीकरण, स्वायत्त ड्राइविंग और डिजिटल परिवर्तन में उनकी विशेषज्ञता एपीएसईजेड के रणनीतिक लक्ष्यों के साथ संरेखित है, जो एक गतिशील बाजार में कंपनी की स्थिति को बढ़ाती है।

गौतम अडानी की कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति

करण अडानी के प्रबंध निदेशक का पद संभालने के साथ, गौतम अडानी को अब एपीएसईजेड के ‘कार्यकारी अध्यक्ष’ के रूप में पुनः नामित किया गया है। नेतृत्व पदों में इस परिवर्तन से कंपनी की यात्रा में एक नया अध्याय आने की संभावना है, जिससे कंपनी को उसके महत्वाकांक्षी लक्ष्यों की दिशा में मार्गदर्शन करने के लिए अदानी परिवार के दोनों सदस्यों की ताकत का लाभ मिलेगा।

एपीएसईजेड की महत्वाकांक्षी विस्तार योजनाएँ

नेतृत्व में परिवर्तन एपीएसईजेड की हाल ही में पर्याप्त निवेश की घोषणा के अनुरूप है। कंपनी ने विभिन्न बंदरगाहों पर क्षमता और संपत्ति बनाने के लिए वार्षिक ₹5,000-6,000 करोड़ खर्च करने के अपने इरादे का खुलासा किया। यह महत्वपूर्ण निवेश 2030 तक दुनिया का सबसे बड़ा बंदरगाह ऑपरेटर बनने के एपीएसईजेड के व्यापक उद्देश्य का हिस्सा है। रणनीतिक निवेश का लक्ष्य कंपनी की वृद्धि को 12-14% प्रति वर्ष की दर से बनाए रखना है।

एपीएसईजेड के भीतर करण अडानी की उल्लेखनीय यात्रा

एपीएसईजेड के भीतर करण अडानी की यात्रा उल्लेखनीय है। उन्होंने 2009 में मुंद्रा पोर्ट में अदानी समूह के साथ अपना करियर शुरू किया और 2016 में सीईओ की भूमिका निभाई। उनके कार्यकाल के दौरान, APएपीएसईजेडSEZ ने भारत में चार बंदरगाहों और टर्मिनलों, एक श्रीलंका में और एक के साथ तेजी से पोर्टफोलियो विस्तार देखा। इसराइल में। कंपनी रणनीतिक विस्तार और साझेदारी में भी लगी रही, जिसके परिणामस्वरूप भारत के समुद्र तट पर 14 बंदरगाहों और देश के बाहर दो बंदरगाहों का नेटवर्क तैयार हुआ।

एपीएसईजेड का एक एकीकृत परिवहन उपयोगिता के रूप में विकास

एपीएसईजेड, विश्व स्तर पर विविधीकृत अदानी समूह के हिस्से के रूप में, एक बंदरगाह-केंद्रित कंपनी से एक एकीकृत परिवहन उपयोगिता में विकसित हुआ है। कंपनी अब अपने पोर्ट गेट से ग्राहक गेट तक विस्तार करते हुए एंड-टू-एंड समाधान प्रदान करती है। पश्चिमी तट पर रणनीतिक रूप से स्थित सात बंदरगाहों और टर्मिनलों और भारत के पूर्वी तट पर सात टर्मिनलों के साथ, एपीएसईजेड देश के सबसे बड़े और सबसे विविध निजी रेल ऑपरेटरों में से एक है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. अदानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड (एपीएसईजेड) के नव नियुक्त सीईओ कौन हैं?
a) करण अदानी
b) गौतम अडानी
c) अश्वनी गुप्ता

2. हालिया नेतृत्व परिवर्तन के बाद एपीएसईजेड में गौतम अडानी की नई भूमिका क्या है?
a) सीईओ
b) प्रबंध निदेशक
c) कार्यकारी अध्यक्ष

3. करण अडानी ने किस वर्ष एपीएसईजेड के सीईओ का पद संभाला?
a) 2010
b) 2014
c) 2016

4. एपीएसईजेड के पास वर्तमान में भारत के समुद्र तट पर कितने बंदरगाह हैं?
a)10
b) 14
c) 18

कृपया अपने उत्तर टिप्पणी अनुभाग में दें।

अडानी पोर्ट्स के एमडी बने करण अडानी, अश्विनी गुप्ता सीईओ के रूप में नियुक्त |_40.1

FAQs

चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री कौन हैं?

चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री पेट्र फियाला हैं।