Home   »   चीन का वूशू खिलाड़ियों को नत्थी...

चीन का वूशू खिलाड़ियों को नत्थी वीज़ा विवाद: भारत-चीन संबंधों पर पड़ता असर

चीन का वूशू खिलाड़ियों को नत्थी वीज़ा विवाद: भारत-चीन संबंधों पर पड़ता असर_3.1

चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश के भारतीय नागरिकों को स्टेपल्ड वीज़ा जारी करने से दो पड़ोसी देशों के बीच विवाद और कूटनीतिक तनाव उत्पन्न हुआ है। इस अभ्यास में वीज़ा को पासपोर्ट पर सीधे छापने की जगह अलग एक टुकड़े में जोड़ा जाता है। हाल की घटना में तीन भारतीय वूशू खिलाड़ियों को स्टेपल्ड वीज़ा मिलने से भारत ने चेंगडू में होने वाले गर्मी विश्व विश्वविद्यालय खेलों से वूशू टीम की वापसी की।

नत्थी वीजा विवाद: भारतीय एथलीटों के लिए इसका क्या मतलब है

China's Use of Stapled Visas for Indian Athletes from Arunachal Pradesh: A Matter of Concern
China’s Use of Stapled Visas for Indian Athletes from Arunachal Pradesh: A Matter of Concern
  • वैधता से इनकार: चीन द्वारा नत्थी वीजा के उपयोग को अरुणाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर को भारत के अभिन्न अंग के रूप में मान्यता देने से इनकार के रूप में देखा जाता है। पासपोर्ट पर सीधे वीजा पर मुहर नहीं लगाकर, चीन का तात्पर्य है कि ये क्षेत्र विवादित क्षेत्र हैं, जो भारत की संप्रभुता को कमजोर करते हैं।

  • रिकॉर्डकीपिंग की कमी: नत्थी वीजा का डिजाइन चीन की यात्रा करने वाले भारतीय एथलीटों के लिए व्यावहारिक चुनौतियां पैदा करता है। अपने देश लौटने पर, नत्थी वीजा पर प्रवेश और निकास पास फाड़ दिए जाते हैं, जिससे उनकी यात्रा का कोई आधिकारिक रिकॉर्ड नहीं रहता है। रिकॉर्डकीपिंग की यह कमी भविष्य में एथलीटों के लिए संभावित जटिलताओं और कठिनाइयों का कारण बन सकती है।

हालिया घटना: भारत की कड़ी प्रतिक्रिया

  • चीन द्वारा तीन भारतीय वुशु खिलाड़ियों न्येमान वांगसू, ओनिलु तेगा और मेपुंग लामगु को नत्थी वीजा जारी करने के जवाब में भारत ने चेंगदू में होने वाले समर वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स से अपने वुशु दल को वापस बुलाकर कड़ा बयान दिया है। इस कदम ने चीन की कार्रवाइयों के प्रति भारत की अस्वीकृति को व्यक्त किया और मामले की गंभीरता को उजागर किया।

  • भारत सरकार ने चीन की कार्रवाईयों के साथ अपनी असंतुष्टि का अभिव्यक्त किया और इन्हें “अस्वीकार्य” बताया। विदेश मंत्रालय ने चीन के भारत के दूतावास में बुलाकर आपत्ति दर्ज करवाई, जिससे इस मुद्दे की गंभीरता और यह कि इसका द्विपक्षीय संबंधों पर कितना प्रभाव हो सकता है, को जोर दिया गया।

ऐतिहासिक संदर्भ: नत्थी वीजा के पिछले उदाहरण

  • चयनात्मक आवेदन: अरुणाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के भारतीय नागरिकों को नत्थी वीजा जारी करना कोई नई बात नहीं है। चीन ने 2000 के दशक के मध्य में अरुणाचल प्रदेश के निवासियों के लिए और 2009 से जम्मू-कश्मीर के निवासियों के लिए इस दृष्टिकोण का उपयोग करना शुरू किया। अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए वीजा नहीं दिए जाने की पिछली घटनाओं ने तनाव को और बढ़ा दिया।

  • खेल कूटनीति पर प्रभाव: 2011 एशियाई कराटे चैंपियनशिप और 2011 युवा विश्व तीरंदाजी चैम्पियनशिप सहित अंतरराष्ट्रीय आयोजनों के लिए क्षेत्र के एथलीटों को वीजा देने से इनकार करने से भारत और चीन के बीच खेल कूटनीति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है।

     Find More International News Here

Cambodia's Hun Sen to resign after four decades and appoint son as PM_100.1

FAQs

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी क्या है ?

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी इटानगर है।