Home   »   CDSL 60 मिलियन से अधिक डीमैट...

CDSL 60 मिलियन से अधिक डीमैट खातों को पंजीकृत करने वाला पहला डिपॉजिटरी बना

 

CDSL 60 मिलियन से अधिक डीमैट खातों को पंजीकृत करने वाला पहला डिपॉजिटरी बना |_50.1

1 मार्च, 2022 को, सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज (इंडिया) ने घोषणा की कि अब उसके पास छह करोड़ से अधिक (यानी 60 मिलियन के बराबर) सक्रिय डीमैट खाते हैं। डीमैट खाता एक प्रकार का खाता है जिसका उपयोग प्रतिभूतियों और शेयरों की ऑनलाइन प्रतियां रखने के लिए किया जा सकता है। डीमैट खाता अपने संपूर्ण रूप में एक डीमैटरियलाइज्ड खाता है। डीमैट खाते का मुख्य उद्देश्य उन शेयरों को रखना है जिन्हें खरीदा या डीमैटरियलाइज़ किया गया है (जिसका अर्थ है कि शेयरों के भौतिक से इलेक्ट्रॉनिक रूप में रूपांतरण), उपयोगकर्ताओं के लिए ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग को आसान बनाना है ।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

 हिन्दू रिव्यू जनवरी 2022, Download Monthly Hindu Review PDF in Hindi

प्रमुख बिंदु:

  • भारत में एकमात्र सूचीबद्ध डिपॉजिटरी सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज (इंडिया) लिमिटेड (सीडीएसएल) है।
  • अनंत बरुआ, पूर्णकालिक सदस्य, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड, ने इस उपलब्धि को मनाने के लिए एक समारोह में कहा कि उनके साथ भौतिक शेयरों के मुद्दों के परिणामस्वरूप डीमैटरियलाइजेशन उत्पन्न हुआ है।
  • बरुआ ने यह भी कहा कि नया मील का पत्थर दर्शाता है कि भारतीय प्रतिभूति बाजार तक पहुंच सुरक्षित, सुविधाजनक और सरल हो गई है।
  • इसके अलावा, बरुआ ने कहा कि नए निवेशकों को भारतीय प्रतिभूति बाजार, बाजार अवसंरचना संगठनों की भूमिका और निवेशक संरक्षण के बारे में शिक्षित होना चाहिए ताकि अच्छी तरह से सूचित निर्णय लिया जा सके।

बी वी चौबल (सीडीएसएल के अध्यक्ष) की प्रतिक्रिया:

बीवी चौबल ने दो बयान जारी किए:

  • अब हमारे पास 6 करोड़ डीमैट खाते हैं, हमारे पास अभी भी जनसंख्या के डीमैट खातों का अनुपात है, इसलिए हमारे देश की आबादी का एक बड़ा हिस्सा अभी भी भारतीय प्रतिभूति बाजारों से बाहर है, इसलिए विकास की बहुत बड़ी गुंजाइश है।
  • यह देखना उत्साहजनक है कि नए डीमैट खाता पंजीकरण का फोकस महानगरों से टियर II और टियर III स्थानों पर बदल रहा है, जो भारतीय पूंजी बाजार के विस्तार को दर्शाता है।

 
Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

TOPICS:

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *