Home   »   अमित शाह ने किया दिल्ली में...

अमित शाह ने किया दिल्ली में ‘असम के ब्रेवहार्ट लाचित बरफुकन’ पुस्तक का अनावरण

अमित शाह ने किया दिल्ली में 'असम के ब्रेवहार्ट लाचित बरफुकन' पुस्तक का अनावरण |_30.1

केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने गुवाहाटी में ‘असम के ब्रेवहार्ट लाचित बरफुकन’ का विमोचन किया, जिसमें कट्टरता और सत्ता के भूखे तत्वों के खिलाफ लाचित के प्रतिरोध की प्रेरक कहानी को रेखांकित किया गया है।

केंद्रीय गृह मंत्री और सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने असम के गुवाहाटी में ‘असम के ब्रेवहार्ट लाचित बरफुकन’ पुस्तक का विमोचन किया। इस कार्यक्रम में असम के मुख्यमंत्री श्री हिमंत बिस्वा सरमा सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

लाचित बरफुकन: पूर्वोत्तर में वीरता का प्रतीक

अपने संबोधन में, श्री अमित शाह ने लाचित बरफुकन की उल्लेखनीय कहानी पर प्रकाश डाला, जिन्होंने पूर्वोत्तर में कट्टरता और सत्ता की भूखी ताकतों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में उनकी भूमिका के महत्व पर जोर देते हुए लाचित बरफुकन की तुलना पूर्वी भारत के छत्रपति शिवाजी महाराज से की।

सरायघाट लड़ाई: इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण

श्री शाह ने सरायघाट की लड़ाई के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि यदि लाचित विजयी नहीं होते तो असम शायद बांग्लादेश का हिस्सा बन गया होता। उन्होंने खिलजी से लेकर औरंगजेब तक के आक्रमणों को रोकने, असम की सुरक्षा करने और भारत के साथ क्षेत्र के एकीकरण में योगदान देने का श्रेय लाचित को दिया।

भारत के गौरवशाली अतीत की पुनः खोज

केंद्रीय गृह मंत्री ने इतिहास पढ़ाने में ब्रिटिश-केंद्रित दृष्टिकोण के बारे में चिंता व्यक्त की, जिसके कारण भारत की बहादुरी की प्राचीन कहानियाँ छूट गईं। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की पहल, आज़ादी का अमृत महोत्सव की सराहना की, जिसका उद्देश्य राष्ट्रीय चेतना को फिर से जागृत करना है।

आज़ादी का अमृत महोत्सव: कार्रवाई का आह्वान

श्री शाह ने आज़ादी का अमृत महोत्सव के तीन उद्देश्यों को रेखांकित किया: स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान के बारे में जागरूकता बढ़ाना, पिछले 75 वर्षों में भारत की उपलब्धियों का जश्न मनाना, और 2047 तक विश्व स्तर पर उत्कृष्ट भारत बनाने का संकल्प लेना। उन्होंने युवाओं में आत्मविश्वास पैदा करने में अभियान की सफलता पर जोर दिया।

लाचित बरफुकन के जीवन से सबक

श्री अमित शाह ने लचित बरफुकन के जीवन से सीखने को प्रोत्साहित किया और एक कमांडर के रूप में उनकी विनम्रता पर प्रकाश डाला, जिन्होंने आगे बढ़कर नेतृत्व किया। उन्होंने विकास के लिए सामूहिक प्रयास के महत्व पर जोर देते हुए विभिन्न सामुदायिक समूहों को एकजुट करने वाली सेना बनाने में बरफुकन के समावेशी दृष्टिकोण की सराहना की।

विवादों पर काबू पाना और एकता का निर्माण करना

असम में विवादों को संबोधित करते हुए गृह मंत्री ने युवाओं से कृत्रिम विवादों से ऊपर उठने का आग्रह किया। उन्होंने नौ समझौतों के जरिए विवादों को सुलझाने, चरमपंथी समूहों को मुख्यधारा में लाने का श्रेय प्रधानमंत्री मोदी को दिया। श्री शाह ने असम और पूर्वोत्तर के विकास के लिए एकजुट होने का आग्रह किया।

भाषाई विविधता का जश्न मनाना

श्री अमित शाह ने असम सरकार द्वारा सभी अनुसूचित भाषाओं में पुस्तक के अनुवाद को स्वीकार किया। उन्होंने कई भाषाओं की ताकत पर जोर दिया, भाषाई विविधता के लिए सम्मान का आग्रह किया और इसे राष्ट्र के लिए एक एकीकृत शक्ति माना।

कार्यों द्वारा परिभाषित नेतृत्व

गृह मंत्री ने यह कहते हुए निष्कर्ष निकाला कि नेतृत्व को केवल शब्दों से नहीं, बल्कि सकारात्मक निर्णयों से परिभाषित किया जाता है। उन्होंने साहित्य में असंख्य नायकों को प्रदर्शित करने, राष्ट्रीय स्वाभिमान को बढ़ावा देने और 2047 तक एक आत्मनिर्भर और पूर्ण विकसित भारत की कल्पना करने के प्रधान मंत्री मोदी के प्रयासों की सराहना की।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. पुस्तक विमोचन कार्यक्रम कहाँ आयोजित किया गया था?

2. पुस्तक के अनुसार, लाचित बरफुकन ने कौन सी लड़ाई लड़ी थी?

3. लचित बरफुकन ने किस क्षेत्र में कट्टरता के खिलाफ लड़ाई लड़ी?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें!!

अमित शाह ने किया दिल्ली में 'असम के ब्रेवहार्ट लाचित बरफुकन' पुस्तक का अनावरण |_40.1

FAQs

संसद ने कितने वर्ष पुराने भारतीय डाकघर अधिनियम को बदलने के लिए विधेयक पारित किया है?

संसद ने 125 वर्ष पुराने भारतीय डाकघर अधिनियम को बदलने के लिए विधेयक पारित किया है।