Home   »   इक्विटास होल्डिंग्स ने एनबीएफसी का लाइसेंस...

इक्विटास होल्डिंग्स ने एनबीएफसी का लाइसेंस लौटाया

इक्विटास होल्डिंग्स ने एनबीएफसी का लाइसेंस लौटाया_3.1

इक्विटी होल्डिंग्स ने हाल ही में गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) का अपना लाइसेंस रिजर्व बैंक को लौटा दिया है। इसके साथ ही एनबीएफसी के रूप में कंपनी का पंजीकरण रद्द हो गया है। रिजर्व बैंक ने 12 जून 2023 को यह जानकारी दी। केंद्रीय बैंक ने भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45-आईए (6) के तहत प्रदत्त अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए कंपनी का पंजीकरण प्रमाणन (सीओआर) रद्द कर दिया है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

पृष्ठभूमि

 

इक्विटास होल्डिंग्स लिमिटेड, एक प्रसिद्ध एनबीएफसी, कई वर्षों से भारतीय वित्तीय बाजार में काम कर रही थी। एनबीएफसी के रूप में, इसने पारंपरिक बैंकों के समान, लेकिन कुछ नियामक अंतरों के साथ, व्यक्तियों और व्यवसायों को वित्तीय सेवाएं प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हालाँकि, कंपनी ने अब स्वेच्छा से अपने NBFC लाइसेंस को सरेंडर करने का विकल्प चुना है।

 

एनबीएफसी लाइसेंस का समर्पण

 

भारतीय रिजर्व बैंक ने 12 जून 2023 को घोषणा की कि इक्विटास होल्डिंग्स लिमिटेड ने अपना एनबीएफसी लाइसेंस वापस कर दिया है। नतीजतन, आरबीआई ने इक्विटास होल्डिंग्स के पंजीकरण प्रमाणपत्र (सीओआर) को रद्द कर दिया, जो एनबीएफसी के रूप में अपनी स्थिति को समाप्त करने का संकेत देता है। यह विकास इक्विटास होल्डिंग्स की व्यावसायिक रणनीति में एक महत्वपूर्ण बदलाव को उजागर करता है और इसके भविष्य के संचालन के बारे में सवाल उठाता है।

 

नियामक प्राधिकरण की कार्रवाई

 

आरबीआई ने भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45-आईए (6) को इक्विटास होल्डिंग्स के पंजीकरण को रद्द करने के अपने फैसले के आधार के रूप में उद्धृत किया। यह खंड आरबीआई को इस तरह की कार्रवाई करने का अधिकार देता है यदि कोई इकाई स्वेच्छा से अपने पंजीकरण के प्रमाण पत्र को सरेंडर करती है। हालांकि आरबीआई ने इक्विटास होल्डिंग्स के फैसले के लिए विशिष्ट कारण नहीं बताए हैं, लेकिन यह ध्यान देने योग्य है कि कंपनी के पास सार्वजनिक धन नहीं है।

 

वित्तीय उद्योग पर प्रभाव

 

इक्विटास होल्डिंग्स द्वारा अपने एनबीएफसी लाइसेंस को सरेंडर करने के भारतीय वित्तीय उद्योग के लिए व्यापक प्रभाव हो सकते हैं। एनबीएफसी क्षेत्र में एक स्थापित खिलाड़ी के रूप में, इक्विटास होल्डिंग्स के बाहर निकलने से एक शून्य पैदा हो सकता है जो संभावित रूप से अन्य एनबीएफसी या यहां तक कि पारंपरिक बैंकों द्वारा भरा जा सकता है। इस विकास से वित्तीय सेवा क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा और नवाचार में वृद्धि हो सकती है, जिससे उपभोक्ताओं और व्यवसायों को लंबे समय में लाभ होगा।

 

निवेशक और ग्राहक चिंताएं

 

इक्विटास होल्डिंग्स का अपना एनबीएफसी लाइसेंस सरेंडर करने का फैसला इसके निवेशकों और ग्राहकों के बीच चिंता बढ़ा सकता है। शेयरधारक और निवेशक कंपनी की विकास और लाभप्रदता की क्षमता का आकलन करने के लिए कंपनी की भविष्य की योजनाओं और रणनीतियों की बारीकी से निगरानी कर सकते हैं। दूसरी ओर, ग्राहक अपने मौजूदा वित्तीय उत्पादों और सेवाओं की निरंतरता के बारे में आश्वासन मांग सकते हैं या यदि आवश्यक हो तो विकल्प तलाश सकते हैं।

Find More News Related to Banking

 

Federal Bank Launches 'I am Adyar, Adyar is Me' Campaign in Chennai_100.1

FAQs

इक्विटी होल्डिंग क्या है?

इक्विटी होल्डिंग का अर्थ व्यक्तियों के निकाय में पूंजी की होल्डिंग है, जब होल्डिंग धारक को वोट देने का अधिकार, वितरण के लिए उपलब्ध लाभ और उस कंपनी के समापन पर वितरण के लिए उपलब्ध संपत्ति और "इक्विटी शेयरधारक" की शर्तों का अधिकार देता है।