Home   »   सीडीएस अनिल चौहान ने किया एआई,...

सीडीएस अनिल चौहान ने किया एआई, नेशनल सिक्योरिटी पुस्तक का अनावरण

सीडीएस अनिल चौहान ने किया एआई, नेशनल सिक्योरिटी पुस्तक का अनावरण |_30.1

सीडीएस जनरल अनिल चौहान ने पुणे के डिफेंस लिटरेचर फेस्टिवल “कलाम एंड कवच” में “आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड नेशनल सिक्योरिटी” नामक पुस्तक का अनावरण किया।

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल अनिल चौहान ने पुणे में रक्षा साहित्य महोत्सव, “कलाम एंड कवच” में एक महत्वपूर्ण घोषणा की। उन्होंने ‘आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड नेशनल सिक्योरिटी’ नामक एक अभूतपूर्व पुस्तक का अनावरण किया, जो भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को समकालीन राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीतियों के साथ मिश्रित करने में एक महत्वपूर्ण क्षण है।

परंपरा और नवीनता का एकीकरण

पुणे के प्रतिष्ठित आरएसएएमआई संस्थान में सेना दक्षिणी कमान द्वारा आयोजित इस महोत्सव में राष्ट्रीय सुरक्षा के क्षेत्र में परंपरा और नवीनता का एक उल्लेखनीय मिश्रण प्रदर्शित हुआ। मुख्य अतिथि जनरल अनिल चौहान ने आधुनिक सैन्य रणनीति के साथ सदियों पुराने ज्ञान को एकीकृत करने के महत्व पर जोर दिया।

प्राचीन भारतीय युक्तियों की प्रासंगिकता

अपने संबोधन में, सीडीएस चौहान ने आधुनिक युद्ध के संदर्भ में सन त्ज़ु की ‘आर्ट ऑफ वॉर’ और कौटिल्य के ‘अर्थशास्त्र’ जैसी प्राचीन भारतीय रणनीतियों की प्रासंगिकता पर प्रकाश डाला। कृत्रिम बुद्धिमत्ता और परमाणु युद्ध के प्रभुत्व वाले युग में उनकी प्रयोज्यता पर बहस के बावजूद, सीडीएस चौहान ने एक संतुलित दृष्टिकोण की वकालत की।

आधुनिक सैन्य रणनीति की खोज

सैन्य हथियार प्रणालियों और रणनीति में गहन परिवर्तनों को स्वीकार करते हुए, सीडीएस चौहान ने आधुनिक युद्ध के उभरते परिदृश्य को संबोधित किया। उन्होंने समकालीन सैन्य रणनीतियों के पूरक के लिए प्राचीन ज्ञान को अपनाने के महत्व को रेखांकित किया।

साहित्यिक योगदान का जश्न

महोत्सव में कई महत्वपूर्ण पुस्तकों के विमोचन का भी जश्न मनाया गया, जिनमें कर्नल अमित सिन्हा और विजय खरे की ‘एआई एंड नेशनल सिक्योरिटी’ शामिल हैं, जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड नेशनल सिक्योरिटी के अंतर्संबंध पर प्रकाश डालती हैं। इसके अतिरिक्त, अजय सिंह द्वारा लिखित “रूस, गाजा, ताइवान… ए वर्ल्ड एट वॉर” ने वैश्विक भू-राजनीति में अंतर्दृष्टि प्रदान की।

कारगिल युद्ध की 25वीं वर्षगांठ का जश्न

कारगिल युद्ध की 25वीं वर्षगांठ को दर्शाते हुए, यह त्योहार देश की संप्रभुता की रक्षा में भारत के सशस्त्र बलों द्वारा किए गए बलिदानों की मार्मिक याद दिलाता है। पेंटागन प्रेस के सीईओ राजन आर्य ने राष्ट्रीय सुरक्षा जटिलताओं के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए कंपनी की प्रतिबद्धता दोहराई।

रक्षा में आत्मनिर्भरता की ओर

‘आत्मनिर्भर भारत – भारत के रक्षा क्षेत्र को सशक्त बनाना’ शीर्षक वाले एक प्रमुख सत्र में श्री बाबा कल्याणी जैसे उद्योग जगत के नेताओं ने रक्षा में सच्ची आत्मनिर्भरता प्राप्त करने के लिए सहयोग के महत्व पर जोर दिया। चर्चा में भारत की रक्षा क्षमताओं को मजबूत करने के लिए नवाचार और स्वदेशी विकास की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया।

विशेषज्ञता का संगम

महोत्सव में वैश्विक संघर्षों से लेकर सुरक्षा में विरासत की भूमिका तक कई विषयों पर चर्चा करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ एक साथ आए। इसने विचारों और अंतर्दृष्टि के आदान-प्रदान के लिए एक मंच के रूप में कार्य किया, जिससे इतिहास, संस्कृति, रक्षा और सुरक्षा के बीच जटिल संबंध की गहरी समझ को बढ़ावा मिला।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. रक्षा साहित्य महोत्सव में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल अनिल चौहान द्वारा अनावरण की गई पुस्तक का शीर्षक क्या था?

2. रक्षा साहित्य महोत्सव, “कलाम एंड कवच” कहाँ आयोजित किया गया था?

3. महोत्सव में कारगिल युद्ध की कौन सी वर्षगांठ मनाई गई?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

सीडीएस अनिल चौहान ने किया एआई, नेशनल सिक्योरिटी पुस्तक का अनावरण |_40.1

FAQs

पेंटागन प्रेस के सीईओ कौन हैं?

पेंटागन प्रेस के सीईओ राजन आर्य हैं।